17 अक्तूबर, 2019 की शाम का वक्त था. हिंदूवादी नेता 50 साल के कमलेश तिवारी लखनऊ के खुर्शेदबाग स्थित अपने औफिस में बैठे थे. औफिस के ऊपर ही उन का आवास भी था, जिस में वह पत्नी किरन और बेटे ऋषि के साथ रहते थे. घर के नीचे कार्यकर्ताओं और दूसरे लोगों के बैठने की व्यवस्था थी. उसी समय उन के मोबाइल पर एक फोन आया जिस पर बात करने वाले ने कहा, ‘हम लोग आप से मिलने कल आ रहे हैं.’

इस के बाद कमलेश तिवारी ने अपनी पत्नी को बुलाया और बोले, ‘‘कल गुजरात से कुछ लोग मिलने आ रहे हैं. औफिस वाला कमरा साफ कर देना. उन लोगों को चाय के साथ खाने में ‘दही वड़ा’ तैयार कर देना. कार्यकर्ता हैं, इतनी दूर से आ रहे हैं.’’

पत्नी ने कमलेश के कहे अनुसार दूसरे दिन की पूरी तैयारी कर ली.

18 अक्तूबर को करीब पौने 12 बजे 2 युवक हाथ में मिठाई का डिब्बा लिए कमलेश तिवारी के घर पंहुचे. वे दोनों ही भगवा रंग के कुरते और डेनिम जींस पहने हुए थे. उन के पैरों में स्पोर्ट्स शूज थे. दोनों की उम्र 25 साल के करीब रही होगी. उन लोगों ने हिंदू समाज पार्टी के कार्यकर्ता सौराष्ठ सिंह को बताया कि कमलेश तिवारी से मिलने के लिए आए हैं. सौराष्ठ ने औफिस में बैठे कमलेश तिवारी से उन्हें मिलवा दिया.

कमलेश तिवारी उस समय औफिस में ही थे. वह उन्हीं दोनों का इंतजार कर रहे थे. कमलेश तिवारी सामने कुरसी पर थे. बीच में बड़ी सी मेज थी और सामने लोगों के बैठने के लिए कुछ कुरसियां पड़ी थीं. युवकों ने आते ही कमलेश तिवारी से अयोध्या मसले पर बात करनी शुरू की और कहा, ‘‘आप को बधाई, अब जल्दी ही फैसला आ जाएगा.’’

ये भी पढ़ें- प्यार में जब खेला गया अपहरण का खेल

कमलेश ने दोनों के लिए दही वड़ा और चाय मंगवाई. इस बीच दोनों युवकों ने अपने आने का उद्देश्य बताया कि उन्हें मुसलिम लड़की और हिंदू लड़के की शादी करानी है. साथ ही यह भी साफ कर दिया कि मुसलिम लड़की को उठा कर जबरन शादी करानी है. इस पर कमलेश तिवारी ने कहा कि वह जबरन लड़की को उठाने के पक्ष में नहीं हैं. जरूरत पड़ने पर केवल मध्यस्थता करा सकते हैं.

युवकों ने बातचीत जारी रखी. कमलेश की पत्नी चाय और दही वड़ा रख गई थी. चाय वगैरह पीने के बाद कमलेश ने पार्टी कार्यकर्ता सौराष्ठ को आवाज दी. वह ऊपर आया तो उन्होंने अपने लिए पान मसाला के पाउच लाने को कहा. इसी बीच दोनों युवकों ने अपने लिए सिगरेट का पैकेट लाने को कहा. सौराष्ठ सिगरेट और पान मसाला लेने चला गया.

इतने में दोनों युवक खडे़ हुए. मिठाई का डिब्बा देने के बहाने एक युवक कमलेश तिवारी के पास पहुंच गया और उस ने उन का मुंह दबा दिया. फिर बड़ी फुरती से गले पर चाकू लगा कर रेतने लगा. सामने वाले युवक ने कमलेश को पकड़ रखा था, जिस से वह हिल न सकें.

