आरुषि हत्याकांड में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गुरुवार को तलवार दंपति को बरी कर दिया. दो सदस्यीय खंडपीठ ने कहा कि परिस्थितिजन्य साक्ष्यों से आरोप साबित नहीं होते हैं. सीबीआई के पास अपनी कहानी साबित करने के लिए पर्याप्त साक्ष्य नहीं हैं. कोर्ट ने आरुषि के मां-बाप डॉ. नूपुर और डॉ. राजेश तलवार को संदेह का लाभ पाने का हकदार मानते हुए रिहा करने के आदेश दिए.

सीबीआई अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी

राजेश और नूपुर तलवार को सीबीआई अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी, जिसके खिलाफ हाईकोर्ट में अपील दायर की गई थी. न्यायमूर्ति बीके नारायण एवं न्यायमूर्ति अरविंद कुमार मिश्र (प्रथम) की खंडपीठ ने गुरुवार को दोपहर बाद तकरीबन तीन बजे फैसला सुनाया. अदालत ने कहा कि सीबीआई की कहानी के समर्थन में ठोस साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किए गए हैं. जिस घर में हत्या हुई, उसमें किसी तीसरे व्यक्ति के प्रवेश की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है. हाईकोर्ट ने सीबीआई अदालत के इस निष्कर्ष को नहीं माना कि घर में किसी तीसरे व्यक्ति के आने की संभावना नहीं है, इसलिए हत्या तलवार दंपति द्वारा ही की गई है.

खंडपीठ ने कहा कि सीबीआई के पास पर्याप्त साक्ष्य नहीं हैं. ऐसी परिस्थिति में सर्वोच्च न्यायालय के प्रतिपादित विधि संहिता के मुताबिक यह केस संदेह का लाभ देने के लिहाज से एकदम सही है.तलवार दंपति के अधिवक्ता दिलीप कुमार ने बताया कि सीबीआई की तरफ से प्रस्तुत परिस्थितिजन्य साक्ष्यों की कड़ी में तारतम्यता नहीं है इसलिए यह नहीं कहा जा सकता कि तलवार दंपति ने ही हत्या की है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरस सलिल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...