निखिल अग्रवाल

इसी साल अप्रैल महीने की बात है. मध्य प्रदेश के इंदौर शहर की एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र से एक युवक मिलने पहुंचा. उस ने अपना नाम शुभम साहू
और पता राजनगर एक्सटेंशन का बताया. युवक ने झिझकते हुए एसएसपी से कहा, ‘‘मैडम, मैं परेशान हूं. आप को एक महत्त्वपूर्ण सूचना देना चाहता हूं.’’
एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने युवक को सामने रखी कुरसी पर बैठने का इशारा करते हुए कहा, ‘‘शुभम, तुम क्या बताना चाहते हो, खुल कर बताओ. हम से जो मदद हो सकेगी, करेंगे.’’
‘‘मैडम, बात दरअसल यह है कि कुछ लोग फरजी आयकर अफसर बन कर लोगों को नौकरी दिलाने के नाम पर बेवकूफ बना रहे हैं. इस के एवज में वे मोटी रकम लेते हैं.’’ शुभम ने डरतेडरते बताया.
‘‘तुम्हें यह बात कैसे पता चली कि वे फरजी तरीके से आयकर विभाग में नौकरी लगवा रहे हैं.’’ एसएसपी ने सवाल किया.
एसएसपी के सवाल पर शुभम चुप हो गया. इस पर एसएसपी ने उसे भरोसा दिलाते हुए पूछा, ‘‘वे कौन लोग हैं और कहां रहते हैं.’’
‘‘मैडम, मैं जौब की तलाश में था. इस बीच मेरे दोस्त पवन सोलंकी ने एक दिन मेरी मुलाकात देवेंद्र डाबर से करवाई.’’ शुभम ने धीरेधीरे कहा, ‘‘देवेंद्र डाबर ने खुद को इनकम टैक्स का चीफ इनवैस्टीगेशन औफिसर बताया था.’’
आयकर विभाग के चीफ इनवैस्टीगेशन औफिसर की बात सुन कर इस मामले में एसएसपी की भी दिलचस्पी बढ़ गई. उन्होंने अर्दली से कह कर शुभम के लिए पानी मंगवाया. शुभम ने पानी पी लिया तो एसएसपी ने उस से कहा, ‘‘देवेंद्र डाबर से मुलाकात में आप की क्या बात हुई?’’
एसएसपी के प्यार भरे व्यवहार से शुभम की झिझक कम हो गई थी. उस ने कहा, ‘‘मैडम, देवेंद्र का शानदार औफिस है. उस के पास खाकी वरदीधारी चपरासी, ड्राइवर, सरकारी गाड़ी और कई लोगों का स्टाफ है.’’

ये भी पढ़ें- एक और निर्भया…

‘‘अरे वाह, इतना सारा स्टाफ, सरकारी गाड़ी वगैरह सब कुछ है.’’ एससपी ने शुभम की बातों पर शंका जताते हुए कहा, ‘‘कहीं ऐसा तो नहीं कि जिसे तुम फरजी आयकर अफसर बता रहे हो, वह वास्तव में ही सरकारी अफसर हो?’’
‘‘नहीं मैडम, देवेंद्र डाबर पूरी तरह फरजी है.’’ शुभम ने अपनी बात मजबूती से रखते हुए कहा, ‘‘मैं ने उस से जौब के बारे में कहा, तो उस ने मेरी 10वीं और 12वीं की मार्कशीट तथा 4 पासपोर्ट साइज की फोटो ले लीं. देवेंद्र ने मुझे फील्ड अफसर की नौकरी देने की बात कही थी.
‘‘मैं नौकरी करने लगा. कई महीने नौकरी करने के बाद भी मुझे वेतन नहीं मिला. मैं ने देवेंद्र से इस बारे में कई बार कहा तो उस ने भारत सरकार से बजट नहीं आने की बात कही.’’ शुभम ने बताया, ‘‘वेतन नहीं मिलने से मैं परेशान हो गया. फिर मैं ने अपने स्तर पर जानकारी जुटाई, तो पता चला कि देवेंद्र ने इसी तरह आयकर विभाग में नौकरी देने के नाम पर कई लोगों से लाखों रुपए ले रखे हैं.’’
