best hindi story

अमर में न जाने ऐसी क्या बात थी कि न चाहते हुए भी उस की बातों पर मेरा दिमाग विश्वास नहीं कर पा रहा था लेकिन दिल उस की बातों को झुठला भी नहीं पा रहा था. दिल और दिमाग की कशमकश में उलझा मैं इस उस की मदद को तैयार हो गया.

'सरस सलिल' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now