ये चिराग देहाती मिट्टी के थे और गरीब घरों से निकल कर देश की सरहद तक पहुंचे थे.