प्रेम मानव जीवन की मुधरतम भावना है लेकिन इस को परिभाषित करना लगभग असंभव है. प्रेम को शब्दों में परिभाषित करना उचित भी नहीं है. जिस तरह बहती हवा को या फूलों की खुशबू को हम देख नहीं सकते जबकि उसे अनुभव कर सकते हैं उसी तरह प्रेम भी एक एहसास है. प्रेम का अर्थ अलगअलग व्यक्तियों के लिए, अलग उम्र के लोगों के लिए और अलग रिश्तों के लिए भिन्न हो सकता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • मनोहर कहानियां की दिलचस्प क्राइम स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की चटपटी गॉसिप्स
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
Tags:
COMMENT