धर्म की आड़ में धर्म के ठेकेदार जनता को यों ही बहलाते फुसलाते रहेंगे, पर जनता कब तक दिमाग की खिड़की बंद किए उन के पीछे पीछे चलती रहेगी?