राष्ट्रपति पद की दौड़ में लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी के नाम सब से आगे थे लेकिन सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले ने इन राजनीतिक दिग्गजों के सपनों पर पानी फेर दिया है.