इस फिल्म का मूल मकसद अपने ही देश में अंग्रेजी भाषा के सामने हिंदी को कमतर आंकना तथा शिक्षा का जो व्यापारीकरण हो गया है, उस पर चोट करना है.