शुभम की सारी बातें सुनने के बाद एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र कुछ देर सोचती रहीं. फिर उन्होंने शुभम से लिखित में एक शिकायत देने को कहा. इसी के साथ उन्होंने देवेंद्र के औफिस और कामकाज के बारे में सवाल कर शुभम से कई जानकारियां लीं.
एसएसपी ने ये जानकारियां अपनी डायरी में नोट कर लीं. फिर शुभम को आश्वस्त किया कि हम इस मामले की जांच कराएंगे. अगर देवेंद्र डाबर फरजी आयकर अफसर बन कर लोगों से इस तरह की धोखाधड़ी कर रहा है तो उस पर काररवाई जरूर की जाएगी. एसएसपी को लिखित शिकायत दे कर शुभम वहां से चला आया.
शुभम के जाने के बाद एसएसपी ने पूरे मामले पर गंभीरता से विचार किया. फिर एएसपी अमरेंद्र सिंह को देवेंद्र डाबर के बारे में बता कर सूचनाएं जुटाने को कहा.
एएसपी अमरेंद्र सिंह ने थाना राजेंद्र नगर के टीआई सुनील शर्मा को इस मामले की जांच करने की जिम्मेदारी सौंपी. टीआई ने अपने सहयोगियों के साथ कई दिनों तक जांचपड़ताल कर देवेंद्र डाबर के बारे में कई महत्त्वपूर्ण जानकारियां जुटा लीं.
देवेंद्र के संबंध में जुटाई जानकारियां जब एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र तक पहुंचीं तो वे भी चौंकी. उन्होंने एएसपी अमरेंद्र सिंह को देवेंद्र डाबर के कार्यालय पर तुरंत छापा मारने को कहा.
पुलिस टीम ने 23 अप्रैल को इंदौर शहर के सिलिकौन सिटी में एक मकान पर छापा मारा. इस मकान को आयकर विभाग का कार्यालय बनाया हुआ था. मकान के बाहर सफेद रंग की एक सफारी गाड़ी खड़ी थी. गाड़ी पर भारत सरकार के लोगो सहित आयकर विभाग की प्लेट लगी हुई थी.
पुलिस अधिकारियों ने वहां मौजूद लोगों से पूछताछ की. लोगों ने पुलिस अधिकारियों को अपने अधिकारी देवेंद्र डाबर से मिलवा दिया. देवेंद्र डाबर अपने शानदार औफिस में बैठा था. बाहर चपरासी खड़ा था. उस के कमरे के बाहर चीफ इनवैस्टीगेशन औफिसर की नेमप्लेट लगी हुई थी.
अधिकारियों ने पूछताछ की तो देवेंद्र ने खुद को केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड यानी सीबीडीटी के इंटेलिजेंस ऐंड क्रिमिनल इनवैस्टीगेशन डिपार्टमेंट का चीफ इनवैस्टीगेशन औफिसर बताया. उस ने पुलिस टीम को अपना पहचानपत्र भी दिखाया. पुलिस ने उस से सवालजवाब किए तो उस का फरजीवाड़ा सामने आ गया. न तो वह ठीक ढंग से अंगरेजी में बात कर सका और न ही सीबीडीटी या आयकर विभाग के बारे में गहराई की बातें बता सका.

ये भी पढ़ें-  50 करोड़ का खेल

देवेंद्र डाबर से पूछताछ में उस का फरजीवाड़ा सामने आ गया. फिर भी पुलिस अधिकारियों ने सावधानी के तौर पर आयकर विभाग के कार्यालय में फोन कर यह जानना चाहा कि देवेंद्र डाबर नाम का कोई अधिकारी विभाग में कार्यरत है या नहीं. पता चला कि विभाग में न तो इस नाम का कोई अधिकारी है और न ही विभाग में इस तरह की कोई पोस्ट है.
पुलिस ने देवेंद्र डाबर के अलावा वहां काम कर रहे 4 अन्य कर्मचारियों सुनील मंडलोई, रवि सोलंकी, दुर्गेश गहलोत और सतीश गावड़े को गिरफ्तार कर लिया.
