रजनीकांत को हजार दफा सोचना पड़ेगा कि तमिलनाडु के हित वे कहां सुरक्षित रख पाएंगे, भाजपा में जाकर या फिर खुद की पार्टी बनाकर.