18 जून, 2017 की  सुबह होते ही मानिकपुर गांव के कुछ लोग खेतों की तरफ जा रहे थे,
तभी उन में से किसी की नजर एक बैंगन के खेत की ओर चली गई. उस खेत में किनारे पर ही एक युवक की लाश पड़ी थी. लोग वहां इकट्ठा हो कर लाश को पहचानने की कोशिश करने लगे.

लाश को नजदीक से देख कर लोग हैरान रह गए, क्योंकि लाश गांव के अजय कुमार राव उर्फ बबलू की थी. अजय की हत्या की खबर गांव पहुंची तो उस के घर वालों के अलावा गांव के और लोग भी घटनास्थल पर पहुंच गए. अजय के घर वाले गांव वालों की मदद से लाश को बैंगन के खेत से घर ले आए. इसी बीच किसी ने इस की सूचना थाना अहरौरा पुलिस को दे दी थी.

सूचना पा कर कुछ ही देर में थानाप्रभारी प्रवीन कुमार सिंह एसएसआई विनोद कुमार दुबे और अन्य स्टाफ के साथ मानिकपुर गांव स्थित अजय के घर पहुंच गए. उन्होंने लाश का मुआयना किया तो उस के गले पर निशान पाए गए. इस के बाद उन्होंने उस जगह का निरीक्षण किया, जहां लाश मिली थी.

प्रवीण कुमार सिंह ने मृतक के घर वालों से किसी से दुश्मनी के बारे में पूछा तो मृतक अजय के पिता ने बताया कि उन की किसी से दुश्मनी नहीं है. अजय भी मोहल्ले में सब से मिलताजुलता था. उस का मकान बन रहा था, बीती रात उस ने घर पर मजदूरों को दावत भी दी थी.

दावत खा कर सभी मजदूर अपनेअपने घर चले गए थे. उन के जाने के बाद अजय भी छोटे भाई प्रद्युम्न के साथ सोने चला गया था. इस के बाद रात करीब साढ़े 11 बजे उस के मोबाइल पर किसी का फोन आया था. फोन पर बातें करता हुआ वह घर से गया तो फिर लौट कर नहीं आया.

उच्चाधिकारियों को घटना की सूचना देने के बाद थानाप्रभारी प्रवीण कुमार सिंह ने जरूरी काररवाई पूरी कर के लाश को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया. सूचना मिलने पर एसपी आशीष तिवारी, एएसपी (औपरेशन) हफीजुल रहमान, सीओ (औपरेशन) के.पी. सिंह ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर मृतक के घर वलों से बातचीत की. मृतक के पिता रामराज की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया.

एसआई विनोद कुमार ने केस की जांच शुरू की. अजय ने जिन लोगों को अपने यहां पार्टी में बुलाया था, उन से बात की गई. अजय जिस मोबाइल फोन पर बात करता हुआ घर से निकला था, वह मोबाइल गायब था. वह बैंगन के खेत में लाश के पास भी नहीं मिला था. अजय के पास आखिरी फोन किस का आया था, यह जानने के लिए पुलिस ने उस के नंबर की काल डिटेल्स निकलवाई.

काल डिटेल्स से पता चला कि अजय के फोन पर आखिरी काल थाना इलिया के गांव डेहरी निवासी अनीता की आई थी. वह दिनेश कुमार की पत्नी थी. पुलिस अनीता के घर पहुंची तो पता चला कि वह पति के साथ कहीं गई हुई है.

एक मुखबिर ने थानाप्रभारी को बताया कि अनीता और अजय के बीच नाजायज संबंध थे. यह बात गांव के बच्चेबच्चे को पता है. इस जानकारी के बाद थानाप्रभारी के दिमाग में हत्या की पूरी कहानी घूमने लगी. वह समझ गए कि मामला प्रेमसंबंध का है. पुलिस ने उन दोनों की गिरफ्तारी के प्रयास शुरू कर दिए. मदद के लिए मुखबिरों को भी लगा दिया.

घटना के 3 दिनों बाद 21 जून की देर शाम मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने दिनेश और उस की पत्नी अनीता को चकिया तिराहा, अहरौरा से गिरफ्तार कर लिया. वे दोनों कहीं भागने की फिराक में थे.
पुलिस दोनों को पकड़ कर थाने ले आई. उन से अजय की हत्या के बारे में पूछताछ की गई तो उन्होंने हत्या का अपराध स्वीकार करते हुए हत्या की जो कहानी बताई, वह अवैध संबंधों की नींव पर उपजे अपराध की कहानी थी-

