अपने जमाने के मशहूर हीरो, डायरैक्टर और फिल्मकार राज कपूर दर्शकों की कमजोर नब्ज पर हाथ रख कर फिल्में बनाना जानते थे, तभी तो वे हीरोइन को झरने के नीचे या बाथरूम में नहाते हुए कुछ इस तरह दिखाते थे कि देखने वालों की सांस थम जाए, गला सूखने लगे और वे सीन को टकटकी लगाए देखने पर मजबूर हो जाएं.

राज कपूर ने अपनी फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ में सिमी ग्रेवाल को नदी में कपड़े बदलते दिखाया था. इस फिल्म में राज कपूर के बचपन का रोल उन के बेटे ऋषि कपूर ने निभाया था, जो एक स्कूली छात्र था. वह अपनी नहाती हुई टीचर को चोरीछिपे देखता है, तो उस की सांसें धोंकनी की तरह चलने लगती हैं और वह बड़ी मुश्किल से अपनेआप पर काबू रख पाता है. सिमी ग्रेवाल की नंगी पीठ, छाती और अधनंगा बदन देख कर दर्शकों की भी यही हालत हुई थी.

राज कपूर ने हीरोइनों को नहाते हुए दिखाने का यह सिलसिला फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ तक बदस्तूर जारी रखा. इस फिल्म में हीरोइन मंदाकिनी को एक झरने के नीचे कुछ इस तरह से नहाते हुए दिखाया गया था कि साड़ी से चिपके उस के अंग ढक कम रहे थे, दिख ज्यादा रहे थे. पानी में आग लगाते इस सीन को भी दर्शकों ने परदे पर आंखें गड़ाए देखा था.

ये भी पढ़ें- पिता के रिकशा से आईएएस तक का सफर

इसी तरह फिल्म ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ में भी उन्होंने हीरोइन जीनत अमान को झरने के नीचे नहाते दिखा कर खूब दौलत और शोहरत बटोरी थी.

राज कपूर के इस कामयाब फार्मूले को बाद में हर किसी ने आजमाया. रमेश सिप्पी के डायरैक्शन में बनी फिल्म ‘सागर’ में डिंपल कपाडि़या को समंदर में नहाते देखने का लुत्फ भी दर्शकों ने उठाया.

साल 1983 में आई अमिताभ बच्चन की फिल्म ‘पुकार’ में भी जीनत अमान ने समंदर में नहाते हुए जम कर अंग प्रदर्शन किया था. इस फिल्म में अमिताभ बच्चन पर फिल्माया गाना ‘समुंदर में नहा के और भी नमकीन हो गई हो….’ आज तक लोग गुनगुनाते हैं.

हकीकत में भी कम नहीं

बाथरूम या नदी, झरने में नहाती लड़कियों को चोरीछिपे देखने का मजा हर मर्द उठाना चाहता है, बशर्ते उसे इस का मौका मिले. लेकिन यह मजा कभीकभार सजा भी बन जाता है. आजकल नदी, झरने तो बचे नहीं, लिहाजा मनचले मर्दों ने बाथरूम में ताकनाझांकना शुरू कर दिया है.

भोपाल के टीटी नगर इलाके में रहने वाला जयेश शर्मा एक प्राइवेट कंपनी में इंजीनियर था. 8 अक्तूबर, 2019 को जब पड़ोस में रहने वाली 17 साला एक लड़की अपनी छोटी बहन के साथ बाथरूम में नहा रही थी तो जयेश उन दोनों को छत पर जा कर देखने लगा. बाथरूम की छत चूंकि खुली हुई थी, इसलिए वह इतमीनान से उन्हें नहाते हुए देख रहा था. तभी उन लड़कियों की नजर उस पर पड़ी और उन्होंने हल्ला मचा दिया.

लड़कियों के शोर मचाने पर जयेश भागा, लेकिन लड़कियों के घर वालों ने पकड़ कर उसे न केवल सबक सिखा दिया, बल्कि छेड़छाड़ की रिपोर्ट भी टीटी नगर थाने में दर्ज करा दी.

ऐसा ही एक और दूसरा मामला 6 अगस्त, 2019 को उत्तर प्रदेश के उन्नाव के कैंट इलाके में देखने में आया था. बाथरूम में नहा रही एक फौजी की लड़की की नजर रोशनदान पर पड़ी तो उस ने देखा कि पड़ोस में रहने वाले 2 लड़के उसे नहाते हुए न केवल देख रहे थे, बल्कि उस की वीडियो क्लिप भी बना रहे थे.

ये भी पढ़ें- अंधविश्वास: समाधि ने ले ली बलि!

घबराई लड़की ने शोर मचाया तो लड़के भाग गए, लेकिन घर वालों ने उन का पीछा नहीं छोड़ा और कैंट थाने में मामला दर्ज करा दिया, जिस से वीडियो क्लिप अगर बनी हो तो जब्त हो जाए, नहीं तो उन्हें यह डर था कि अगर वीडियो क्लिप वायरल हुई तो बेटी के साथसाथ उन की भी बदनामी होगी.

ऐसे मामले अब आएदिन उजागर होने लगे हैं, जिन में लड़कों से ले कर बड़ी उम्र के लोग भी चोरीछिपे बाथरूम में नहाती लड़कियों को देखते हैं और मौका मिले तो वीडियो क्लिप भी बना लेते हैं, जिस से अकेले में उसे देख सकें. कइयों की मंशा तो लड़की को ब्लैकमेल करने की भी होती है.

भोपाल के कारोबारी इलाके एमपी नगर में तो इसी साल 27 मई, 2019 को एक और गजब मामला देखने में आया था. यहां के एक गर्ल्स होस्टल में लड़कियों को बाथरूम में नहाते देख एक लड़का 30 फुट ऊपर सीवर पाइप पर चढ़ गया था.

