अपने शहर में पुराने यार के आने, बुलाने की खुशी में शहर को बूढ़ी दुलहन की तरह सजाया जा रहा था. ‘सात समंदर पार से आया मेरा दोस्त, दोस्त को सलाम करो…’ वाला गाना छोटे बच्चों को स्कूल बंद करा कर उन के स्वागत के लिए सिखाया जा रहा था.

शहर में दिनरात विकास का काम चालू था. सरकारी ठेकेदार मजदूरों को हड़का कर उन का खून पानी समझ उसे बहा कर सरकार के यार के स्वागत के लिए कदमकदम पर तोरणद्वार बनवा रहे थे. सड़कों के साथ लगती गरीबों की बस्तियों को छिपाने के लिए उन के आगे उन से दोगुनी ऊंची ईंट की दीवारें चिनवा कर उन्हें छिपवा रहे थे.

…और सरकार ने हर अपने मातहत को आदेश दिया कि सरकार के यार के स्वागत में जंगल को मंगल की तरह सजाया जाए. हर गरीब की झुग्गी के आगे दीवार लगाई जाए, ताकि यार को पता चले कि हमारे राज में कोई गरीब नहीं है. हमें पता ही नहीं है कि गरीबी क्या होती है. हमें पता ही नहीं है कि गरीब कैसा होता है.

सब से बड़े सरकार ने अपने से नीचे वाले सरकार को यह हुक्म पोस्ट किया तो देखते ही देखते हुक्म बिन पैर सरपट दौड़ने लगा. उस से निचले वाले सरकार ने अपने से नीचे वाले सरकार को हुक्म सौंपा.

ज्यों ही उस से नीचे वाले सरकार को हुक्म मिला तो उस ने आव देखा न ताव, हुक्म पर घुग्घी मार कर हुक्म अपने से निचले सरकार के सिर पर डंडे की तरह चला दिया. आखिर में जब सब से निचले सरकार के पास सरकार का हुक्म आया, तो उस ने आंखें फाड़फाड़ कर हुक्म देखा.

ये भी पढ़ें- पहला प्यार : आखिरी भाग

उस के बाद अपने आगे देखा, अपने पीछे देखा, अपने दाएं देखा, अपने बाएं देखा, जब उसे लगा कि अपने आगे भी वही है, अपने पीछे भी वही है. अपने दाएं भी वही है, और अपने बाएं भी वही है तो उस ने पहले तो खुद को जीभर कर कोसा, फिर सरकार के हुक्म को. उस से नीचे कोई सरकार क्यों न हुआ, जो उस का हुक्म बजाता?

जब सब से निचले सरकार को पता चल गया कि अब सरकार का आया हुक्म उसे ही बजाना है, तो उस ने हुक्म बजाने के लिए खुद को सजाना शुरू किया.

मुनादी वाले से 1,000 रुपए की रसीद ले कर 500 रुपए दे कर अपने अंडर के सबडिवीजन में सब से निचले सरकार ने तत्काल मुनादी पिटवा दी, ‘मेरे अंडर के सबडिवीजन के हर आम और खास गरीब को ये सख्त हिदायत देते हुए सूचित किया जाता है कि शहर के दर्शन करने सात समंदर पार से सरकार के यार आ रहे हैं, इसलिए सरकार के यार को अपना सच न बताने के मकसद से हर किस्म के गरीब को यह सख्त आदेश दिए जाते हैं कि जब तक सरकार के यार शहर में रहें, शहर में घूमें, सरकार के हाथ चूमें, तब तक कोई भी किसी भी तरह का गरीब गलती से भी मेरे अंडर सबडिवीजन की सड़कों पर न उतरे.

‘रैड लाइटों पर इस बीच जो भी गरीब देखा जाएगा, उसे… मेरे अंडर सबडिवीजन के हर गरीब पर यह बैन तब तक जारी रहेगा, जब तक कि सरकार के यार देश घूम कर गरीबों की झुग्गियों के आगे लगी ईंट की दीवारों के आगे से हमारी अमीरी की तसवीरें साथ नहीं ले जाते. मुझ सब से निचली सरकार का यह आदेश मेरे अंडर के सबडिवीजन में अभी से लागू माना जाए.’

आखिर सब से निचले सरकार खुद को गालियां देते हुए हाथ में कानून का डंडा लिए अपने अंडर वाले सबडिवीजन की मेन सड़क पर सरकार के यार को रोतेपीटते खड़े हो गए, ताकि जब तक शहर में सरकार के यार रहें, सरकार के यार उन के अंडर वाले सबडिवीजन से गुजरें, तो उन को गरीबों से भरे उन के सबडिवीजन में कोई भी गरीब न दिखे.

