अपराधों की रफ्तार देख कर सोचने पर मजबूर होना पड़ता है. समाज के खिलाफ कोई काम या गलती करना या कराना कानून की नजर में अपराध माना गया है.