अमन कुमार मंडल नाम का यह लड़का भागलपुर से भोपाल से आया था और एक दुकान में काम करता था. दुकान के ऊपर ही गर्ल्स होस्टल था, जहां लड़कियों को नहाते देख वह पाइप के सहारे दूसरी मंजिल तक चढ़ गया और नहाती लड़की को देखने लगा था.

इस मामले में भी लड़की की नजर खिड़की से उस पार लड़के पर पड़ गई और उस ने शोर मचा दिया. अमन कुमार पाइप के सहारे उतर कर भागा, लेकिन तब तक होस्टल की सारी लड़कियां इकट्ठा हो गई थीं, जिन्होंने उसे पकड़ कर पहले तो जम कर धुना और फिर पुलिस के हवाले कर दिया.

मजे की वजह

छत या रोशनदान से देखें या फिर पाइप लाइन से चढ़ कर जाएं, लेकिन मर्द अगर बाथरूम में नहाती लड़कियों को देखने का जोखिम उठाते हैं तो इस की असल वजह समझ पाना कोई मुश्किल काम नहीं है. अगर तमाम मर्दों से यह पूछा जाए कि उन्हें लड़की या औरत को किस हालत में देखने पर जोश ज्यादा आता है तो आधों से ज्यादा का जवाब यही होगा कि नहाते हुए देखने में जोश ज्यादा आता है.

ऐसा क्यों? इस का सटीक जवाब शायद ही कोई दे पाए, लेकिन मर्दों की फितरत तो यही रहती है कि वे नहाती हुई लड़कियों को देखें. ऐसी हालत में उन के अंग कहने को ही ढके रहते हैं और चोरीछिपे देखे जाने में एक अलग सुख का अहसास होता है. इस फितरत पर यह कहावत लागू होती है कि खरीदे गए आमों से ज्यादा मजा चोरी किए गए आम खाने में आता है.

ये भी पढ़ें- क्या करें जब पड़ोस की लड़की भाने लगे

आमतौर पर हमारे देश में नहाने को ले कर या तो बेहद बंदिशें हैं या फिर इतना खुलापन है कि नदी किनारे गांवों में कुओं और तालाबों पर औरतों को नहाते हुए देखा जाना आम बात है. धार्मिक जगहों पर नदी किनारे औरतें बेहिचक नहाते दिख जाती हैं, लेकिन उन्हें खुलेआम देखने में लोगों को वह मजा नहीं आता जो चोरीछिपे देखने में आता है.

कविताओं, कहानियों में कई जगह लड़की की खूबसूरती की तारीफों में कसीदे गढ़े गए हैं. शेरोशायरी में भी भीगे बदन और जुल्फों से बहते पानी पर शेर कहे गए हैं, जिन से लगता है कि यह कोई नई बात नहीं है.

गलत है यह

भोपाल के जयेश शर्मा जैसे लोगों को सही नहीं ठहराया जा सकता, क्योंकि उन की मांग और नीयत में खोट थी. एक तरह से देखा जाए तो यह लड़कियों की बेइज्जती है, जो कानूनन छेड़छाड़ के दायरे में आती है.

आजकल तो हर हाथ में मोबाइल फोन है और मनचले टाइप के लड़के चोरीछिपे नहाती लड़कियों की वीडियो क्लिप बना लेते हैं और अगर यह वायरल हो जाए तो बदनामी लड़की की ही होती है. ब्लैकमेलिंग का भी यह बड़ा जरीया बनता जा रहा है कि नहाती लड़की की वीडियो क्लिप चोरी से बना लो और फिर उसे वायरल कर बदनाम करने की धमकी दे कर उसे ब्लैकमेल करो.

इस पर पूरी तरह से रोक लगना मुमकिन नहीं है, पर एहतियात लड़कियों को भी बरतनी चाहिए. ऐसे लोगों के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट जरूर दर्ज करानी चाहिए, नहीं तो वे फिर किसी दूसरी लड़की को भी इसी तरह ब्लैकमेल करेंगे.

नहाते समय बरतें सावधानी

* अगर बाथरूम की छत नहीं है तो सुबह जल्दी अंधेरे में नहा लिया जाए तो बेहतर रहेगा.

* किसी तिरपाल की आड़ हो सके तो जरूर करा लें.

* अपनी किसी छोटी बहन या मां से कह सकती हैं कि वे आसपास नजर रखें.

* नहाते समय खुद भी सतर्क रहें. कोई देख रहा है तो उसे तुरंत फटकार लगा दें.

* अगर बाथरूम में दरवाजा नहीं है तो चुन्नी या चादर से खुली जगह को ढक दें.

ये भी पढ़ें- कुछ ऐसे भी लोग करते हैं टिक-टौक से अपनें सपनों को पूरा

* पूरे कपड़े उतार कर न नहाएं. गांवदेहात में बहुत सी औरतें पेटीकोट अपनी छाती पर बांध कर नहाती हैं. लड़कियां भी वैसा ही कुछ तरीका अपना सकती हैं.

* बहुत सी लड़कियों को कोई गाना गाते हुए नहाने की आदत होती है. ऐसा करने से बचें, क्योंकि इस से मनचलों का ध्यान खिंचता है.

* अगर बाथरूम घर से दूर है या छत पर है तो उस के बाहरभीतर अच्छी तरह से देख लें कि किसी ने कोई मोबाइल कैमरा तो नहीं छिपा रखा है. बाहर की किसी आहट पर भी ध्यान दें कि कोई छिप कर तो नहीं देख रहा है.

Tags:
COMMENT