गुजारा भत्ता कानून का महिलाओं द्वारा बारबार दुरुपयोग किए जाने के चलते अदालतें अब चौकन्नी हो गई हैं.