कई घंटे की जांचपड़ताल और तलाशी के बाद वहां से लैपटाप, प्रिंटर, सफारी गाड़ी, एयरगन, भारत सरकार लिखी आईडी, आयकर विभाग की फरजी सील, सिक्के, नियुक्ति पत्र, आदेश पत्र, बड़ी संख्या में गोपनीय लिखे रजिस्टर, दस्तावेज, खाकी वर्दियां, भारत सरकार लिखी नेम प्लेट आदि जब्त की गईं.
पुलिस ने गिरफ्तार पांचों आरोपियों से अलगअलग पूछताछ की. इस में पता चला कि केवल 12वीं पास देवेंद्र डाबर चर्चित फिल्म ‘स्पैशल-26’ की तर्ज पर 5 साल से आयकर विभाग का फरजी कार्यालय चला रहा था. देवेंद्र ही इस गिरोह का सरगना था. सुनील मंडलोई उस का दोस्त है. वह बीई की तैयारी कर रहा था. देवेंद्र ने सुनील को सीनियर फील्ड औफिसर बना रखा था.
लोगों को आयकर विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर देवेंद्र के कहने पर वह भी पैसे लेता था. रवि सोलंकी देवेंद्र का रिश्तेदार निकला. उसे देवेंद्र ने सीनियर इनवैस्टीगेशन औफिसर बना रखा था. वह कार्यालय के अन्य कर्मचारियों की ओर से व्यापारियों और आयकर चोरों से संबंधित तैयार रिपोर्ट को सत्यापित कर उन की फाइलों पर हस्ताक्षर करता था.
दुर्गेश गहलोत देवेंद्र का पीए था. उस के पास कार्यालय का अधिकांश रिकौर्ड रहता था. कर्मचारियों के हाजिरी रजिस्टर भी वही रखता था.
सतीश गावड़े देवेंद्र का वाहन चालक और पर्सनल गनमैन था. वह एयरगन रखता था और देवेंद्र डाबर को आयकर विभाग का चीफ इनवैस्टीगेशन औफिसर बताता था.
देवेंद्र और अन्य गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ में फिल्म ‘स्पैशल-26’ की तर्ज पर आयकर विभाग की फरजी टीम बनाने की जो कहानी उभर कर सामने आई, वह इस प्रकार है—
लरूप से कुक्षी धार और फिलहाल इंदौर में भील कालोनी मूसाखेड़ी के रहने वाले
देवेंद्र डाबर के पिता माधव लाल सरकारी नौकरी से रिटायर्ड क्लर्क हैं. देवेंद्र ने 12वीं पास करने के बाद नौकरी के लिए भागदौड़ शुरू की. लेकिन अधिकांश जगह उसे निराशा मिली. इस का कारण यह था कि वह केवल 12वीं पास था. उसे कंप्यूटर का अच्छा ज्ञान जरूर था, लेकिन केवल कंप्यूटर के ज्ञान के आधार पर उसे अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी नहीं मिल सकती थी.
देवेंद्र भले ही ज्यादा पढ़ालिखा नहीं था, लेकिन उस के सपने बड़े थे. वह अफसरों की तरह रुतबे और शानोशौकत से रहना चाहता था. यह उस के लिए किसी भी तरह से संभव नहीं था. इसी दौरान एक बार उस ने अखबारों में आयकर विभाग का एक विज्ञापन पढ़ा. इस विज्ञापन में बताया गया था कि बेनामी संपत्ति की जानकारी देने पर आयकर विभाग 10 प्रतिशत कमीशन देता है.
यह सूचना पढ़ने के बाद देवेंद्र के दिमाग में आयकर विभाग के जरिए पैसा कमाने का विचार आया. यह संयोग रहा कि उसी दौरान एक दिन देवेंद्र ने अक्षय कुमार और अनुपम खेर अभिनीत फिल्म ‘स्पैशल-26’ देखी. यह फिल्म देख कर उस ने आयकर विभाग के समानांतर अपनी टीम खड़ी करने का फैसला कर लिया.
