उद्योगपति, बैंक अधिकारी व सरकारी तंत्र के साथ जब सियासी रसूख मिल जाता है तो क्रोनी कैपिटलिज्म का अर्थजाल खड़ा हो जाता है.