दिनेश कुमार उत्तर प्रदेश के जिला चंदौली के थाना इलिया के गांव डेहरी का रहने वाला था. पैतृक संपत्ति के बंटवारे को ले कर उस का अपने घर वालों से विवाद चल रहा था. कलह ज्यादा बढ़ गई तो वह परेशान रहने लगा. उस का कामधंधे में भी मन नहीं लगता था, जिस से पत्नी को घर का खर्च चलाने में परेशानी होने लगी.
इस के बाद दिनेश का अनीता से भी रोजाना विवाद होने लगा. रोजरोज की किचकिच से तंग आ कर अनीता मायके चली गई. उस का मायका मीरजापुर जिले के मानिकपुर गांव में था. पिछले 3 सालों से वह मायके में ही रह रही थी.
चूंकि इलिया और अहरौरा गांवों के बीच कोई खास दूरी नहीं थी, इसलिए जब भी दिनेश का मन करता, पत्नी से मिलने ससुराल पहुंच जाता. जिस तरह गांव के लोग एकदूसरे के घर आतेजाते हैं, उसी तरह अनीता के घर गांव के ही अजय उर्फ बबलू का आनाजाना था. दोनों का रिश्ता भाईबहन का था, इसलिए अजय अनीता से बातें करता तो उस के घर वालों को जरा भी बुरा नहीं लगता था.

पर युवा मन कब फिसल जाए, कहा नहीं जा सकता. ऐसा ही कुछ अजय और अनीता के साथ भी हुआ. कहने को तो उन का रिश्ता भाईबहन का था, लेकिन अजय अनीता को दूसरी ही नजरों से देखता था. और वह उस के यहां अकसर तभी आता था, जब उस के घर कोई नहीं होता था.

बातोंबातों में वह अनीता को छू भी लिया करता था. कभी सिर पर हाथ फेर देता तो कभी हाथ पकड़ लेता. पहले तो अनीता ने उस की इन बातों पर गौर नहीं किया, लेकिन धीरेधीरे उस की भी समझ में आने लगा कि अजय के मन में क्या चल रहा है. वह चुप रही, इसलिए अजय उस की स्वीकृति समझ बैठा.

अब वह उपयुक्त अवसर की तलाश में था. संयोग से एक दिन उसे मौका मिल ही गया. उस दिन अनीता घर पर बिलकुल अकेली थी. घर के कामकाज निपटा कर वह थोड़ी फुरसत में हुई ही थी कि दबेपांव अजय घर में आ गया. अचानक अजय को आया देख कर अनीता बोली, ‘‘बबलू भैया तुम?’’

अनीता उसे बबलू ही कहती थी. उस की बात बीच में ही काट कर अजय ने कहा, ‘‘क्यों क्या हुआ, मैं ने आ कर कोई गलत किया क्या?’’

सरस सलिल विशेष

‘‘अरे नहीं, तुम तो बुरा मान गए. मेरे कहने का मतलब यह नहीं था.’’ अनीता कुछ और कहती, अजय उस के मुंह पर हाथ रख कर, ‘‘अब छोड़ो न उस बात को, मुझे प्यास लगी है.’’

‘‘…तो पहले क्यों नहीं कहा तुम ने, मैं अभी पानी लाती हूं.’’ इतना कह कर अनीता पलट कर पानी लेने जाने लगी. अनीता के पीछेपीछे अजय भी हो लिया और जैसे ही वह मटके से पानी ले कर चलने को हुई, उस ने अनीता को पीछे से अपनी बांहों में दबोच लिया.
अजय की इस हरकत से अनीता घबरा गई. उस ने कहा, ‘‘यह तुम क्या कर रहे हो? छोड़ो, कोई देख लेगा तो बवाल हो जाएगा.’’

‘‘घबराने की कोई बात नहीं है, मैं ने आते समय दरवाजे की कुंडी लगा दी है.’’ इतना कह अजय ने अपनी बांहों की जकड़न और बढ़ा दी. अनीता ने उस से बचने की लाख कोशिश की, लेकिन उस के आगे वह बेबस हो गई. अंतत: अजय ने उस दिन अपनी इच्छा पूरी कर ही ली.
इस के बाद अजय जातेजाते अनीता को धमका भी गया कि अगर उस ने इस बात को किसी से बताया तो उसी की बदनामी होगी.

अपनी बदनामी की वजह से अनीता ने यह बात किसी को नहीं बताई. वह चुप्पी साधे रही. अनीता से एक बार जबरन संबंध बनाने के बाद अजय ने उस की चुप्पी को हथियार बना लिया. वह अकसर मौका देख कर उस के घर आ आता और संबंध बनाने के लिए उसे विवश करता. अनीता चाह कर भी अपना मुंह नहीं खोल पा रही थी. धीरेधीरे वह अजय की हरकतों से तंग आ चुकी थी.