गला रेतने के बाद उस युवक ने चाकू से कमलेश की गरदन, गले, पीठ और छाती पर बेदर्दी से वार करने शुरू कर दिए. जब कमलेश गिर गए तो दूसरे युवक ने मिठाई के डिब्बे में रखी पिस्तौल गले पर सटा कर गोली चलाई. मात्र 5 मिनट में घटना को अंजाम दे कर दोनों सीढि़यों से उतर कर फरार हो गए.

कुछ देर में सौराष्ठ जब सिगरेट और मसाला ले कर ऊपर आया तो कमलेश को खून से लथपथ पड़ा देख कर आवाज लगाई. तिवारी की पत्नी किरन और बेटा ऋषि ऊपर के कमरे से नीचे आए. पति की हालत देख कर किरन दहाड़ें मार कर रोने लगी. सौराष्ठ और ऋषि कमलेश को ले कर अस्पताल गए. डाक्टरों ने उन्हें देखते ही कहा कि सांस की नली कटने से इन की मौत हो चुकी है.

राजधानी लखनऊ में दिनदहाडे़ हिंदूवादी नेता की हत्या से सनसनी फैल गई. पुलिस नेता और अन्य लोग कमलेश तिवारी के घर की तरफ दौड़े. एसएसपी कलानिधि नैथानी से ले कर छोटेबड़े सभी अफसर वहां आ गए. घटना की सूचना कमलेश तिवारी के सीतापुर स्थित गांव पहुंची तो वहां से उन की मां कुसुमा देवी और बाकी परिजन लखनऊ आ गए.

हत्या का सब से बड़ा कारण मुसलिम मौलानाओं द्वारा कमलेश का सिर काट कर लाने की धमकी को माना गया. इसी आधार पर कमलेश की पत्नी किरन ने पुलिस को एक तहरीर दी, जिस के आधार पर थाना नाका में भादंवि धारा 302 और 120बी के तहत मुकदमा कायम हुआ.

इस में मुफ्ती नवीम काजमी और इमाम मौलाना अनवारूल हक को नामजद किया गया. पुलिस को दी गई अपनी तहरीर में किरन ने कहा कि 3 साल पहले इन दोनों ने उस के पति का सिर काट कर लाने वाले को डेढ़ करोड़ का ईनाम देने की बात कही थी. इन लोगों ने ही तिवारीजी की हत्या कराई है.

पुलिस ने इसी सूचना के आधार पर अपनी जांच आगे बढ़ाई तो गुजरात पुलिस से पता चला कि उस के यहां पकडे़ गए कुछ अपराधियों ने इस योजना पर काम किया था.

ये भी पढ़ें- ड्राइवर बना जान का दुश्मन

लखनऊ पुलिस को घटनास्थल पर जो मिठाई का डिब्बा मिला, उस में एक बिल मिला, जिस में सूरत की मिठाई की दुकान का नाम लिखा था. यह मिठाई 16 अक्टूबर की रात करीब 9 बजे सूरत उद्योगनगर उधना स्थित धरती फूड प्रोडक्ट्स से खरीदी गई थी.

यूपी और गुजरात पुलिस ने जोड़ी कडि़यां

इस के बाद लखनऊ पुलिस ने गुजरात पुलिस से संपर्क किया तो साजिश की कडि़यां जुड़नी शुरू हुईं. कमलेश तिवारी की हत्या का आरोप जिन लोगों पर लगा, वे भी कमलेश को सोशल मीडिया से ही मिले थे.

अपनी जांच में पुलिस ने पाया कि कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले अशफाक ने रोहित सोलंकी ‘राजू’ के नाम से अपना फेसबुक प्रोफाइल बनाया था. उस ने खुद को एक दवा कंपनी में जौब करने वाला बताया. उस की रिहाइश मुंबई थी और सूरत में काम कर रहा था.

अशफाक ने हिंदू समाज पार्टी से जुड़ने के लिए गुजरात के प्रदेश अध्यक्ष जैमिन बापू से संपर्क किया था. जैमिन बापू कमलेश तिवारी के लिए गुजरात में पार्टी का काम देखते थे. जैमिन बापू के संपर्क में आने के बाद ही रोहित ने 2 फेसबुक प्रोफाइल बनाईं. इस के बाद वह कमलेश से जुड़ गया. वह फेसबुक पर हिंदुओं के देवीदेवताओं से जुड़ी पोस्ट शेयर करने लगा.

