भारत के ज्यादातर हिस्सों में जब किसी के घर में शादीब्याह की शहनाइयां बजती हैं या किसी बच्चे का जन्म होता है तो वहां अमूमन किन्नर अपना नेग लेने पहुंच जाते हैं. बहुत से लोग उन की अच्छी खातिरदारी करते हैं और उन्हें खूब नेग भी देते हैं, पर बहुत से गरीब लोग ऐसा नहीं कर पाते हैं या जो लोग उन्हें नेग नहीं देना चाहते हैं तो किन्नर बेशर्मी पर उतर कर उन से लड़ाई-झगड़ा भी कर लेते हैं.

ऐसा ही कुछ गुजरात के सूरत में हुआ जहां कुछ किन्नरों ने ऐसी गुंडागर्दी मचाई कि एक नवजात बेटे के पिता को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा. बात यह थी कि बच्चे के जन्म लेने पर किन्नरों ने मनचाहा नेग 11000 रुपए मांगे और जब वे नहीं मिले तो उन्होंने पिता को पीटपीट कर अधमरा कर दिया. घायल पिता को अस्पताल में भरती कराया गया लेकिन 2 दिन जिंदगी और मौत के बीच जूझ कर उस ने सोमवार को दम तोड़ दिया.

ये भी पढ़ें- जिस्म की खातिर किया इश्क

दरअसल, सूरत के रहने वाले गहरीलाल खटीक 2 बेटियों के पिता थे और हाल ही में उन के घर बेटे का जन्म हुआ था. लेकिन परिवार में बेटे के जन्म की खुशी ज्यादा दिनों तक टिक नहीं पाई. 3 किन्नरों के लालच ने इस खुशी को गम में बदल दिया.

वे किन्नर सूरत शहर के गोड़ादरा इलाके में बनी मानसरोवर सोसाइटी में किराए के घर में रह रहे गहरीलाल खटीक के घर नेग लेने पहुंचे थे. उन्होंने गहरीलाल खटीक से 11000 रुपए की डिमांड की थी लेकिन पेशे से मजदूर गहरीलाल ने किन्नरों को 2100 रुपए देने की बात कही. इस बात पर किन्नर भड़क गए और उन्होंने बवाल मचाना शुरू कर दिया.

इतना ही नहीं उन किन्नरों ने अपने कपड़े उतार दिए, जिस के बाद खटिक परिवार ने पड़ोसियों से 7000 रुपए उधार ले कर उन के हाथ में थमा दिए. लेकिन फिर भी किन्नर नहीं माने और उन्होंने गहरीलाल को पीटना शुरू कर दिया और उन के सिर को दीवार पर पटक दिया, जिस से उन के दिमाग की नसें फट गईं और उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया. इस बीच वे तीनों किन्नर मौके से फरार हो गए.

ये भी पढ़ें- प्यार में हद पार करने का खतरनाक नतीजा

अब गहरीलाल खटीक की मौत हो गई है. पीड़ित परिवार ने सूरत के लिंबायत थाने में उन किन्नरों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है, जिस के आधार पर पुलिस ने तीनों किन्नरों को गिरफ्तार कर लिया है.

Tags:
COMMENT