सुमित्रा तो परिवार, बच्चे व पति वाले मकान में भी छटपटा रही थी. उसे मुक्ति की चाह थी पर मुक्ति मिलती कहां है?