कमलेश तिवारी की फेसबुक पर मिली फोटो से पत्नी किरन और कार्यकर्ता सौराष्ठ सिंह ने दोनों हत्यारों की पहचान कर ली. पुलिस को अब तक दोनों का असली नाम अशफाक और मोइनुद्दीन पता चल चुका था.

जैसे ही इन दोनों के नाम खबरों में आए, तो नाका थाना क्षेत्र के ही ‘होटल खालसा इन’ के लोगों ने पुलिस को बताया कि इस तरह के 2 युवक 17 अक्तूबर को आधी रात आए थे और उन के होटल में रुके थे. सुबह होते ही वे कमरे से बाहर गए तो फिर दोपहर बाद वापस आए. उस के बाद गए तो वापस नहीं आए.

इन दोनों के बुक कराए गए कमरे को खोला गया तो वहां से खून से सने भगवा रंग के कुरते मिले. होटल में दिए गए आधार कार्ड से दोनों का एड्रैस मिल गया और पुलिस इन के पीछे लग गई.

5 दिन में ये दोनों कानपुर, शाहजहांपुर, दिल्ली होते हुए गुजरात पंहुच गए. वहां से दोनों भागने की फिराक में थे, लेकिन उस से पहले ही पुलिस ने उन्हें राजस्थान बौर्डर के शामलजी से पकड़ लिया.

पूछताछ में पता चला कि ये दोनों करीब 2 साल से कमलेश तिवारी को मारने की योजना पर काम कर रहे थे. अशफाक सूरत के ग्रीन व्यू अपार्टमेंट में रहता था और मोइनुद्दीन पठान सूरत की लो कास्ट कालोनी का रहने वाला था. अशफाक मैडिकल रिप्रजेंटेटिव और मोइनुद्दीन फूड डिलीवरी बौय का काम करता था.

पुलिस का कहना है कि ये दोनों पैसे के इंतजाम में अपने फोन से बातचीत करने लगे थे, जिस से गुजरात पुलिस को इन के ठिकाने का पता चल गया और इन्हें पकड़ लिया गया. पुलिस को अब यह पता करना बाकी है कि इन दोनों ने किस के कहने पर कमलेश तिवारी की हत्या की.

कट्टरवादी छवि थी कमलेश तिवारी की

कमलेश तिवारी खुद को हिंदू नेता के रूप में स्थापित करने की कोशिश में थे. वह धर्म से राजनीति की तरफ जाना चाहते थे. अपनी कट्टरवादी छवि से वह पूरे देश में प्रचारप्रसार करना चाहते थे. कमलेश तिवारी ने अपने कैरियर की शुरुआत हिंदू महासभा से की. इस के वह प्रदेश अध्यक्ष भी बने.

ये भी पढ़ें- दोस्ती की कमजोर छत

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की विधानसभा से मात्र 3 किलोमीटर दूर गुरुगोबिंद सिंह मार्ग के पास खुर्शेदबाग में हिंदू महासभा का प्रदेश कार्यालय था. खुर्शेदबाग का नाम हिंदू महासभा के कागजों पर वीर सावरकर नगर लिखा जाता है.

कमलेश तिवारी नाथूराम गोडसे को अपना आदर्श मानते थे. उन के घर पर नाथूराम गोडसे की तस्वीर लगी थी.

कमलेश तिवारी मूलरूप से सीतापुर जिले के संदना थाना क्षेत्र के गांव पारा के रहने वाले थे. साल 2014 में वह अपने गांव में नाथूराम गोडसे का मंदिर बनवाने को ले कर चर्चा में आए थे. 18 साल पहले कमलेश गांव छोड़ कर पूरे परिवार के साथ महमूदाबाद रहने चले गए थे. उन के पिता देवी प्रसाद उर्फ रामशरण महमूदाबाद कस्बे में स्थित रामजानकी मंदिर में पुजारी थे.

30 जनवरी, 2015 को तिवारी को अपने गांव पारा में गोडसे के मंदिर की नींव रखनी थी. लेकिन इसी बीच पैगंबर पर की गई टिपप्णी को ले कर वह दूसरे मामलों में उलझ गए.

