लेखक- अक्षय कुलश्रेष्ठ

विपक्षी अमला ही अब हमलावर हो गया और राजनीतिक वजूद की लड़ाई सामने आ गई. चुनचुन कर लोगों की हत्याएं हो रही हैं. राजनीतिक रसूख पर ऐसा बट्टा लगा है जो बहुतों की रातों की नींदें हराम कर रहा है. यह बात राजनीतिक लोगों को हजम नहीं हो पा रही है कि अब विपक्ष नाम की कोई चीज है भी या नहीं.

एक तरफ हापुड़ में एक कांड को अंजाम दिया गया, वहीं अमेठी भी इस से अछूता नहीं रहा. हापुड़ के गांव करनपुर में घर के बाहर सो रहे भारतीय जनता पार्टी के पन्ना प्रमुख चंद्रपाल की 25 मई 2019 की रात गोलियों से भून कर हत्या कर दी गई. पास में ही सो रहे बेटे देवेंद्र ने जब शोर मचाया तो दोनों बदमाश अंधेरे का फायदा उठाते हुए जंगल की ओर भाग गए.

हुआ यों कि हापुड़ के गांव करनपुर के रहने वाले चंद्रपाल सिंह पुत्र पूरन सिंह भाजपा के पन्ना प्रमुख थे. उन के 5 बेटे व एक बेटी हैं. 25 मई 2019 की रात वह घर के बाहर सो रहे थे, वहीं पास में ही दूसरी चारपाई पर उन का बेटा देवेंद्र सो रहा था. देर रात 2 बदमाश वहां आए और चंद्रपाल के पड़ोसी धर्मपाल के घर के बाहर लगे खंभे पर बल्ब फोड़ कर अंधेरा कर दिया. इस के बाद बदमाशों ने चंद्रपाल को आवाज लगाई.

आवाज सुन कर चंद्रपाल जैसे ही उठ कर बैठे, बदमाशों ने उन की कनपटी से सटा कर गोली चला दी, लेकिन निशाना चूक गया. गोली उन की बाईं आंख में जा लगी. इस के बाद वह औंधे मुंह नीचे गिर गए. बदमाशों ने चंद्रपाल की कमर में भी 2 गोलियां मारीं.

ये भी पढ़ें- पौलिटिकल राउंडअप

गोलियों की आवाज सुन कर देवेंद्र की नींद खुली तो उस ने शोर मचा दिया. इस के बाद बदमाश पैदल ही अंधेरे का फायदा उठाते हुए जंगल की ओर भाग गए. शोर सुन कर गांव वाले जमा हुए तब तक चंद्रपाल की मौैत हो चुकी थी.

वहीं दूसरी ओर अमेठी के बरौलियां गांव में भी 25 मई 2019 की रात वारदात हुई. वहां भारतीय जनता पार्टी लोकसभा चुनाव में भारी बहुमत से जीत की खुशी मना रही थी. देर रात साढ़े 11 बजे 2 बाइक सवार बदमाश वहां आए. बदमाशों ने पूर्व प्रधान और भाजपा के समर्थक सुरेंद्र सिंह के सिर में गोली मार दी और मौके से फरार हो गए.

हत्या के वक्त सुरेंद्र सिंह घर के बरामदे में सो रहे थे, तभी उन पर गोलियों से हमला हुआ. घायल हालत में सुरेंद्र सिंह को अस्पताल ले गए, जहां डाक्टरों ने उन्हें लखनऊ के लिए रैफर कर दिया. लखनऊ ले जाते समय रास्ते में ही दम तोड़ दिया.

स्मृति ईरानी सुरेंद्र सिंह की शवयात्रा में शामिल हुईं और उन्होंने अर्थी को कंधा भी दिया. उन्होंने कहा कि सुरेंद्र की हत्या करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा. हत्या करने और करवाने वाले दोनों को कड़ी सजा दिलाएंगे. इस के लिए सुप्रीम कोर्ट तक भी जाना पड़ा तो जाएंगे और उन की लड़ाई पार्टी लड़ेगी.

पत्नी रुक्मणि सिंह ने कहा कि स्मृति ईरानी ने भरोसा दिया है कि वे अपने बच्चों की तरह ही मेरे बच्चों का खयाल रखेंगी. स्मृति ईरानी ने कहा कि अब इस परिवार को संभालने की जिम्मेदारी मेरी है. यह मेरी लड़ाई है. मैं सुप्रीम कोर्ट तक जाऊंगी.

ये भी पढ़ें- उंगली पर नीली स्याही से नहीं बदलेगी जिंदगी

बेटे अभय ने कहा कि मेरे पिता भारतीय जनता पार्टी की नेता स्मृति ईरानी के काफी करीबी थे और लोकसभा चुनाव में प्रचार की जिम्मेदारी निभा रहे थे. जीत के लिए विजय यात्रा निकाली जा रही थी. यह बात कांग्रेस नेताओं को हजम नहीं हुई, शायद इसीलिए उन की हत्या कर दी गई.

सुरेंद्र सिंह ने 2109 लोकसभा चुनाव में स्मृति ईरानी के चुनाव प्रचार में अहम भूमिका निभाई थी. कई गांवों में सुरेंद्र सिंह का अच्छाखासा दबदबा था. इस का फायदा इस चुनाव में स्मृति ईरानी को मिला. कांग्रेस के गढ़  अमेठी में कमल खिलाने का श्रेय काफी हद तक सुरेंद्र सिंह को भी जाता है.

Edited by – Neelesh Singh Sisodia

Tags:
COMMENT