सरस सलिल विशेष

लालच का भूत जब किसी आदमी पर सवार हो आता है, तो वह रातोंरात अमीर बनने का सपना पूरा करने के लिए बिना नतीजे की चिंता किए किसी भी हद तक चला जाता है, लेकिन कानून के शिकंजे में जब वह फंसता है, तो उस की सारी चालाकी धरी की धरी रह जाती है व उस के काले कारनामे सामने आ जाते हैं.

विनय अग्रवाल फर्जी आईजी बन गया, लेकिन उस के साथ जो 2 पुलिस वाले रहते थे, वे फर्जी नहीं थे. लालच का भूत उन पर भी सवार था. वे दोनों ही विनय अग्रवाल की पहचान आईजी के रूप में सभी से कराते थे व हरियाणा में पकड़े जाने का डर था, इसीलिए इन्होंने हिमाचल प्रदेश के जिला सोलन के औद्योगिक क्षेत्र बद्दी को इस काम के लिए चुना और उद्योग से जुड़े लोगों को डराधमका कर मोटी रकम वसूलना शुरू कर दिया.

ये 2 पुलिस वाले रविंद्र (सोनीपत) व जसवीर (जगाधरी) यमुनानगर में तैनात हैं. ये दोनों ही वरदी में इस नकली आईजी के साथ रहते थे, ताकि किसी को भी फर्जी आईजी पर शक न हो व इस इरादे में वे कामयाब भी रहे. उन्होंने डराधमका कर के लोगों से करोड़ों रुपए की उगाही कर ली.

सोनीपत के बाशिंदे विनय अग्रवाल का सालाना टर्नओवर करोड़ों में है. इस ने तकरीबन डेढ़ करोड़ रुपए की गैरकानूनी वसूली यहां से की है. उत्तराखंड (हरिद्वार) में आरोपी की फार्मा यूनिट?है. विनय अग्रवाल व शिकायत करने वाले में कारोबार की डील होती थी. शिकायत करने वाला वहां कई उत्पाद बनाता था. जब उन दोनों में खटपट हुई, तो नौबत शिकायत की आ गई.पुलिस ने एसआईटी का गठन किया व कई बातों से परदा उठाया.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • मनोहर कहानियां की दिलचस्प क्राइम स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की चटपटी गॉसिप्स
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
Tags:
COMMENT