शिखा राकेश के दिलोदिमाग पर छा गई थी. शादीशुदा होते हुए शिखा के कदम भी राकेश की तरफ  बढ़ते गए. लेकिन सामाजिक बंधनों में बंधी शिखा, राकेश के प्रति पूरी तरह समर्पित नहीं हो सकती थी. क्या यह बात राकेश वक्त रहते समझ पाया?