लेखक- शरोवन

अमरनाथ ने अपने हाथ में पकड़े पत्र को एक बार फिर से पढ़ लेना चाहा. उन की बूढ़ी आंखों से आंसुओं की 2 बूंदें अपनेआप टपक कर पत्र पर फैल गईं. पत्र में भेजे संदेश ने अमरनाथ को उन के भोगे हुए दिनों में बहुत पीछे तक ऐसा धकेल कर रख दिया था कि उन्हें लगा जैसे पत्र में लिखे हुए सारे के सारे अक्षर उन के जिस्म के चप्पेचप्पे से चिपक गए हों. अमरनाथ के लिए सब से अधिक तकलीफदेह जो बात थी वह यह कि पत्र लिखने वाली ने अपने जीवन में पत्र लिखा तो था, लेकिन उस को डाक में डालने का आदेश नर्सिंग होम की निदेशिका को अपने मरने के बाद ही दिया था. जब तक यह पत्र अमरनाथ को मिला इसे लिखने वाली इस संसार को अंतिम नमस्कार कर के जा चुकी थी.

खुद को किसी प्रकार संभालते हुए अमरनाथ ने एक बार फिर से पत्र को पढ़ा. पत्र के शुरू में उन का नाम लिखा था, ‘एमर.’

स्टैसी अमरनाथ को ‘अमर’ के स्थान पर ‘एमर’ नाम से ही संबोधित किया करती थी.

मैं जानती हूं कि मेरा यह अंतिम पत्र न केवल तुम्हारे लिए मेरा अंतिम नमस्कार होगा बल्कि शायद तुम को बहुत ज्यादा तकलीफ भी दे. जब चलते- चलते थक गई और दूर कब्रिस्तान की तनहाइयों में सोए लोगों की तरफ से मुझ को बुलाने की आवाजें सुनाई देने लगीं तो सोचा कि चलने से पहले तुम से भी एक बार मिल लूं. आमनेसामने न सही, पत्र के द्वारा ही.

तुम्हारे भारत लौट जाने के बाद मैं कितनी अधिक अकेली हो चुकी थी, यह शायद तुम नहीं समझ सकोगे. तुम क्या गए कि जैसे मेरा घर, मेरा बगीचा और घर की समस्त वस्तुएं तक वीरान हो गईं. ऐसा भी नहीं था कि मैं जैसे तुम्हारे वियोग में वैरागन हो गई थी अथवा तुम को प्यार करती थी. हां, तुम्हारी कमी अवश्य मुझ को परेशान कर देती थी. वह भी शायद इसलिए कि मैं ने तुम्हारे साथ अपने जीवन के पूरे 8 वर्ष एक ही छत के नीचे गुजारे थे.

जीवन के इतने ढेर सारे दिन हम दोनों ने किस रिश्ते से एकसाथ जिए थे? मैं आज तक इस रिश्ते को कोई भी नाम नहीं दे सकी हूं. अकसर सोचा करती थी कि हमारा आपस में कोई भी शारीरिक संबंध नहीं था. एक ही देश में जन्म लेने का भी कोई नाता नहीं था. मन और भावनाओं से भी प्रेमीयुगल की अनुभूति जैसा भी कोई रिश्ता हम नहीं बना सके थे. मैं कहां और तुम कहां, लेकिन फिर भी हम एकदूसरे के काम आए. आपस में साथसाथ बैठ कर हम ने अपनाअपना दुख बांटा, एक- दूसरे को जाना, समझा और परस्पर सहायता की. शायद इतना सबकुछ ही काफी होगा अपने परस्पर बनाए हुए उन बेनाम संबंधों के लिए, जिस के स्नेहबंधन की डोर का एक सिरा तुम थामे रहे और एक मैं पकड़े रही.

दुनिया का रिवाज है कि किसी एक को एक दिन डोर का एक सिरा छोड़ना ही पड़ता है. तुम अपनत्व की इस डोर का एक छोर पकड़े अपने वतन चले गए और मैं अपना सिरा थामे यहां बैठी रही. पर अब मैं इस स्नेह बंधन की डोर का एक छोर छोड़ कर जा रही हूं, इस विश्वास के साथ कि इनसान के स्नेहबंधन का सच्चा नाता तो उस डोर से जुड़ता है जो विश्वास, अपनत्व और निस्वार्थ इनसानियत के धागों से बुनी गई होती है.

