जहां तक दोषसिद्ध अपराधियों का सवाल है, ऐसा लगता है कि बाकियों की तुलना में इन्हें ज्यादा जल्दी अपराधी करार दिया जाता है, क्योंकि कुल दोषसिद्ध अपराधियों में इन का अनुपात 50.4 फीसदी है.