कंगाल होते सूबे की दयनीय हालत किसी सुबूत की मुहताज नहीं रही जो किसी द्वैत अद्वैतवाद से तो हल होने से रही.