सरकार अपने सबडिवीजन की मेन सड़क पर गरीबों पर कड़ी नजर रखे हुए थे. सरकार का काफिला सरकार के यार के पुतले को बख्तरबंद गाड़ी में बैठाए उसे अपना चमत्कारी शहर दिखा रहा था. सड़क के दोनों ओर अमीर ही अमीर मुसकराते खड़े हुए थे.

जिधर भी सरकार के यार के पुतले की नजर जाती, उसे न पेड़ दिखते, न पौधे, बस, अमीर ही अमीर दिखते. वाह, यह शहर तो उस के शहर से भी ज्यादा अमीर है.

सड़क के दोनों ओर 4 दिन पहले ही लगाए 100 साल पुराने बरगदों से ऊंचे हवा में झूमते नकली पेड़. मौक ड्रिल में सरकार के यार का पुतला यह सब देख कर खुश था.

…कि तभी सामने एक गरीब आ गया. ड्यूटी पर सोएसोए तैनात सब से निचले सरकार के उस गरीब के सड़क पर आते ही हाथपैर फूले. उसे लगा, अब गए हराम की खाने के दिन. इस से पहले कि सरकार के पुतले यार का काफिला वहां पहुंचता, उस ने गरीब को हड़काते हुए पूछा, ‘‘कहां से आया सड़क पर…?’’

‘‘हुजूर सामने से?’’ कह कर उस ने हाथ में टूटी बालटी वाले दोनों हाथ जोड़े.

‘‘कैसे?’’

‘‘हुजूर इन टांगों से,’’ कह कर उस ने अपनी नंगी टांगों की ओर इशारा किया.

‘‘कैसे…?’’

‘‘अपनी झुग्गी के आगे लगी दीवार फांद कर साहब.’’

‘‘हद है यार, इन मरियल टांगों में अभी भी इतना दम? सुना नहीं था कि जब तक सरकार के यार शहर में रहेंगे, तुम्हारा सड़कों पर आना बंद है?’’

ये भी पढ़ें- बहुरंगी आस्था

‘‘सुना तो है साहब, पर…’’

‘‘पर क्या…? शहर की असली तसवीर दिखाना चाहता है. चल, अभी तेरी चमड़ी उधेड़ता हूं,’’ कह कर सब से निचले सरकार ने उस गरीब की बांह पकड़ी, तो वह टूट कर उस के हाथ में आ गई तो सब से निचले सरकार उसे डांटते हुए बोले, ‘‘शर्म नहीं आती, इतनी कमजोर बाजुएं ले कर कानून तोड़ते हो? बाजुएं देखो तो अखबार के पुराने कागज जैसी और… जबान देखो तो… मतलब तुम…’’

‘‘बीवी को प्यास लगी थी, सो सड़क पर पानी भरने आ गया साहब. इस में मेरा क्या कुसूर?’’

‘सरकार से जबान लड़ाता है? अपनी चालाकी के बीच में बीवी को लाता है? सरकार हवा में पुरजोर डंडा लहराता हुआ दहाड़ा, तो उस गरीब ने कांपते हुए कहा, ‘‘साहब, बस एक बालटी पानी भर लेने दो. फिर जब तक आप खुद नहीं कहेंगे, तब तक अपनी झुग्गी से बाहर नहीं निकलेंगे.’’

दूरदूर तक सरकार के यार के काफिले की कोई आवाज न थी. तब सब से निचले सरकार ने उस गरीब की बीवी पर रहम करते हुए उसे झट से बालटी भरने की हिदायत देते हुए कहा, ‘‘देख, तेरी बीवी पर तरस खा कर तुझे छोड़े दे रहा हूं. मैं किसी भी किस्म के शौहरों पर रहम नहीं करता, पर हर किस्म के शौहरों की बीवियों पर बहुत रहम करता हूं.

‘‘और हां, अपनी बस्ती के तमाम गरीबों को मेरी तरफ से डरा देना कि

5 दिन तक जो कोई सड़क पर रात को दिखा तो देख लेना कि मुझ से बुरा कोई नहीं होगा.’’

‘‘ठीक है हुजूर, आप का आदेश सिरमाथे. आप कहो तो मरने तक अपनी झुग्गियों से बाहर न आएं,’’ उस गरीब ने पानी की बालटी सड़क पर सजे नल से ठूंसठूंस कर भरी और ताजाताजा ईंट लगी दीवार के पीछे अपनी झुग्गी बस्ती में जा कर दुबक गया.

Tags:
COMMENT