रातदिन का ध्वनि प्रदूषण और रातों की उड़ी नींद से पत्नीजी की आंखें गई थीं सूज और हमारा सिर बन गया था खेल का मैदान. वह तो भला हो हमारी सासूमां का.