कितनी अजीब बात है कि हम दोनों का जीवन एक सा लगता है. आपबीती भी एक जैसी है. हम दोनों के अपनेअपने खून के वे रिश्ते जो अपने कहलाते थे, वे भी अपने न बन सके और जिसे हम दोनों जानते भी न थे, जिस के बारे में कभी सोचा भी नहीं, उसी के साथ अपनी खोई और बिखरी हुई खुशियां बटोर कर हम ने अपना जीवन सहज कर लिया था.

ये भी पढ़ें-  विषकन्या

पत्र पढ़तेपढ़ते अमरनाथ की आंखें फिर से भर आईं. जीवन से थके शरीर की बूढ़ी और उदास आंखों को अमरनाथ ने अपने हाथ से साफ किया और फिर सोचने लगे अपने जीवन के उस पिछले सफर के बारे में, जिस में वह कभी हालात के मारे हुए एक दिन स्टैसी के साथसाथ कुछ कदम चले थे.

अमरनाथ उस दिन कितने खुश थे जब उन का सब से बड़ा लड़का नीतेश अमेरिका जाने के लिए हवाई जहाज में बैठा था. नीतेश ने इंजीनियरिंग की थी सो उस को केवल थोड़ी सी अतिरिक्त पढ़ाई अमेरिका में और करनी पड़ी थी. और एक दिन अमेरिका की मशहूर कोक कंपनी में इंजीनियर का पद पा कर वहां हमेशा रहने के लिए अपना स्थान पक्का कर लिया. 2 साल के बाद नीतेश भारत से शादी कर के अपनी पत्नी नीता को भी साथ ले गया.

नीतेश के अमेरिका में व्यवस्थित होतेहोते उस के दोनों छोटे भाई रितेश और मीतेश भी वहां आ गए. उन्होंने भी भारत में आ कर शादी की और फिर अमेरिका में अपनी- अपनी घरगृहस्थी में व्यस्त हो गए.

अब अमरनाथ के पास केवल उन की एक लड़की रिनी बची थी. एक दिन उस का भी विवाह हुआ और वह भी अपने पति के घर चली गई. इस तरह घर में बच गए अमरनाथ और उन की पत्नी. वह किसी प्रकार जीवन की इस नाव की पतवार को संभाले हुए थे.

आराम और सहारे की तलाश करता अमरनाथ का बूढ़ा शरीर जब और भी अधिक थकने लगा तो उन्हें एक दिन एहसास हुआ कि लड़कों को विदेश भेज कर कहीं उन्होंने कोई भूल तो नहीं कर दी है.

सरस सलिल विशेष

एक दिन उन की पत्नी रात को सोने गईं और फिर कभी नहीं जाग सकीं. सोते हुए ही दिल का दौरा पड़ने से वह सदा के लिए चल बसी थीं. पत्नी के चले जाने के बाद अब अमरनाथ नितांत अकेले ही नहीं बल्कि पूरी तरह से असहाय भी हो चुके थे.

अपने अकेलेपन से तंग आ कर एक दिन अमरनाथ ने बच्चों को वापस भारत आने का आग्रह किया. तब आग्रह पर उन के लड़कों ने उन्हें जो जवाब दिया उस में विदेशी रहनसहन और पाश्चात्य रीति- रिवाजों की बू थी. जिस देश और समाज के वे अब बाशिंदे बन चुके थे उस में विवेक कम और झूठी प्रशंसा के तर्क अधिक थे. बच्चों की दलीलों को सुन कर अमरनाथ ने अपने किसी भी लड़के से दोबारा वापस भारत आने के लिए न तो कोई आग्रह किया और न ही कोई जिद.

अपने बच्चों की दलीलें और बातें सुन कर अमरनाथ ने चुप्पी साध लेना ही उचित समझा था. वह चुप हो गए थे और अपने तीनों लड़कों से बात तक करनी बंद कर दी. ऐसे में लड़कों का कोई पत्र आता तो वह उत्तर ही नहीं देते. फोन आता तो या तो उठाते ही नहीं और यदि कभी भूलेभटके उठा भी लिया तो ‘व्यस्त हूं, बाद में फोन करूंगा’ कह कर वह बात ही नहीं करते थे. अंत में उन के लड़कों को जब एहसास हो गया कि पिताजी उन के रवैए से नाराज हैं तो उन की कभीकभार आने वाली टेलीफोन की घंटियां भी सुनाई देनी बंद हो गईं.

