अमरावती. हाल ही में आंध्र प्रदेश में 3 राजधानी का फार्मूला लाने वाले मुख्यमंत्री जगन  मोहन रेड्डी ने 27 जनवरी को विधानपरिषद को खत्म करने संबंधी प्रस्ताव को विधानसभा में पास कर दिया.

याद रहे कि जगन रेड्डी के ही पिता वाईएस रेड्डी ने साल 2007 में विधानपरिषद को बहाल कराया था, जबकि तेलुगु देशम पार्टी के संस्थापक एनटी रामाराव ने भी इस के 23 साल पहले साल 1985 में विधानपरिषद को खत्म कर दिया था.

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी का आरोप है कि 3 राजधानी वाले प्रस्ताव को रोकने के लिए विपक्षी दल टीडीपी विधानपरिषद में अपने बहुमत का गलत इस्तेमाल कर रही थी, जबकि विधानसभा में इस पर मुहर लग चुकी थी.

ममता ने भी नकारा

कोलकाता. देशभर में आग लगाने वाले नागरिकता संशोधन कानून को नकराते हुए केरल, पंजाब और राजस्थान ने अपनीअपनी विधानसभा में इस के विरोध में प्रस्ताव पास कर दिया था. इसी कड़ी में एक और नाम पश्चिम बंगाल का भी जुड़ गया और 27 जनवरी को संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ पश्चिम बंगाल विधानसभा में भी प्रस्ताव पास हो गया.

ये भी पढ़ें- पोस्टर वार के साथ चुनावी सरगर्मी

इस दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विधानसभा में कहा, ‘यह प्रदर्शन केवल अल्पसंख्यकों का नहीं, बल्कि सभी का है. इस आंदोलन का सामने से नेतृत्व करने के लिए मैं हिंदू भाइयों का धन्यवाद करती हूं. पश्चिम बंगाल में हम सीएए, एनआरसी, एनपीआर को लागू नहीं होने देंगे.’

उमर अब्दुल्ला को भेजा रेजर

चेन्नई. भारत के हैंडसम नेताओं में शुमार उमर अब्दुल्ला का श्रीनगर में हाल ज्यादा अच्छा नहीं है. कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने के बाद वहां इंटरनैट सेवाएं बहाल नहीं थीं. अभी हाल ही में उन्हें दोबारा बहाल किया गया तो इस प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके उमर अब्दुल्ला का एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिस में उन की दाढ़ी बहुत ज्यादा बढ़ी हुई नजर आ रही थी.

इसी फोटो पर तंज कसते हुए मंगलवार, 28 जनवरी को तमिलनाडु भाजपा ने उमर अब्दुल्ला को शेविंग रेजर भेज दिया और साथ ही कांग्रेस को भी लपेटे में ले लिया कि उमर अब्दुल्ला को ऐसे देखना निराशाजनक है, जबकि उन के कई ‘भ्रष्ट’ दोस्त बाहर ऐंजौय कर रहे हैं.

मायावती का सवाल

लखनऊ. नागरिकता संशोधन कानून पर उस समय और ज्यादा बहस तीखी हो गई, जब पाकिस्तानी मूल के गायक अदनान सामी को केंद्र सरकार ने ‘पद्मश्री अवार्ड’ दे दिया.

इस से नाराज बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने 28 जनवरी को कहा कि अगर पाकिस्तानी मूल के किसी गायक को नागरिकता और सम्मान मिल सकता है, तो पाकिस्तानी मुसलिमों को भी नागरिकता संशोधन कानून के तहत देश में शरण मिलनी चाहिए.

मायावती ने केंद्र की मोदी सरकार को इस कानून पर दोबारा विचार करने की नसीहत भी दी.

प्रवेश वर्मा के बिगड़े बोल

नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को किसी भी मुद्दे पर घेरने में नाकाम रही भाजपा ने उस के नेताओं पर ही देशद्रोही होने के आरोप लगा दिए.

29 जनवरी को भाजपाई नेता प्रवेश वर्मा ने एक चुनावी रैली में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ही नक्सली और आतंकी कह डाला.

