महज 4 वर्षों में ही नरेंद्र मोदी का जादू उतरने लगेगा, इस की उम्मीद किसी को न थी. पहले कर्नाटक और फिर हालिया उपचुनावों में हुई भाजपा की दुर्गति ने मोदी-शाह की जोड़ी के चमत्कार को भ्रम साबित कर डाला है.