बलात्कार की शिकार लड़कियां अगर अदालतों और प्रैस की शरण में हों तो भी उन के लिए जीना कितना मुश्किल है यह उन्नाव की 14 साल की लड़की के आरोप से साबित हो जाता है.