सरस सलिल विशेष

ताक झांक करना ऐसा लगता है एक मामूली फितरत है. मगर यह मामूली सी लगने वाली फितरत आगे चलकर समाज में एक ऐसी बीमारी का स्वरूप धारण कर सकती है जिससे जाने कितने लोग तबाह हो जाएं. ताक झांक के कारण अक्सर इतने ही अपराधिक मामले पुलिस और न्यायालय में पहुंचते हैं जिन्हें देखते हुए कहा जा सकता है कि यह एक शगल के साथ-साथ मनोवैज्ञानिक बीमारी भी है. जिसका किसी सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं हो सकता.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • मनोहर कहानियां की दिलचस्प क्राइम स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की चटपटी गॉसिप्स
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
Tags:
COMMENT