पटवारी राजस्व महकमे का भले ही एक मामूली कर्मचारी होता है, लेकिन उस के कारनामे एक से बढ़ कर एक हैं. छोटे ही नहीं, बल्कि बड़े किसानों की गांठ से भी वह पैसा निकलवाने का तरीका बखूबी जानता है. पटवारी को बगैर भेंट चढ़ाए किसानों के जूते घिस जाते हैं, लेकिन काम नहीं होता. पटवारी की कलम का मारा किसान जिंदगी भर मुकदमे में उलझा रहता है. इसलिए झंझट से बचने के लिए लोग पटवारी को नाखुश नहीं करते और उस की मांग पूरी करते रहते हैं.

बीच का खेत नहीं सूखा

पिछले साल यानी 2016 में मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ सूबे सूखे की चपेट में थे. इस आपदा की मार से दोनों सूबे के कई किसानों ने मौत को गले लगा लिया. जो बचे वे पटवारियों की करामात के कारण खून के आंसू रोते रहे. सूखा पटवारियों के लिए कमाई का सुनहरा मौका था. जिन किसानों ने पटवारियों को खुश कर दिया, उन का मुआवजा बन गया, लेकिन जिन्होंने भेंट नहीं चढ़ाई, वे भटकते रह गए. सतना जिले के एक किसान सोमेश तिवारी ने बताया, ‘एक बड़े खेत के 3 हिस्से हैं. मुझे खेत के बीच में हिस्सा मिला है, लेकिन मैं ने उसे घूस नहीं दी थी. उस ने जो रिपोर्ट पेश की थी, उस में लिखा था कि सोमेश की फसल को नुकसान नहीं हुआ है. सोचिए कि ऐसा कैसे हो सकता है  सूखे से तो पूरा खेत ही प्रभावित होगा न  बीच की फसल सूखे से कैसे बच जाएगी  मैं ने पटवारी की शिकायत कलेक्टर, विधायक और कृषि मंत्री से भी की. अखबारों में खबर भी छपवाई, लेकिन उस का बाल बांका भी नहीं हुआ. मैं आज तक मुआवजा नहीं पा सका.’

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरस सलिल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...