देवेंद्र ने सब से पहले इंटरनेट के माध्यम से आयकर विभाग के सेटअप और पूरी कार्यप्रणाली को समझा. इस के बाद आयकर विभाग के अधिकारियों के पदनाम, विभाग की अलगअलग विंग और उन के काम करने के तरीकों की जानकारी जुटाई.
उस ने आयकर विभाग के पत्राचार के तरीके भी समझ लिए. अखबारों और इलैक्ट्रौनिक मीडिया पर आयकर विभाग के छापे और सर्वे से संबंधित रोजाना आने वाली खबरों को वह ध्यान से देखने लगा.
आयकर विभाग में किसकिस तरह के टैक्स वसूले जाते हैं और किन लोगों से वसूले जाते हैं, ये बातें जानने और समझाने के लिए उस ने बाजार से आयकर संबंधी किताबें खरीद कर पढ़ीं. आयकर रिटर्न के बारे में भी देवेंद्र ने जानकारी हासिल की.
इस के बाद देवेंद्र ने सब से पहले आयकर विभाग का परिचयपत्र बनाया, जिस में उस ने खुद को चीफ इनवैस्टीगेशन औफिसर दर्शाया. उस ने भारत सरकार के वाटर मार्क वाले लोगो के लेटरपैड भी तैयार करवा लिए.
सन 2014 में उस ने इंदौर के मूसाखेड़ी में आयकर विभाग का अपना कार्यालय बनाया. इसी के साथ उस ने अपने कुछ रिश्तेदारों और दोस्तों के बीच खुद को आयकर विभाग का अफसर बता कर उन्हें नौकरी दे दी. देवेंद्र ने इन लोगों को अलगअलग पदनाम दे कर जिम्मेदारियां सौंप दीं. फिर इन्हीं रिश्तेदारों और दोस्तों के माध्यम से वह बेरोजगार युवाओं को आयकर विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगने लगा.

देवेंद्र बेरोजगार युवाओं से 50 हजार से एक लाख रुपए तक ले कर आयकर विभाग में अलगअलग पदनाम से नौकरी देने लगा. इन युवाओं को वह बाकायदा भारत सरकार का लोगो लगा नियुक्तिपत्र देता था. यह पत्र देते समय वह कहता था कि हमारा काम बेहद गोपनीय है, इसलिए अपने काम के बारे में किसी को मत बताना.
इसी के साथ वह नौकरी जौइन करने वाले को गोपनीयता की शपथ भी दिलवाता था. वह अपने कर्मचारियों से शपथपत्र भी भरवाता था. इस में यह शर्त लिखी होती थी कि अगर विभाग की गोपनीयता भंग की तो आयकर कानून के तहत 50 हजार रुपए जुरमाना और एक साल की सजा हो सकती है.
जुरमाने और सजा के डर से देवेंद्र के कर्मचारी किसी से अपनी असलियत नहीं बताते थे. किसी को यह भी नहीं बताते थे कि वे आयकर विभाग में काम करते हैं या उन का औफिस कहां है.
अपने कर्मचारियों के माध्यम से देवेंद्र आयकर चोरी के नाम पर धन्ना सेठों और काले धंधे करने वाले कारोबारियों की सूचनाएं जुटाता था. ऐसे लोगों की सूचनाएं जुटा कर वह फाइलों में उन का पूरा ब्यौरा दर्ज करवाता था. ऐसी ही सूचनाओं के आधार पर 4 साल पहले देवेंद्र ने अपने कर्मचारियों के साथ बुरहानपुर में एक व्यक्ति के घर पर आयकर विभाग की फरजी रेड मारी थी. इस रेड में देवेंद्र को क्या मिला, इस का पूरी तरह खुलासा नहीं हो सका.
देवेंद्र का आयकर विभाग के फरजीवाड़े का काम अच्छे तरीके से चल रहा था. इस बीच देवेंद्र ने बड़ा हाथ मारने के मकसद से करीब एक साल पहले इंदौर की सिलिकौन सिटी में 14 हजार रुपए महीने का एक मकान किराए पर ले लिया. इस मकान में उस ने शानदार औफिस बनाया.
