हमारे देश की आधी आबादी यानी औरतें व लड़कियां न केवल हर क्षेत्र में कदम रख सकती हैं, बल्कि कामयाबी हासिल करते हुए समाज की दूसरी औरतों के लिए प्रेरणा भी बन सकती हैं.