ये भी पढ़ें- कितना झूठा सत्य

यह सिलसिला बंद हुआ तो अमरनाथ की जिंदगी के कटु अनुभवों के गुबारों में स्वार्थी संतान की यादों और स्मृतियों की कसक अपनेआप ही धूमिल पड़ने लगी. उन्होंने हालात से समझौता कर के स्वयं को अपने ही हाल पर छोड़ दिया.

एक दिन अचानक ही उन का सब से छोटा लड़का मीतेश बगैर अपने आने की सूचना दिए घर आया तो वर्षों बाद संतान का मुख देखते ही अमरनाथ का सारा गुस्सा पलक झपकते ही हवा हो गया. उन्होंने सारे गिलेशिकवे भूल कर मीतेश को अपने सीने से लगा लिया. फिर जब मीतेश ने अपना भारत आने का सबब बताते हुए यह कहा कि वह उन को अमेरिका ले जाने के लिए भारत आया है, उन्हें बाकी जीवन के दिन अपने बच्चों के साथ व्यतीत करने चाहिए तो अमरनाथ ने अपने स्वाभिमान और जिद के सारे हथियार डाल दिए. और एक दिन मीतेश की सलाह पर उन्होंने अपनी कपड़े की दुकान और पुश्तैनी मकान बेच दिया. इस से जो पैसा मिला उसे बैंक में जमा कर दिया. इस तरह अमरनाथ एक दिन विदेश की उस भूमि पर सदा के लिए बसने आ गए जिस का बखान उन्होंने अब तक किताबों और टेलीविजन में देखा और पढ़ा था.

अमरनाथ को अमेरिका में अपने लड़के के घर में रहते हुए 1 वर्ष होने को आया था और इस 1 वर्ष में उन्होंने क्या कुछ काम नहीं किया. वह व्यक्ति जिस ने कभी भारत में रहते हुए एक गिलास पानी खुद ले कर नहीं पिया अब वह अपनों के आदेश पर खाना बनाने और उन्हें पानी पिलाने पर विवश था. जिस ने अपने घर में रहते हुए कभी अपना एक रूमाल तक नहीं धोया था वह अमेरिका आ कर बेटे के घर में नौकरों की तरह सारे घर के कपड़े धोया करता. इस के अलावा मीतेश के दोनों बच्चों की देखभाल, उन का कमरा ठीक करना, उन्हें खानापानी देना, उन के स्कूल जाने के समय उन्हें स्कूल बस तक छोड़ने जाना और स्कूल से वापस आने के समय उन्हें घर लाने के लिए अपना अतिरिक्त समय देना, अब अमर के लिए हरेक दिन की साधारण सी बात हो चुकी थी.

इस बीच जरूरत से अधिक काम करने तथा बढ़ती हुई उम्र के हिसाब से शरीर पर अधिक भार पड़ने से अमरनाथ एक दिन बीमार हो गए. साधारण दवाओं से ठीक नहीं हुए तो मजबूर हो कर उन्हें डाक्टर को दिखाना पड़ा. डाक्टर की सलाह पर उन्हें अस्पताल मेें कुछ दिनों तक रखना पड़ा. इस से एक अतिरिक्त आर्थिक भार और अपना अतिरिक्त समय भी देने की परेशानी मीतेश व उस की पत्नी के ऊपर आ गई.

अमरनाथ का कोई अलग से चिकित्सा बीमा तो था नहीं, इसलिए उन की आर्थिक सहायता के लिए जब मीतेश ने अमेरिकी सरकार के सोशल सिक्यूरिटी कार्यालय में अर्जी दायर की तो वहां से भी यह कह कर मना कर दिया गया कि यह सुविधा अब केवल उन प्रवासियों को ही उपलब्ध है जिन्होंने अमेरिका में अपने सोशल सिक्यूरिटी नंबर के साथ बाकायदा लगभग 3 वर्ष तक कार्य किया होगा.