महमूदाबाद में कमलेश के पिता रामशरण मां कुसुमा देवी, भाई सोनू और बड़ा बेटा सत्यम तिवारी रहते हैं. कमलेश तिवारी हिंदू महासभा के जिस प्रदेश कार्यालय से संगठन का काम देखते थे, कुछ समय के बाद वह अपने बेटे ऋषि और पत्नी किरन तिवारी और पार्टी कार्यकर्ता सौराष्ठ सिंह के साथ इसी कार्यालय के ऊपरी हिस्से में रहने लगे थे.

लखनऊ में उन के रहने का कोई दूसरा स्थान नहीं था. हिंदू महासभा से अलग हिंदू समाज पार्टी बनाने के बाद भी वह अपने पुराने संगठन के औफिस में ही रह रहे थे.

कमलेश तिवारी ने पहली दिसंबर, 2015 को हजरत पैगंबर मोहम्मद साहब के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. उस समय उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार थी और अखिलेश यादव मुख्यमंत्री थे. प्रदेश में सांप्रदायिक सौहार्द बना रहे, इस के लिए प्रशासन ने कमलेश तिवारी को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. जेल में रहते हुए कमलेश तिवारी को इस बात का मलाल था कि हिंदू महासभा के लोग उन की मदद को नहीं आए.

अब तक कमलेश तिवारी सोशल मीडिया पर कट्टरवादी हिंदुत्व का चेहरा बन कर उभर चुके थे. सोशल मीडिया पर उन के चाहने वालों की संख्या भी बढ़ चुकी थी. जेल से बाहर आने के बाद अखिलेश सरकार ने 12-13 पुलिसकर्मियों का एक सुरक्षा दस्ता कमलेश तिवारी की हिफाजत में लगा दिया था. ऐसे में अब वह खुद को बड़ा हिंदूवादी नेता मानने लगे थे. कमलेश तिवारी का कद बढने से हिंदू महासभा में उन्हें ले कर मतभेद शुरू हो गए.

खुद को बड़ा हिंदूवादी नेता मान चुके कमलेश तिवारी ने अपनी एक अलग ‘हिंदू समाज पार्टी’ का गठन कर लिया. वह हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन कर पूरे देश में अपना प्रचारप्रसार करने लगे. इस का सब से बड़ा जरिया सोशल मीडिया बना. हिंदू समाज के लिए तमाम लोग उन की पार्टी को मदद करने लगे थे.

उत्तर प्रदेश के बाहर कई प्रदेशों में हिंदू समाज पार्टी के साथ काम करने वाले लोग भी मिलने लगे. हिंदू समाज पार्टी को सब से अधिक समर्थन गुजरात से मिला. वहां पर कमलेश तिवारी ने पार्टी का गठन कर के जैमिन बापू को प्रदेश अध्यक्ष बना दिया था.

ये भी पढ़ें- कानून से खिलवाड़ करती हत्याएं

2017 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी की हार के बाद भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बनाई और महंत योगी आदित्यनाथ को प्रदेश का मुख्यमंत्री बना दिया. उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद योगी आदित्यनाथ प्रदेश में हिंदुत्व का चेहरा बन कर उभरे. ऐसे में कमलेश तिवारी को लगने लगा कि हिंदुत्व की राह पर चल कर वह भी राजनीति की बड़ी पारी खेल सकते हैं.

इस के बाद कमलेश तिवारी सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयानबाजी करने लगे. कमलेश तिवारी ने खुद को राममंदिर की राजनीति से भी जोड़ लिया था. अदालत में खुद को राममंदिर का पक्षकार बनने के लिए उन्होंने प्रार्थनापत्र भी दिया था. कमलेश अब अयोध्या को अपनी राजनीति का केंद्र बनाने की तैयारी करने लगे थे. इसी राह पर चलते हुए वह राममंदिर पर भारतीय जनता पार्टी की आलोचना करते थे.

