“सदा ऐश दौरां दिखाता नहीं, गया वक्त फिर हाथ आता नहीं…” ये शेर है जनाब मीर हसन साहब का. जिसमें वो बताते हैं कि हमेशा वक्त एक जैसा नहीं होता, जो वक्त गुजर जाता है फिर वो लौटकर नहीं आता.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृहमंत्री पी चिदंबरम 14 दिन की न्यायिक हिरासत में हैं. चिदंबरम को तिहाड़ जेल के बैरक नंबर 7 में रखा गया है. कभी इस सेल में उनके बेटे कार्ति चिदंबरम को भी रखा गया था. पी. चिदंबरम के लिए तिहाड़ जेल की दमघोंटू बैरक में रात-दिन गुजार पाना उतना आसान नहीं रहा जितना गृहमंत्री की कुर्सी पर बैठकर इसी तिहाड़ जेल का करोड़ों रुपये का बजट पास कराना आसान था. गुरुवार को शाम ढले जेल की देहरी पर पांव रखते ही उन्हें तिहाड़ जेल की खतरनाक हकीकत से दो-चार करा दिया गया. रुह कंपा देने वाला यह मंजर उनके सामने तब आया जेल के अदना से वार्डर ने उनसे कहा, ‘उल्टे हाथ का अंगूठा स्याही में रंगकर कागज पर लगाओ.’

कागज पर अंगूठा लगाने की प्रक्रिया के दौरान जेल की देहरी (ड्यूढ़ी) पर जेल और सीबीआई की टीम दोनों के अधिकारी मौजूद थे. यही वह वक्त था जब विचाराधीन हाईप्रोफाइल कैदी पी. चिदंबरम को सीबीआई की टीम जेल स्टाफ के हवाले करने संबंधी तमाम कानूनी और कागजाती खानापूर्ति कर रही थी. कैदी के लेन-देन के वक्त ही जेल स्टाफ पी. चिदंबरम से उनके परिवार वालों के नाम, पते, उम्र, संपर्क इत्यादि का ब्योरा पूछकर जेल रिकौर्ड में दर्ज किया. जेल में उनसे मिलने कौन-कौन आयेगा? उन तमाम संबंधित नामों की तालिका या ब्योरा भी चिदंबरम को जेल में प्रवेश के वक्त ही देना पड़ा.

ये भी पढ़ें- क्या इस खुलासे के बाद केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ेंगी

पी. चिदंबरम की उम्र 70 साल से ऊपर है. लिहाजा ऐसे में जेल पहुंचते ही जेल के चिकित्सक द्वारा उनका मेडिकल चैकअप किया गया. साथ ही संभव है कि मामला हाईप्रोफाइल होने के चलते किसी भी आपात स्थिति के लिए रात भर जेल में चिकित्सक को रोक लिया जाए, ताकि रात में रक्तचाप बगैरह की जांच तुरंत की जा सके.”

इसी जेल सूत्र के मुताबिक, “अमूमन पी. चिंदबरम जैसे हाईप्रोफाइल कैदी जब पहली बार जेल पहुंचते हैं तो उन्हें सबसे ज्यादा शिकायत रक्तचाप की ही अक्सर देखने में आई है. वे पहले से ही जांच एजेंसियों की पूछताछ से थके-हारे होते हैं. रही सही कसर तिहाड़ जेल में पहली बार रात काटने का भय पूरी कर देता है.”

जेल के एक सूत्र ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया, “गुरुवार रात जेल पहुंचने के वक्त भी जेल चिकित्सकों ने चिदंबरम का स्वास्थ्य परीक्षण किया था, मगर उस वक्त उन्होंने इस हाईप्रोफाइल कैदी को सोने के लिए लकड़ी के तख्त की संस्तुति नहीं की थी. ऐसे में जेल जाने वाले देश के पहले पूर्व गृहमंत्री पी. चिदंबरम को जेल की कोठरी में पहली रात जमीन पर कंबलों को सहारे काटनी पड़ी.”

ये भी पढ़ें- क्या मायावती उत्तर प्रदेश में विपक्ष को कमजोर करना चाहती हैं?

चिदंबरम की पहली रात जेल में जैसे-तैसे कट गई. सुबह होते ही उन्होंने कोठरी के बाहर निकल कर थोड़े खुले वातावरण में खुली हवा लेने की इच्छा जाहिर की, तो जेल की सुरक्षा में तैनात वार्डन्स ने कोठरी के बाहर निकल कर टहलने की अनुमति उन्हें दे दी.”

चिदंबरम ने शुक्रवार सुबह जेल में बना नाश्ता ही लेने की इच्छा जताई. पूर्वाह्न् में जेल चिकित्सकों ने उनकी दुबारा स्वास्थ्य जांच की. इसी जांच के बाद चिकित्सकों ने जेल प्रशासन को आदेश दिया कि चिदंबरम को सोने के लिए लकड़ी का तख्त मुहैया कराया जाए.” जेल चिकित्सकों की सलाह के मुताबिक आज (शुक्रवार) लकड़ी का तख्त उन्हें (चिदंबरम) उपलब्ध करा दिया गया है.”

Tags:
COMMENT