सिर से पैर तक गरीबी में डूबे गोविंद जायसवाल के पिता बनारस की एक कच्ची कालोनी में एक कमरे के मकान में रहते थे और एक राशन की सरकारी दुकान में काम करते थे.