आखिर वह ऐसे कब तक घुटघुट कर जीती रहती. उस ने एक दिन अपने पति दिनेश को सारी बात बता दी. पत्नी की व्यथा सुन कर दिनेश आगबबूला हो उठा. उस ने तय कर लिया कि वह अजय को इस की सजा जरूर देगा. इस के बाद उस ने पत्नी के साथ मिल कर अजय को ठिकाने लगाने की योजना बना डाली.

योजना के मुताबिक अनीता ने 17 जून, 2017 की रात अजय को फोन कर के उस के घर से करीब 200 मीटर दूर सीवान के करीब एक बैंगन के खेत में बुलाया. उस दिन अजय ने अपने घर पर मजदूरों को पार्टी दी थी. खापी कर वह अपने छोटे भाई प्रद्युम्न के साथ सोया हुआ था. मोबाइल फोन की घंटी बजने पर उस ने जैसे ही हैलो कहा. दूसरी ओर से अनीता की आवाज सुन कर उस की नींद गायब हो गई.

उस ने कहा, ‘‘बबलू अभी मौका है, तुम सीवान के पास बैंगन वाले खेत में आ जाओ. मैं वहां पहुंच रही हूं.’’
यह सुन कर अजय की बांछें खिल उठीं. खुशी में पागल हुआ अजय फोन कान से लगाए बातें करता हुआ अपने कमरे से बाहर आ गया और सीधे बैंगन के खेत की ओर चल पड़ा. वहां पहले से ही दिनेश छिपा बैठा था. रात करीब साढ़े 11 बजे जैसे ही अजय बैंगन के खेत में पहुंचा, वहां अनीता को देख कर खुशी से झूम उठा.
अजय को इस बात की जरा भी आशंका नहीं थी कि जिस अनीता को देख कर वह खुशी के मारे पागल हुआ जा रहा है, आज वही खुशी उस की मौत बन कर खड़ी है.

सुनसान जगह पर अनीता को देख कर अजय ने उसे अपनी बांहों में समेटने की कोशिश की तो तभी अनीता ने कहा, ‘‘अरे, इतनी भी क्या जल्दी है, जो इतना उतावले हुए जा रहे हो. मैं कहीं भाग नहीं रही हूं. आज तुम्हें यहां इसीलिए बुलाया है कि हम जी भर कर प्यार करेंगे.’’
‘‘मुझे पता था कि एक न एक दिन तुम मेरी बांहों में खुद आओगी. देखो वह दिन आ भी गया.’’ अजय ने कहा.
अजय ने फिर से अनीता को बांहों में समेटने की कोशिश की तो पीछे से घात लगाए बैठे अनीता के पति दिनेश ने दबेपांव आ कर अजय के गले में नायलौन की रस्सी डाल कर गला कसना शुरू कर दिया.
अप्रत्याशित ढंग से हुए इस हमले से अनभिज्ञ अजय अपने बचाव में जब तक कुछ कर पाता, तब तक दिनेश ने दोनों हाथों से उस के गले में पड़ी रस्सी कस दी, जिस से उस की मौत हो गई.

दिनेश ने उसे बचने का बिलकुल भी मौका नहीं दिया. अजय उर्फ बबलू को मौत की नींद सुलाने के बाद दिनेश और अनीता ने उस की लाश को बैंगन के खेत में डाल दिया और अपनेअपने घर चले गए.
घटना के बाद दोनों गांव में ही लोगों की नजरों से बच कर रह रहे थे और पुलिस की हर गतिविधि पर नजर रख रहे थे.

जब उन्हें लगा कि वह गांव में ज्यादा दिनों तक पुलिस से बच कर नहीं रह सकते तो कहीं जाने के लिए वे अहरौरा के चकिया तिराहे पर पहुंचे, तभी पुलिस की गिरफ्त में आ गए.
दोनों से पूछताछ कर के पुलिस ने उन की निशानदेही पर बैंगन के खेत से नायलौन की रस्सी और मृतक का मोबाइल फोन बरामद कर लिया. पुलिस ने दोनों को सक्षम न्यायालय में पेश किया, जहां से उन्हें जिला जेल भेज दिया गया. कथा लिखे जाने तक दोनों की जमानत नहीं हो पाई थी.

उधर पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी ने अभियुक्तों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम की पीठ थपथपाई. अनीता ने अगर यह बात पहले ही घर वालों को बता दी होती तो आज इस की नौबत नहीं आती. उस ने समझदारी से काम लिया होता तो पति के साथ उसे जेल भी न जाना पड़ता.

—कथा पुलिस तथा मीडिया सूत्रों पर आधारित

Tags:
COMMENT