यह पता चलने के बाद मीतेश और उस की पत्नी दोनों के ही सोचे हुए मनसूबों पर पानी फिर गया क्योंकि उन्होंने सोचा था कि अमरनाथ को अपने पास बुला कर रखने पर 2 प्रकार की सुविधाएं उन्हें स्वत: ही मिल जाएंगी. एक तो उन के दोनों बच्चों को देखने के लिए निशुल्क बेबी सिटर का प्रबंध हो जाएगा, जिस से लगभग 400 डालर उन के प्रतिसप्ताह बचा करेंगे और साथ ही अमरनाथ को सरकार के द्वारा मिलने वाली प्रतिमाह कम से कम 500 डालर की सोशल सिक्यूरिटी की आर्थिक सहायता भी मिलती रहेगी. इस बात का पिता को तो कुछ पता नहीं चल पाएगा, सो एक पंथ दो काज वाली कहावत भी ठीक काम करती रहेगी.

अमरनाथ के लिए मीतेश जब सोशल सिक्यूरिटी का लाभ न ले सका और साथ ही उन के बीमार हो जाने पर उन की चिकित्सा का एक अतिरिक्त खर्च भी उस पर आ पड़ा तो उस के व उस की पत्नी के बदले स्वभाव को अमरनाथ की बूढ़ी अनुभवी आंखों ने पहचानने में देर नहीं लगाई. वह समझ गए कि अब उन का अपने बेटे और बहू के घर में रहना उन दोनों के लिए बोझ बन चुका है.

इस के साथ ही अमरनाथ को यह समझते देर नहीं लगी कि मीतेश का अचानक  से भारत आना और उन को अपने साथ अमेरिका ले जाना मात्र उस का उन के प्रति प्रेम और अपनत्व का एक झूठा लगाव ही था. सच तो यह था कि मीतेश और उस की पत्नी को केवल अपने दोनों बच्चों की देखभाल के लिए उन की जरूरत थी और अब उन के बच्चे बड़े हो गए हैं तो बूढ़ा लाचार बाप, बेटे व बहू के लिए बोझ हो चुका है.

एक दिन अमरनाथ ने मीतेश से कहा, ‘मेरा यहां रहने से कोई मतलब तो निकलता नहीं है, बेहतर होगा कि मुझे भारत भेजने का प्रबंध कर दो.’

यह सुनते ही मीतेश का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया. वह चिल्ला कर बोला था, ‘क्या समझ रखा है आप ने हमें. कुबेर का खजाना तो नहीं मिल गया है कि जिसे जब चाहे जितना खर्च कर लो. पूरे 1,500 डालर से कम का हवाई जहाज का टिकट तो आएगा नहीं. कहां से आएगा इतना पैसा? हम अपने को बेच तो नहीं देंगे. यहां घर में आराम के साथ चुपचाप पड़ेपड़े रोटियां तोड़ने में भी कोई तकलीफ होने लगी है क्या?’

‘तो फिर मुझे नीतेश या रीतेश के पास ही भेज दो. कम से कम आबोहवा तो बदलेगी,’ अमरनाथ ने साहस कर के आगे कहा तो मीतेश पहले से भी अधिक झुंझलाता हुआ उन से बोला था, ‘मैं ने उन दोनों को फोन किया था. उन दोनों में से कोई भी आप को रखने के लिए तैयार नहीं है. उन का कहना है कि मैं ही आप को ले कर आया हूं, सो इस मुसीबत को केवल मैं ही जानूं और भुगतूं.’

ये भी पढ़ें-  पति पत्नी का परायापन

मीतेश के  मुंह से यह अनहोनी बात सुन कर अमरनाथ ने अपना माथा एक बार फिर से पीट लिया. वह समझ गए कि किसी से कुछ भी कहना और सुनना बेकार ही साबित होगा. वह उस घड़ी को कोसने लगे जब बेटे की बातों में आ कर उन्होंने अपना देश और अपनों का साथ छोड़ा था. एक आह भर कर उन्होंने अपने को पूरी तरह हालात के हवाले छोड़ दिया.

एक दिन बहू अमरनाथ को बड़े ही भोलेपन से अपने साथ स्टोर घुमाने यह कह कर ले गई कि उन का भी मन बहल जाएगा. वैसे भी घर में सदा बैठे रहने से इनसान का मन खराब होने लगता है. स्टोर में खरीदारी करते समय बहू उन से यह कह कर बाहर आ गई कि वह अपना मोबाइल फोन घर पर भूल आई है और उस को मीतेश को फोन कर के यह बताना है कि वह बच्चों को स्कूल से ले आएं.

