महाराष्ट्र के सतारा जिले की सुरेखा कालेल में उस समय अपना काम करने की भावना जागी, जब खेतीबारी से उन का परिवार भरपेट खाने में नाकाम हो रहा था.