इस औफिस में देवेंद्र ने अपने कर्मचारियों की संख्या भी बढ़ा ली. कई युवाओं को पैसे ले कर फील्ड औफिसर की नौकरी दे दी. कई चपरासी भी रख लिए. पूरे व्यवस्थित तरीके से उस ने कार्यालय बना लिया. इस औफिस में वह खुद सब से बड़ा अफसर था. दुर्गेश गहलोत उस का पीए था.
देवेंद्र भारत सरकार लिखी सफारी गाड़ी में आताजाता था. साथ में वह गनमैन रखता था. सतीश गावड़े उस का गनमैन भी था और वाहन चालक भी. सतीश ही एयरगन रखता था. देवेंद्र फरजी नौकरी देने के बाद आयकर विभाग का कामकाज समझाने के लिए होटलों में नवनियुक्त कर्मचारियों को ट्रेनिंग भी देता था. सुनील मंडलोई और रवि सोलंकी इन कर्मचारियों को ट्रेनिंग देते थे.
अपने कर्मचारियों को आयकर विभाग की नौकरी का विश्वास दिलाने के लिए कई प्रपंच रचता था. देवेंद्र अपने एकदो कर्मचारियों को आयकर विभाग के कार्यालय ले जाता. वहां वह अपने कर्मचारियों को गनमैन सतीश गावड़े की निगरानी में बाहर ही छोड़ देता. फिर चीफ कमिश्नर साहब के पास जाने की बात कह कर बड़े अधिकारी की तरह डायरी हाथ में ले कर तेज कदमों से चलते हुए आयकर विभाग की बिल्डिंग में चला जाता. थोड़ी देर बाद बाहर आ कर वह अपने कर्मचारियों के साथ अपने दफ्तर चला जाता.

ये भी पढ़ें-  एक हत्या ऐसी भी…

नवंबर 2018 में मध्य प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान देवेंद्र डाबर ने फरजी आदेश जारी कर अपने कर्मचारियों की विधानसभा चुनाव में ड्यूटी लगा दी.
यह ड्यूटी इसलिए लगाई ताकि कर्मचारियों को यह भरोसा रहे कि सरकारी कर्मचारी ही हैं, क्योंकि चुनावों में आमतौर पर सभी सरकारी विभागों के कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाती है. देवेंद्र ने अपने कर्मचारियों की ड्यूटी पीथमपुर में वाहनों की जांच के लिए लगाई ताकि चुनाव में अवैध और कालेधन की आवाजाही न हो सके.
स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस जैसे राष्ट्रीय पर्व पर देवेंद्र अपने कार्यालय में तिरंगा झंडा भी फहराता था. इस मौके पर वह कर्मचारियों को भी बुलाता था. उस के औफिस में स्टाफ खाकी वरदी में रहता था. ये कर्मचारी देवेंद्र को सैल्यूट करते थे. देवेंद्र इन कर्मियों के साथ सेल्फी भी लेता था.
देवेंद्र ने फील्ड अफसर और खबरी के पद पर लगाए युवाओं को रईस लोगों की चलअचल संपत्तियों की जानकारी हासिल करने की जिम्मेदारी सौंप रखी थी. ये कर्मचारी बड़े व्यापारियों, बिल्डरों, प्रौपर्टी कारोबारियों, ब्याज पर पैसा देने वालों और काला धंधा करने वाले लोगों की संपत्तियों, उन की गाडि़यों और कारोबार के बारे में आसपास के लोगों से जानकारी जुटाते थे.
ये कर्मचारी अपने अधिकारी सीनियर फील्ड औफिसर सुनील मंडलोई और सीनियर इनवैस्टीगेशन औफिसर रवि सोलंकी को रिपोर्ट करते. यह रिपोर्ट रजिस्टर में दर्ज कर के अलग से फाइल बनाई जाती और उस पर लिखा जाता कि अगर इस व्यक्ति के यहां इनकम टैक्स की रेड डाली जाए तो बड़ी मात्रा में आयकर चोरी का खुलासा हो सकता है.

मास्टरमाइंड देवेंद्र ने खरगोन, कुक्षी, खंडवा, मनावर, देवास, झाबुआ, आलीराजपुर, उदय नगर, बेटम, देपालपुर, पीथमपुर, धार व बड़वानी सहित कई शहरों में रहने वाले रईसों की इस तरह की फाइलें बना रखी थीं.
