1 जनवरी, 1994 को हरियाणा के हिसार जिले के एक गांव बुढ़ाना में जनमी पूजा ढांडा के पांव उन के एथलीट पिता अजमेर सिंह ने पालने में ही पहचान कर इस कहावत को गलत साबित कर दिया था कि सिर्फ पूत के पांव ही पालने में पहचाने जा सकते हैं.

बाद में इस बात को पूजा ढांडा ने भी सच साबित किया. उन्होंने पहले मिट्टी के अखाड़े में और बाद में मैट पर भी अपनी पहलवानी का ऐसा जलवा दिखाया कि दुनिया वाहवाह करने लगी. वे साल 2019 में स्पेन की राजधानी मैड्रिड में हुए कुश्ती के ग्रांप्री इंटरनैशनल टूर्नामैंट में 57 किलोग्राम भारवर्ग में सिल्वर मैडल विजेता थीं. उन्होंने साल 2018 में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में सिल्वर मैडल जीता था. इतना ही नहीं, उन्होंने साल 2018 में ही बुडापेस्ट में हुई वर्ल्ड चैंपियनशिप में ब्रौंज मैडल हासिल किया था.

ये भी पढ़ें- वंदना हेमंत पिंपलखरे : कराटे से काटे जिंदगी के दर्द

अपनी इस कामयाबी का राज खोलते हुए पूजा ढांडा बताती हैं, ‘‘मुझे लड़कों के साथ कुश्ती की प्रैक्टिस करना अच्छा लगता है, क्योंकि उन में ज्यादा ताकत, दमखम और रफ्तार होती है, जिस से मुझे अपना खेल सुधारने में मदद मिलती है.’’

परिवार ने बढ़ाया हौसला

पूजा ढांडा बताती हैं, ‘‘मुझे शुरू से ही खेलों से लगाव रहा है. बचपन में मैं अपने पिता के साथ सुबह दौड़ने जाती थी. जब मैं कुश्ती खेलने लगी तो गांव में बहुत से लोगों ने मुझे ताने मारे थे. पिता को भी लगता था कि अगर मुझे ज्यादा गंभीर चोट लग गई, तो मेरी शादी करने में दिक्कतें आ सकती हैं.

‘‘सब से बड़ी समस्या तो यह है कि आज भी लड़कियों के लिए गांवदेहात में हालात ज्यादा सुधरे नहीं हैं. उन्हें अपनी जिंदगी के फैसले लेने की आजादी नहीं मिली है. उन्हें अगर परिवार का सहयोग मिल भी जाता है, तो समाज कई तरह के रोड़े अटका देता है, पर इन सब बातों से उठ कर ही कोई लड़की देशदुनिया में नाम कमा सकती है.

‘‘मुझे इस मुकाम तक लाने में मेरी मां कमलेश का बहुत बड़ा योगदान है. उन्होंने मुझे कभी अपने सपने पूरे करने से नहीं रोका. उन्होंने मेरी डाइट का खयाल रखा और दूसरी सभी चीजों का भी ध्यान रखा. खेलने के लिए जब कभी मुझे गांव या शहर से बाहर जाना होता था, तो उन्होंने कभी मना नहीं किया.’’

कोच बहुत जरूरी

पूजा ढांडा का मानना है कि किसी खिलाड़ी को बनाने में कोच का बड़ा योगदान होता है. अगर बड़े लैवल पर किसी महिला पहलवान को कोई पुरुष कोच मिल जाता है, तो इस में घबराने की बात नहीं होती है. बस, कोच के साथ तालमेल जरूर बिठाना पड़ता है.

ये भी पढ़ें- श्वेता मेहता : हादसों से हार नहीं मानती यह जांबाज

पूजा ढांडा बताती हैं, ‘‘सब से पहली चीज है अपने कोच पर भरोसा करना. बड़े लैवल पर महिला पहलवानों को कोचिंग देने वाले पुरुष कोच बड़े अनुभवी होते हैं. उन का फोकस हमारे खेल को सुधारने पर रहता है.’’

यही वजह है कि आज जब भी पूजा ढांडा कुश्ती के मैट पर उतरती हैं, तो फौलाद में बदल जाती हैं और सामने वाली पहलवान को धूल चटा देती हैं. वे नई पीढ़ी को खासकर लड़कियों को संदेश देते हुए कहती हैं, ‘‘कभी भी हिम्मत न हारें. लड़कियों को फिट और हिम्मती बनाने में खेलों का बड़ा अहम योगदान है. इस से आत्मविश्वास बढ़ता है और नाम भी बनता है.’’

Tags:
COMMENT