पतिपत्नी का रिश्ता टिका होता है विश्वास पर, प्यार पर, लेकिन दूसरी शादी करते वक्त सुधीर ने यह सबकुछ नहीं सोचा. उलटा अपनी गलती का दोषी भी पत्नी को बताया. क्या सुधीर के इस गुनाह को उस की पत्नी माफ कर सकी?