ये भी पढ़ें- नागौर में बर्बरता की हद पार: पेट्रोल से गीले कपड़े को प्राइवेट पार्ट में डाला

पश्चिमी दिल्ली से भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने शाहीन बाग के बाद अरविंद केजरीवाल को निशाने पर लेते हुए कहा, ‘जैसे आतंकी और नक्सली देश को नुकसान पहुंचाते हैं, सड़कों को तोड़ते हैं, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं, वही काम मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी कर रहे हैं.’

उद्धव ने सराहा

मुंबई. महाराष्ट्र का नया मुख्यमंत्री बनने के बाद भले ही उद्धव ठाकरे की शिव सेना और भाजपा अलगअलग राह पर चल पड़ी हैं, फिर भी उद्धव ठाकरे ने 29 जनवरी को एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री रह चुके देवेंद्र फडणवीस और भाजपाई नेता नितिन गडकरी की जम कर तारीफ की और उन दोनों को राज्य के विकास के लिए कदम उठाने का क्रेडिट दिया.

इस सिलसिले में उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘हम सरकार का हिस्सा थे. भले ही हम एक ट्रेन में नहीं थे, लेकिन आज हम एक ही स्टेशन पर आ खड़े हुए हैं. राजनीति में जब किसी काम के क्रेडिट की बात आती है, तो एक नेता तब तक नेता नहीं होता जब तक वह क्रेडिट न ले, लेकिन मैं नम्रता से कहना चाहता हूं कि हमें क्रेडिट नहीं, लोगों का आशीर्वाद चाहिए.’

दिखाया बाहर का रास्ता

पटना. कभी जनता दल (यूनाइटेड) को बिहार में सत्ता का स्वाद चखाने वाले प्रशांत किशोर को इस पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है. उन के साथ पवन वर्मा को भी चलता कर दिया है.

29 जनवरी को जद (यू) के प्रधान महासचिव और राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने अपने बयान में कहा कि पिछले कई महीनों से दल के अंदर पदाधिकारी रहते हुए प्रशांत किशोर ने कई विवादास्पद बयान दिए, जो दल के फैसले के खिलाफ थे. किशोर और ज्यादा नहीं गिरें, इस के लिए जरूरी है कि वे पार्टी से मुक्त हों.

इसी तरह केसी त्यागी ने पवन वर्मा के बारे में भी कहा कि पार्टी अध्यक्ष को चिट्ठी लिख कर उसे सार्वजनिक करना, उस में निजी बातों का जिक्र करना और उसे सार्वजनिक करना यह दिखाता है कि दल का अनुशासन उन्हें स्वीकार नहीं है.

बढ़ा बेरोजगारी भत्ता

भोपाल. मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ की सरकार ने बेरोजगारों को लुभाने के लिए नया काम शुरू किया है. राज्य के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने 29 जनवरी को संवाददाताओं को बताया, ‘राज्य के शहरी गरीब नौजवानों के लिए 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराने के लिए ‘मुख्यमंत्री युवा स्वाभिमान योजना’ चलाई गई है. इस योजना में नौजवानों को ट्रेनिंग के साथ 4,000 रुपए मासिक मानदेय दिया जाता है. इसे बढ़ा कर अब 5,000 रुपए किया जा रहा है.’

ये भी पढ़ें- भूपेश बघेल की अमेरिका यात्रा के कुछ यक्ष-प्रश्न

जेल से बाहर आते ही धरे गए

गांधीनगर. एक समय गुजरात में नई क्रांति के अगुआ माने गए हार्दिक पटेल ने पूरे देश को हिला दिया था. फिर वे राजनीति में आए और  कांग्रेस में शामिल हो गए. फिलहाल वे जेल में बंद थे और जमानत पर साबरमती जेल से बाहर आए थे, पर गुरुवार, 30 जनवरी को महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें फिर से गिरफ्तार कर लिया गया.

हार्दिक पटेल को साल 2017 के एक मामले में गांधीनगर जिला पुलिस ने गिरफ्तार किया.

Tags:
COMMENT