देश की बड़ीबड़ी आईटी कंपनियां आजकल ऐक्सपैंशन प्लान नहीं बना रही हैं, वे आजकल वीडिंग आउट प्लान बना रही हैं. उम्मीद है कि इन्फोसिस, विप्रो, कोगनीजैंट जैसी कंपनियां 50 हजार से 1 लाख कर्मचारियों की तो छंटनी कर देंगी. एक तो पश्चिमी देशों में भी प्रगति की रफ्तार कम हो गई है और दूसरी तरफ अमेरिका के खप्ती राष्ट्रपति डौनल्ड ट्रंप अमेरिका फौर अमेरिकंस का राग अलाप रहे हैं. उन की देखादेखी दूसरे देश भी डिफैंसिव मोड में आ गए हैं और बाहरी युवाओं का रास्ता रोक रहे हैं और अपने देश का आईटी बिजनैस बाहर जाने पर पाबंदियां लगा रहे हैं.

भारतीय युवाओं के लिए यह बुरी खबर है क्योंकि सरकारी नौकरियों का तो वैसे ही अकाल है. निजी क्षेत्र में व्यापार व उद्योग बढ़ रहे हैं पर कम. ज्यादा तकलीफ यह है कि छोटे निजी हों या बड़े सरकारी रोजगार देने वाले, वे ट्रेनिंग देने के इच्छुक नहीं हैं और सीखेसिखाए लोगों को ही रखना चाहते हैं.

भारतीय युवा वैसे भी कम उत्साही हैं. हमारे यहां हरेक में भारी जंग लगा है. जातिगत अहंकार के कारण जो ज्यादा पढ़ेलिखे हैं वे हाथ का काम नहीं करना चाहते और जो मजबूरी में हाथ का काम करने को तैयार हैं वे नया जानने को उत्सुक नहीं हैं. ऐसे में पुरानी नौकरियां कम हो जाएं और नई नौकरियां न निकलें तो स्थिति गंभीर हो जाएगी.

यह दुनिया के कई देशों में हो रहा है जहां मौजमस्ती, ड्रग्स, नाचगाने, भक्ति, सैक्स का बोलबाला है. वहां लोग सोचते हैं कि काम अपनेआप टपकेगा. कोई नौकरी देगा, चाहे सरकार दे या देवीदेवता. वे खाने को, हल्ले को तैयार हैं, काम करने को नहीं.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरस सलिल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...