इतना कह कर मीतेश की पत्नी स्टोर से बाहर निकल कर जो गई तो फिर वह कभी भी उन के पास वापस नहीं आई. बेचारे अमरनाथ अकेले स्टोर का एकएक कोना घूमघूम कर थक गए. फिर जब उन से कुछ भी नहीं बन सका तो थकहार कर स्टोर के बाहरी दरवाजे के पास पड़ी एक बैंच पर बैठ कर अपनी बहू के वापस आने की प्रतीक्षा करने लगे.

इस प्रकार प्रतीक्षा करतेकरते, भूखे- प्यासे उन को शाम हो गई. अंगरेजी आती नहीं थी कि वह अपना दुख किसी को बताते और जो 1-2 भारतीय वहां दिख जाते तो वे केवल उन की ओर मुसकरा कर देखते और आगे बढ़ जाते. उन की जेब में मात्र 2 डालर पडे़ थे, सोचा कि फोन कर लें मगर उन्हें फोन नंबर भी याद नहीं था. कभी भूले से भी उन्होंने नहीं सोचा था कि एक दिन उन की यह नौबत आ जाएगी.

बैठेबैठे परेशान से जब रात घिर आई और स्टोर भी बंद होने को आया तो अमरनाथ की समझ में आया कि वह यहां संयोग से अकेले नहीं छूटे हैं बल्कि उन्हें जानबूझ कर छोड़ा गया है. सो इस प्रकार की मनोवृत्ति को अपनी ही संतान के रक्त में महसूस कर अमरनाथ फफकफफक कर रो पडे़. उन की दशा और उन को रोते हुए कुछेक लोगों ने देखा मगर किसी ने भी उन से रोने का कारण नहीं पूछा.

ऐसे समय में स्टैसी नामक महिला स्टोर से बाहर निकली और अमरनाथ को यों रोते, आंसू बहाते देख उन के पास आ गई. बड़ी देर तक वह एक अनजान, भारतीय बूढ़े की परेशानी जानने का प्रयत्न करती रही. जब उस से नहीं रहा गया तो वह अमरनाथ को संबोधित करते हुए बोली, ‘ऐ मैन, व्हाई आर यू क्राइंग?’

स्टैसी के यों हमदर्दी दिखाने पर अमरनाथ पहले से और भी अधिक जोरों के साथ रोने लगे. स्टैसी समझ गई कि इस आदमी को अंगरेजी नहीं आती है अत: वह तुरंत वापस स्टोर में गई और वहां से एक लड़की, जो भारतीय दिखती थी और उसी स्टोर में क्लर्क का काम कर रही थी, को अपने साथ बुला कर बाहर लाई. बाद में उस लड़की के द्वारा बातचीत से स्टैसी को अमरनाथ के सामने आई हुई समस्त परिस्थिति की जानकारी हो सकी. चूंकि अमरनाथ को अपने लड़के और बहू के घर का न तो कोई पता मालूम था औैर न ही कोई फोन नंबर याद था, इस कारण स्टैसी ने नियमानुसार पहले तो स्थानीय पुलिस को फोन किया, फिर बाद में आवश्यक पुलिस काररवाई के बाद वह अमरनाथ को अपनी निगरानी में अपने घर ले आई. घर आ कर सब से पहले उस ने दिन भर के भूखेप्यासे अमरनाथ को खाना खिलाया. इस के बाद उस ने उन से उन की टूटीफूटी अंगरेजी में अतिरिक्त जानकरी भी प्राप्त कर ली.

अब अमरनाथ अमेरिकी स्त्री स्टैसी के साथ रहने लगे. स्टैसी की भी कहानी कुछकुछ उन्हीं के समान थी. उस के भी बच्चे और पति सब थे मगर जैसे उन में से किसी को भी किसी से कुछ भी सरोकार नहीं था. स्टैसी का पति किसी दूसरी स्त्री के साथ रहता था और बच्चे भी अमेरिकी जीवन के तौरतरीकों के अनुसार रहते थे, जो अपनी मां से भूलेभटके किसी त्योहार आदि पर मिल गए तो ‘हैलो’ हो गई.

स्टैसी का घर काफी बड़ा था, सो उस ने एक कमरे में अमरनाथ के रहने का प्रबंध कर दिया था. अमरनाथ का मन अपने बच्चों की तरफ से न केवल उदास और दुखी हो चुका था बल्कि एक प्रकार से पूरी तरह से टूट भी गया था. एक दिन जब अमरनाथ ने स्टैसी से भारत जाने की बात कही तो उस ने भी हवाई जहाज के टिकट का खर्चा तथा अन्य खर्चों की बात उन के सामने रख दी.

