नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पानी पीपी कर कोसने वाली भारतीय जनता पार्टी अब लगता है कि आने वाले विधानसभा चुनाव में उन्हीं के पैतरे आजमाना चाहती है तभी तो उस ने ऐलान किया है कि अगले विधानसभा चुनावों में वह अपना घोषणापत्र जनता की राय ले कर बनाएगी.

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने बताया कि सोमवार, 8 जुलाई को हुई एक बैठक में फैसला लिया गया था कि ‘दिल्ली के मन की बात, बीजेपी के साथ’ अभियान चलाया जाएगा. सदस्यता अभियान के साथ इस कवायद की शुरुआत हो चुकी है.

पार्टी नेता अलगअलग इलाकों में जा कर लोगों से बात कर के उन की राय जानेंगे और पार्टी अपना चुनावी घोषणापत्र तैयार करेगी. पार्टी जनता से जुड़े तमाम मुद्दों पर कानूनी राय भी लेगी, ताकि आगे चल कर कानूनी अड़चनों का सामना न करना पड़े.

लौट आए अखिलेश यादव

लखनऊ. पिछले लोकसभा चुनाव में मायावती के साथ महागठबंधन बना कर भाजपा से लोहा लेने का फार्मूला फुस होने के बाद समाजवादी पार्टी के सर्वेसर्वा अखिलेश यादव राजनीति से थोड़ा कट से गए थे, पर जुलाई महीने के दूसरे हफ्ते में वे पूरे जोश के साथ वापस अपने कार्यालय में आ गए.

उत्तर प्रदेश की 12 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं. उम्मीद जताई जा रही है कि समाजवादी पार्टी इन चुनावों के लिए अपनी तैयारियां शुरू करेगी. वैसे, पार्टी कार्यकर्ताओं को बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती के रुख पर अखिलेश यादव के कुछ कहने का अब भी इंतजार है.

ये भी पढ़ें- हरेली त्योहार: मुख्यमंत्री की राजनीति या सच्ची श्रद्धा!

राहुल आए रंग में

अहमदाबाद. राहुल गांधी भाजपा पर हमला करने से नहीं चूक रहे हैं और प्रधानमंत्री के गढ़ में जा कर जनता के सामने अपनी बात रख रहे हैं.

राहुल गांधी ने शुक्रवार, 12 जुलाई को आरोप लगाया कि भाजपा सरकारें गिराने के लिए ‘धनबल’ और ‘डरानेधमकाने’ का सहारा ले रही हैं.

याद रहे कि कर्नाटक में 13 महीने पुरानी कांग्रेस और जद (एस) की गठबंधन सरकार से 2 निर्दलीय विधायकों ने समर्थन वापस ले लिया है और कांग्रेस के 13 विधायकों समेत कुल 16 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं.

राहुल गांधी मानहानि के एक मामले में मैट्रोपोलिटन अदालत के सामने पेशी के लिए अहमदाबाद आए हुए थे. मानहानि का यह मामला अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक की तरफ से दायर किया गया है जिस में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एक निदेशक हैं. राहुल गांधी ने खुद को बेकुसूर बताया और उन्हें इस मामले में जमानत मिल गई.

मानहानि के कानून का आजकल अखबारों और राजनीतिबाजों को अदालतों में घसीटने के लिए जम कर इस्तेमाल किया जा रहा है.

ममता हुईं ममतामयी

कोलकाता. ममता बनर्जी ने साबित कर दिया है कि राजनीति उन के खून में बसी है. हाल के लोकसभा चुनाव में भाजपा के बढ़ते दबदबे के बाद उन्होंने खूब कड़े तेवर दिखाए थे और पूरे दमखम के साथ लोहा लिया था. पर जब बात नहीं बनी और उन्हें लगा कि इस से पार्टी को आने वाले विधानसभा चुनाव में नुकसान हो सकता है तो वे मोम की तरह पिघल गईं और गुरुवार, 11 जुलाई को तृणमूल कांग्रेस के सभी विधायकों से कहा कि वे और विनम्र हो कर जनता से मिलें और अपनी पिछली गलतियों के लिए उन से माफी मांगें.

सरस सलिल विशेष

लगता है कि लोकसभा चुनाव में मिले करारे झटके के बाद से ममता बनर्जी बहुतकुछ नया सीख गई हैं और अभी से ही विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जीजान से जुट गई?हैं.

‘दिग्गी राजा’ का दांव

पुणे. अपने चहेतों में ‘दिग्गी राजा’ के नाम से मशहूर कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार, 12 जुलाई को कर्नाटक और गोवा के हालात पर दावा किया कि नोटबंदी के दौरान भाजपा ने खूब पैसा बनाया और अब उसी पैसे का इस्तेमाल कर पार्टी विधायकों को खरीद रही है. विधायकों को ऐसे खरीदा जा रहा है जैसे बाजार से सामान खरीदा जाता है.

