उस मांस के टुकड़ों को बरतन में रखकर वह उसे खाने की तैयारीमें था. तभी पुलिस आ पहुंची. छत्तीसगढ़ की इस लोमहर्षक घटना से बोतल्दा गांव से लेकर प्रदेश भर में आम जनमानस यह देख स्तब्ध रह गया. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि अर्धविक्षिप्त युवक को मृतक माँ ने बड़ी मुश्किलों से पाला- पोसा था.
यहां महत्वपूर्ण बात यह है कि यह पूरा मामला साइको बीमारी से संबंधित है. साइको पीड़ित युवक का इलाज परिवार जन नहीं कर सके अंततः उसका यह भयंकर परिणाम सामने आया है ऐसे में आप सकता है कि हम अपने आसपास ऐसे साइको विक्षिप्त लोगों पर निगाह पड़ते ही उनकी समुचित इलाज की पहल करें.

साइको पीड़ित सीताराम

जिला पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार  खरसिया थाना के दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित बोतल्दा गांव में एक अर्धविक्षिप्त युवक ने अपनी मां फुलोबाई उरांव (50 वर्ष) की दिनदहाड़े टांगी से मारकर हत्या कर दी. हत्या करने के बाद सिर का भेजा (मांस) निकालकर उसके टुकड़े-टुकड़े किये.  पड़ोसी से पुलिस को घटना की सूचना मिली और पुलिस दलबल के साथ तत्परता से पहुँच गई. आरोपी सीताराम उरांव (32 वर्ष) पिता बलेश्वर उराव  लंबे समय से अर्धविक्षिप्त है. और उसका इलाज नहीं कराया जा रहा था. इस दिल दह्लाने वाली घटना के पश्चात घटनास्थल पर लोगों की भीड़ जुट गई और घटना की जानकारी आग की तरह चारो ओर फैलती चली गई.

ये भी पढ़ें- एक कोतवाल, रंगीन मिजाज 

पुलिस ने आरोपी को अपनी गिरफ्त में लेकर खानापूर्ति प्रारंभ कर दी अब सीतारामपुरा मां की हत्या के आरोप में जेल की सीखचो के पीछे होगा. इस घटना के बाद कई प्रश्न उठ खड़े होते हैं जैसे इस हत्या का दोषी कौन है क्या सीताराम मानसिक रूप से स्वस्थ होता तो क्या वह अपनी मां की हत्या कर सकता था?आज ऐसे प्रश्नों पर गंभीरता से चिंतन करने का समय है. आखिर इस घटना के पीछे दोषी कौन है क्या सीताराम दोषी है या उसका परिवार और अगर परिवार सक्षम था तो समाज और सरकार कहां है? यहां यह भी महत्वपूर्ण है कि जो व्यक्ति अपने मां की हत्या कर सकता है क्या वह किसी और की हत्या नहीं कर सकता था आज ऐसे अनेक मामले देश विदेश में हो रहे हैं मगर इस और न को समाजिक संस्था चिंतन कर रही है और ना ही सरकार.

खानापूरी जारी है

पुलिस बड़े ही गर्व के साथ यह बता रही है कि हमने हत्या का मामला दर्ज कर लिया
है.खरसिया थाना के निरीक्षक एस आर साहू ने हमारे संवाददाता को बताया कि जिस समय यह घटना हुई उस समय घर के पिछवाड़े में आरोपित के छोटे भाई की पत्नी किसी काम में लगी थी. आरोपी सिरफिरा बेटा शराब का आदी था और नशा करने के लिए माँ से पैसे की मांग कर रहा था. पैसा नहीं होने के कारण माँ उसे पैसे नहीं दे पाई जिससे गुस्से में आकर बेटे ने टांगी से माँ की हत्या कर दी और सिर के अन्दर से भेजा निकालकर टुकड़े कर दिए. घर मे जब भाई की पत्नी आई व खून से लथपथ सास को देखा.

ये भी पढ़ें- ए सीक्रेट नाइट इन होटल

जानकारी मिलने पर ग्रामीण जमा हो गए और 112 को सूचना दी. 112 ने पुलिस को जानकारी दी जिसके बाद पुलिस ने पहुंचकर शव बरामद कर लिया. साहू ने बताया कि पुलिस ने कडाही में रखे मांस के टुकडे को बरामद कर लिया है. उसने पुलिस को बताया कि वह उस मांस को पकाने की तैयारी में था मगर इतने में छोटे भाई की पत्नी आ गई जिससे वह भाग निकला.पुलिस के अनुसार घर में आरोपित और उसकी माँ एक साथ रहते थे जबकि उसका छोटा भाई अपनी पत्नी और बच्चे के साथ दूसरे कमरे में रहता था. एक ही घर में दो चूल्हे जलते थे. आरोपित युवक पहले स्वस्थ और कामकाजी था तथा गाड़ी चलाकर अपना और माँ का पेट पालता था. ड्राइवरी के दौरान ही गांजा-शराब की उसे लत लग गई और बाद में अर्धविक्षिप्त भी हो गया. साईको पीड़ित होने के बाद उसने काम छूट गया जिसके बाद माँ ही अर्धविक्षिप्त को स्वयं कमाकर पाल रही थी और नशे के लिए बेटे को पैसे भी देती थी. लेकिन कब क्या हो जाये इसका कोई अन्दाजा भी नहीं लगा सकता । क्या कोई बेटा ऐसा भी कर सकता है कि अपनी ही माँ की हत्या कर उसके माँस के छोटे छोटे टुकड़े को पकाकर खा जाये।

Tags:
COMMENT