उस ने कुछ नेताओं की भी इस तरह की फाइलें बना रखी थीं. सभी फाइलों और रजिस्टरों के प्रत्येक पेज पर सरकारी विभागों की तरह मोहर व दस्तखत होते थे. देवेंद्र के कर्मचारियों ने अपनी रिपोर्ट में किसी को 50 और किसी को 30 करोड़ की आसामी बता रखा था.
देवेंद्र के कार्यालय से मिले रजिस्टर और फाइलों में जिन लोगों के यहां इनकम टैक्स रेड की सिफारिश की गई थी, पुलिस उन के बयान लेने के बारे में विचार कर रही है ताकि पता चल सके कि देवेंद्र की टीम ने कहीं फरजी रेड तो नहीं डाली थी.
जांच में यह बात भी सामने आई कि आरोपी देवेंद्र का मकसद ऐसे लोगों की जानकारी जुटा कर आयकर विभाग को देना था ताकि आयकर विभाग रेड मारे और उसे 10 प्रतिशत कमीशन मिल जाए. इस के विपरीत यह भी सच है कि देवेंद्र ने आयकर विभाग को ऐसी एक भी जानकारी नहीं दी.
यह तय है कि देवेंद्र डाबर की टीम का खुलासा हो गया अन्यथा शातिर दिमाग देवेंद्र अपनी टीम के साथ धन्ना सेठों के यहां इनकम टैक्स की फरजी रेड डाल सकता था.
आयकर विभाग भी समानांतर आयकर विभाग चलाने वाले इस गिरोह का खुलासा होने पर चौंक गया. इंदौर की एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के आयकर विभाग के प्रिंसिपल चीफ कमिश्नर ए.के. चौहान से मुलाकात कर इस पूरे मामले की जानकारी दी. पुलिस इस गिरोह के बारे में पूरी जांचपड़ताल में जुटी हुई है.
गिरोह का खुलासा होने के बाद कई युवाओं ने पुलिस को शिकायत की है कि देवेंद्र डाबर ने नौकरी के नाम पर उन से 60-60 हजार रुपए लिए. जांच में सामने आया है कि देवेंद्र ने आयकर विभाग के नाम पर करीब 80 लोगों की टीम बना रखी थी.
मोटे तौर पर माना जा रहा है कि देवेंद्र ने युवाओं को नौकरी देने के नाम पर ही 60 से 80 लाख रुपए की ठगी की थी. ठगी के पैसों से ही कभीकभी वह कर्मचारियों को वेतन दे देता था. कभी कोई वेतन की बारबार मांग करता तो कहता कि भारत सरकार से अभी बजट नहीं आया है.
वह गोपनीयता के नाम पर लोगों में सजा और जुरमाने का भय बनाए रखता था, इसलिए पीडि़त युवा अपनी समस्या किसी को बता भी नहीं पाते थे. वे सरकारी नौकरी होने का भ्रम पाल कर कभी न कभी पूरी तनख्वाह मिलने का ख्वाब संजोए थे.
पुलिस को देवेंद्र के बैंक खातों की जानकारी भी मिली है. इन खातों में हुए लेनदेन की डिटेल बैंक से मांगी गई है. देवेंद्र भले ही खुद को आयकर विभाग का चीफ इनवैस्टीगेशन औफिसर बताता था, लेकिन उस की पत्नी एक साधारण सी आशा कार्यकर्ता है. उस से देवेंद्र ने प्रेम विवाह किया था.
यह विडंबना है कि 12वीं पास युवक 5 साल तक फिल्म ‘स्पैशल 26’ की तर्ज पर ‘स्पैशल 80’ टीम बना कर फरजी तरीके से आयकर विभाग के समानांतर काम करता रहा. वह पैसे ले कर युवाओं को आयकर विभाग में फरजी नौकरी देता रहा, बड़े व्यापारियों और रईसों की चलअचल संपत्तियों की जानकारी जुटाता रहा. इनकम टैक्स की फरजी रेड भी मारता रहा, लेकिन किसी भी सरकारी एजेंसी को इस फरजीवाड़े का पता नहीं चल सका.

Tags:
COMMENT