कमलेश तिवारी का लक्ष्य अपने धार्मिक संगठन से राजनीतिक पकड़ को मजबूत करने की थी. 2019 के लोकसभा चुनाव में वह अयोध्या से लोकसभा का चुनाव भी लडे़ थे. हालांकि वह चुनाव नहीं जीत सके, लेकिन उन्हें लगता था कि 2022 के विधानसभा चुनाव में वह भाजपा का विकल्प बन सकते हैं.

एक तरफ कमलेश तिवारी राजनीति में आगे बढ़ने का प्रयास कर रहे थे तो दूसरी तरफ मुसलिम कट्टरवादी उन के कत्ल का तानाबाना बुन रहे थे. कमलेश तिवारी की सुरक्षा व्यवस्था में हुई कटौती ने मुसलिम कट्टरवादियों के मिशन को सरल कर दिया, जिस के फलस्वरूप 18 अक्तूबर को अशफाक और मोइनुद्दीन नामक 2 युवकों ने घर में घुस कर उन की गला रेत कर हत्या कर दी.

कमलेश कहते थे, ‘हिंदुओं का विरोध करने वाली समाजवादी पार्टी की सरकार ने मुझे 12-13 पुलिसकर्मियों की सुरक्षा दी थी. योगी सरकार ने सुरक्षा हटा दी और सुरक्षा में केवल एक सिपाही ही दिया. इस से जाहिर होता है कि मुझे मारने की साजिश में वर्तमान सरकार भी हिस्सेदार बन रही है.’

कमलेश तिवारी ने यह बयान सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था. सुरक्षा वापस लिए जाने के पहले भी कमलेश तिवारी भारतीय जनता पार्टी के विरोध में थे.

कमलेश तिवारी को लगता था कि भाजपा केवल हिंदुत्व का सहारा ले कर सत्ता में आ गई है. अब वह हिंदुओं के लिए कुछ नहीं कर रही. कमलेश के ऐसे विचारों का ही विरोध करते भाजपा से जुडे़ लोग कमलेश को कांग्रेसी कहते थे.

अपनी पार्टी को गति देने के लिए कमलेश तिवारी ने देश के आर्थिक हालात, पाकिस्तान में हिंदुओं पर अत्याचार, बंगाल में हिंदुओं की हत्या, नए मोटर कानून में बढ़े जुरमाने का विरोध, जीएसटी जैसे मुद्दों पर भाजपा की आलोचना की. इन मुद्दों को ले कर वह राजधानी लखनऊ में प्रदर्शन भी कर चुके थे.

उत्तर प्रदेश की राजधानी में भले ही कमलेश तिवारी को बड़ा नेता नहीं माना जाता था, लेकिन सोशल मीडिया में वह मजबूत हिंदूवादी नेता के रूप में पहचाने जाते थे. वह हिंदुत्व की अलख सोशल मीडिया के जरिए जला रहे थे. फेसबुक, वाट्सएप और ट्विटर पर वह हिंदुत्व के पक्ष में अपने विचार देते रहते थे. आपत्तिजनक टिप्पणियों के कारण फेसबुक उन की प्रोफाइल बंद कर देता था.

उत्तर प्रदेश में भले ही कांग्रेस नेताओं को कमलेश तिवारी की हत्या कानूनव्यवस्था का मसला लगती हो, पर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने उन की हत्या पर सवाल उठाते कहा कि कमलेश तिवारी की हत्या सुनियोजित है या नहीं, यह उत्तर प्रदेश सरकार बताए.

ये भी पढ़ें- साधना पटेल नहीं बन पाई बैंडिट क्वीन

कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले अशफाक ने फेसबुक मैसेंजर पर कमलेश तिवारी से बात करनी शुरू की थी. वह एक लड़की की शादी के सिलसिले में उन से मिलना चाहता था. कमलेश के करीबी गौरव से अशफाक ने जानपहचान बढ़ाई और उन के बारे में सारी जानकारी लेता रहा.

रोहित सोलंकी बन कर अशफाक ने जो फेसबुक प्रोफाइल बनाई थी, उस में हिंदूवादी संगठनों के 421 लोग जुडे थे. पुलिस का कहना है कि 2 साल से हत्यारोपी कमलेश तिवारी की हत्या की योजना पर काम कर रहे थे.

Tags:
COMMENT