अमेरिका आ कर यों भारत लौट जाना आसान नहीं था. स्टैसी खुद भी एक रिटायर महिला थी. किसी प्रकार सोशल सिक्यूरिटी के द्वारा मिलने वाली आर्थिक सहायता से अपने जीवन के दिन काट रही थी. उस ने एकदम अमरनाथ का दिल भी नहीं तोड़ा. भारत वापस जाने के लिए एक सुझाव उन के सामने रखा कि वह कहीं कोई छोटामोटा काम केवल हफ्ते में 2 या 3 दिन और वह भी 2 से 4 घंटों तक कर लिया करें. फिर इस प्रकार जो भी पैसा उन्हें मिलेगा उसे वह अपने भारत लौटने के लिए जमा करते रहें. स्टैसी का सुझाव अमरनाथ की समझ में आ गया और इस नई चुनौती के लिए उन्होंने सहमति दे दी.

स्टैसी की कोशिश से उन को एक स्टोर में काम मिल गया, जहां पसंद न आया हुआ सामान वापस करने वालों के सामान पर पहचान का एक स्टिकर लगाने जैसा हलका सा काम करना था. इस प्रकार से अमरनाथ अपनी मेहनत से जब चार पैसे खुद कमाने लगे तो उन के अंदर जीने और परेशानियों से लड़ने का साहस भी जाग गया. उन्होंने अपने काम के केवल उतने घंटे ही बढ़ाए जिस के अंतर्गत वह मेडिकल बीमा की सुविधा कम मासिक प्रीमियम पर प्राप्त कर लें. इस प्रकार से अब अमरनाथ के जीवन के दिन सहज ही व्यतीत होने लगे थे.

स्टैसी के मानवीय व्यवहार ने अमरनाथ का जैसे सारा दिल ही जीत लिया था. दोनों एक ही पथ के राही थे. मानवता को छोड़ कर उन के मध्य देश, समाज, शारीरिक और धार्मिकता जैसा संबंध नहीं था. दोनों एकदूसरे के हरेक दुखसुख में साथ दिया करते थे. जहां भी जाते, साथ ही जाते, घर में ऊब होती तो कहीं भी घूमने निकल जाते. जो कुछ भी वे करते थे, उस का ज्ञान एकदूसरे को रहता था. सो उन का जीवन सामान्य रूप से चल रहा था.

इसी बीच एक दिन पुलिस की सूचना उन को मिली कि पुलिस विभाग ने उन के लड़के के घर का भी पता लगा लिया है. यदि वह चाहें तो उन को अमेरिका लाने वाले उन के लड़के के विरोध में वह काररवाई कर सकते हैं और यदि वह उन के घर जाना चाहते हैं तो कभी भी जा सकते हैं. मगर पहले से ही चोट खाए हुए अमरनाथ ने यह सोच कर स्पष्ट इनकार कर दिया कि जिस बेटे ने अपने बूढे़ बाप को इस अनजान शहर में भीख मांगने के लिए सड़क पर छोड़ दिया उस के पास अब क्या जाना और उस से क्या रिश्ता रखना.

स्टैसी के सहयोग और सहारे के बल पर आखिर अमरनाथ का सपना पूरा हो गया. भारत वापसी के टिकट के पैसों के साथ उन्होेंने इतना पैसा और भी जमा कर लिया था कि जिस को वह भारतीय मुद्रा में जमा करा कर उस के हर माह मिलने वाले ब्याज से ही अपने जीवन के बचे दिन आराम से बसर कर सकते थे. यह और बात थी कि अमरनाथ को यह सब करने में पूरे 8 वर्ष लग गए थे. इन 8 वर्षों में कितने आश्चर्य की बात थी कि अमरनाथ के तीनों लड़कों में से किसी ने भी उन की सुधि नहीं ली थी. न ही किसी ने यह जानने की कोशिश की थी कि उन का बाप जीवित भी है या नहीं.

सरस सलिल विशेष

और फिर एक दिन अमरनाथ अपने देश भारत वापस जाने के लिए तैयार हुए. स्टैसी ने उन के जाने के लिए संपूर्ण तैयारी में इस कदर रुचि ली कि जिस से लगता था कि वह उन के ही घर और परिवार की कोई सदस्य है.