ये भी पढ़ें- मायावती का मिशन अधूरा

हालांकि, दिग्विजय सिंह ने यह भी कहा कि मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार पूरी तरह सुरक्षित है. मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास 121 विधायकों का समर्थन है.

पत्नियों की सरकार से गुहार

श्रीनगर. जम्मूकश्मीर पर अपना नियंत्रण बनाने के मनसूबे पालने वाली भाजपा के सामने एक नई चुनौती आ गई है. बात यह है कि भारतपाकिस्तान नियंत्रण रेखा के उस पार से एक पुनर्वास योजना के तहत वापस आए पूर्व कश्मीरी आतंकवादियों की पाकिस्तानी पत्नियों ने शुक्रवार, 12 जुलाई को केंद्र और राज्य सरकारों से अपील की थी कि उन्हें या तो भारतीय नागरिकता दी जाए या फिर वापस भेज दिया जाए.

ऐसी महिलाओं में शामिल ऐबटाबाद की रहने वाली तैयबा ने कहा, ‘‘हम कुल 350 महिलाएं हैं. हमें यहां का नागरिक बनाया जाए, जैसा किसी भी देश में पुरुषों के साथ विवाह करने वाली महिलाओं के साथ होता है. हम भारत सरकार और राज्य सरकार से अपील करती हैं कि या तो हमें पासपोर्ट प्रदान किए जाएं या वापस जाने के लिए यात्रा दस्तावेज प्रदान किए जाएं.’’

हिमाचल के नए राज्यपाल

शिमला. भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता कलराज मिश्र को हिमाचल प्रदेश का नया राज्यपाल बनाया गया है. याद रहे कि कभी उत्तर प्रदेश और भारतीय राजनीति के कद्दावर नेता रहे कलराज मिश्र को नरेंद्र मोदी सरकार के 2014 से 2019 के पहले कार्यकाल में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार सौंपा गया था, हालांकि उन्होंने साल 2017 में ही मंत्री पद छोड़ दिया था. इस के बाद कलराज मिश्र ने साल 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था.

कलराज मिश्र को आचार्य देवव्रत की जगह हिमाचल प्रदेश का राज्यपाल बनाया गया है

जबकि आचार्य देवव्रत को गुजरात का राज्यपाल बनाया गया है.

विज के फिर बिगड़े बोल

अंबाला. हरियाणा के बड़े भाजपाई नेता और राज्य सरकार में मंत्री अनिल विज ने बड़ी ओछी बात कह दी. हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दिए गए इस्तीफे पर अंबाला में 6 जुलाई को अनिल विज ने कहा, ‘‘यह तो उन का फैमिली ड्रामा है. राजीव गांधी ने कहा था कि जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है, लेकिन उन के बेटे राहुल ने इस्तीफा दिया तो एक कुत्ता भी नहीं भूंका.’’

इस से पहले फरवरी, 2019 में अनिल विज ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तुलना ‘रामायण’ की एक किरदार ताड़का से की थी. तब उन्होंने कहा था, ‘‘छोटे होते थे जब रामलीला देखने जाया करते थे तो उस में एक सीन आया करता था कि ऋषिमुनि जब यज्ञ किया करते थे तो ताड़का आ कर उस में रुकावट डाल दिया करती थी. ठीक उसी तरह की भूमिका ममता बनर्जी कर रही हैं.’’

लगेगी चुनावी पाठशाला

रायपुर. छत्तीसगढ़ में वोटरों में जागरूकता लाने के लिए चुनाव पाठशाला की शुरुआत की जाने वाली है. इन पाठशालाओं में रोचक खेल और मनोरंजक कार्यक्रमों का सहारा लिया जाएगा. वैसे, राज्य में लोकसभा और विधानसभा चुनाव में वोटिंग के प्रति जागरूक करने के लिए चुनावी पाठशालाएं लगाई गई थीं जिन में चुनावी साक्षरता क्लबों का भी सहारा लिया गया था.

ये भी पढ़ें- RTI: क्या सरकार ने सूचना का अधिकार कानून की 

संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी समीर विश्नोई का इस मसले पर कहना है कि पिछले विधानसभा और लोकसभा चुनाव के दौरान चुनावी साक्षरता

क्लब के जरीए बेहतर काम किया गया था. इस से छत्तीसगढ़ में वोटरों में जागरूकता बढ़ी है.        द्य

Tags:
COMMENT