ऑनलाइन गेम्स आज एक बड़ी चिंता का सबब बन गया है. परिणाम स्वरूप देश की उच्चतम न्यायालय अर्थात सुप्रीम कोर्ट ने भी इस पर संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार को आदेश दिए हैं. आज नौनिहालों में फैलता ऑनलाइन गेम्स का यह भयावह प्रकोप जहां उनके जीवन के लिए स्याह पक्ष बन चुका है . यह एक राष्ट्रीय चिंता का विषय बन कर सामने है. इससे अगर निजात नहीं पाई गई तो भावी पीढ़ी पर इसका जो भयावह असर देखने को मिलेगा उसके लिए हमें तैयार रहना होगा.

ऐसे में‌ हमारे लिए यह चिंता का विषय है कि किस तरह नौनिहालों को इस संजाल से बचाया जा सके.
दरअसल, कोविड-19 महामारी ने बच्चों सहित घर के सभी सदस्यों को घर पर ही एक प्रकार से बंधक बना दिया है.बच्चों की पढ़ाई भी ऑनलाइन ही हो रही है . ऑनलाइन अध्ययन भले ही बच्चों के लिए वर्तमान समय के अनुसार विवशता ही है लेकिन यही विवशता शनैः-शनैः बच्चों के लिए घातक भी सिध्द हो रही है. कई बच्चे ऑनलाइन गेम के आदी होते जा रहे हैं .वे अपने अभिभावकों से ऑनलाइन अध्ययन के नाम से मोबाइल लेते हैं पर उन्हें जैसे ही समय मिलता है वे ऑनलाइन गेम्स खेलना आरंभ कर देते हैं .

दरअसल,निरंतर मोबाइल स्क्रीन में नजरें टिकाने से आँखों पर बुरा प्रभाव तो पड़ता ही है साथ ही साथ यदि ऑनलाइन गेम्स के आदी हो रहें हैं इससे बच्चे मानसिक रूप से भी विकलांग हो रहे हैं .
आए दिन अपने आसपास और समाचार पत्रों में इसके दुष्प्रभाव के बारे में पढ़ते रहते हैं यहाँ तक कि ऑनलाइन गेम इतना घातक है कि कई बच्चों में अपराध का भाव भी पैदा हो जाता है और वे इनते अग्रेसिव हो जाते हैं कि कुछ भी अपराध कर जाते हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • मनोहर कहानियां की दिलचस्प क्राइम स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की चटपटी गॉसिप्स
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
Tags:
COMMENT