मेरा मानना था कि अपनी जाति, अपने धर्म के लोगों के बीच ही शादीब्याह जैसे रिश्ते करने चाहिए ताकि दोनों एकदूसरे से, परिवारों से, आपसी समझ और तालमेल बैठा सकें और सुखी संसार बसा सकें.