हवाई जहाज में बैठने से पहले जब अमरनाथ स्टैसी से मिले तो वह विदा करते हुए उन के गले से लग कर फूटफूट कर रो पड़ी. ठीक वैसे ही जैसे कि एक दिन वह खुद स्टोर के बाहर बैठे रो रहे थे.

हिंदुस्तान वापस आने के बाद भी अमरनाथ का संबंध स्टैसी से टेलीफोन और पत्रों के द्वारा काफी दिनों तक बना रहा था. मगर बाद में बढ़ती उम्र की थकान ने इस सिलसिले में भी थकावट भर दी थी. अब यदाकदा उन की स्टैसी से बात होती थी. पत्रों का सिलसिला भी अब केवल न के बराबर ही रह गया था. लेकिन फिर भी न तो अमरनाथ स्टैसी को भूले थे और न खुद स्टैसी ने उन को अपने मानसपटल से कभी ओझल होने दिया था.

विदेशी भूमि की रहने वाली स्टैसी अमरनाथ के जीवन में एक ऐसा मानवीय रिश्ता ले कर आई थी जिस ने उन के जीवन में न केवल उदास तनहाइयों को दूर किया था, बल्कि अपने मानवीय प्रेम की वह छाप भी उन के जीवन में स्थापित कर दी जिस का प्रभाव उन के जीवन की अंतिम सांसों तक सदैव बना रहेगा.

अपने अतीत को सोचतेसोचते अमरनाथ की बूढ़ी और जीवन से थकी धुंधली आंखों में जब फिर से आंसू भर आए तो उन्होंने स्टैसी के पत्र को अपने सीने से लगा लिया. थोड़ी देर तक वह इसी मुद्रा में बने रहे फिर उन्होंने पत्र को आगे पढ़ना शुरू किया. जहां पर स्टैसी ने आगे लिखा था, ‘मेरी मृत्यु की खबर सुन कर इतना दुखी मत होना कि खुद को भी इस उम्र में न संभाल सको. मृत्यु तो जीवन का ही एक हिस्सा है. कोई भी जन इस को पूरा किए बिना मानव जीवन की यात्रा का सफर पूरा नहीं कर सकता है. अपना ध्यान रखना. खुद को संभाले रखना. अपने बच्चों की अब ज्यादा चिंता कर के खुद को हर समय गलाने की कोशिश भी मत करना. सोच लेना कि जो मिल गया वह अपना था और जो खो गया वह अपना था ही नहीं. जीवन की यही अंतिम सीख दे कर मैं जा रही हूं. मेरा खयाल है कि इस से तुम को काफी संतोष प्राप्त हो सकेगा.’

अमरनाथ ने पत्र को समाप्त किया तो वह फिर से खयालों में डूब गए. सोचने लगे अपने जीवन के उन जिए हिस्सों के बारे में जिस में उन की पत्नी, संतान, रिश्तेदारों और तमाम मित्रों के साथसाथ एक विदेशी स्त्री के रूप में स्टैसी भी अपना वह रूप और व्यवहार ले कर आई थी जोकि विदेश में रहने के दौरान उन के कठिन दिनों में उन का एक रहनुमा साबित हुई थी. कितना बड़ा अंतर था उन की खुद की संतान और स्टैसी में. अपनी औलाद जिन को उन्होंने न केवल जन्म दिया था बल्कि उन के पालनपोषण में भी कभी कोई कमी नहीं होने दी थी, उन्हें इस काबिल बनाया था कि वे सिर उठा कर जी सकें.

ये भी पढ़ें–  एक दामाद और

इतना सबकुछ होने पर भी कितने आश्चर्य की बात थी कि उन की अपनी संतान ने कैसे उन के शरीर पर यह लेबल लगा दिया कि उन का उन से कोई भी रिश्ता नहीं है? और वह कौन थी कि जिस ने कोई भी रिश्तानाता न होते हुए यह साबित कर दिया था कि उस का उन से कोई संबंध न होने पर भी एक ऐसा रिश्ता है जिस का केवल एक ही नाम है, ‘मानवता.’ ऐसी मानवता जिस में केवल एकदूसरे के दुखदर्द को समझने की क्षमता और मानवीय प्रेम के वे अंकुर होते हैं जिन्हें बढ़ने के लिए केवल अपनत्व, पे्रम और सहानुभूति जैसे पदार्थों की ही आवश्यकता होती है.      द्

Tags:
COMMENT