सरस सलिल विशेष

सौजन्य- मनोहर कहानियां

इस बात से मेहताजी को पूरी तरह समझ में आ गया कि डिंपल का पूरा गैंग है, जो उस के माध्यम से लोगों को फांस कर रुपए ऐंठता है. सब कुछ जान कर भी वह कुछ कर नहीं पा रहे थे. वह पछता भी बहुत रहे थे. पर अब पछताने से क्या हो सकता था.

पुलिस से की शिकायत

इतने रुपए देने के बावजूद भी वह डर रहे थे कि फिर किसी बहाने से डिंपल उन से रुपए न मांग बैठे. आखिर उन का डर सच निकला. 15 दिन भी नहीं बीते थे कि मेहताजी के पास सूरत के थाना वारछा से फोन कर के धमकी दी गई कि अगर उन्होंने डिंपल को 15 लाख रुपए नहीं दिए तो उन पर डिंपल का जबरदस्ती गर्भपात कराने का मुकदमा दर्ज कर के जेल भेज दिया जाएगा.

जेल जाने और बदनामी के डर से मेहताजी ने जैसेतैसे कर के डिंपल को 15 लाख रुपए फिर दिए. इस के बाद फिर उन्हें धमका कर 50 हजार रुपए ले लिए गए.

इतने रुपए लेने के बाद भी मेहताजी को और रुपए देने के लिए धमकाया जाता रहा. जब मेहताजी को लगा कि डिंपल और उस के साथी उस का पीछा नहीं छोड़ने वाले तो वह थाना कोतवाली ऊंझा जा कर थानाप्रभारी एस.जे. वाघेला से मिले.

उन्हें पूरी आपबीती सुना कर कहा, ‘‘सर, किसी तरह मुझे इन लोगों के चंगुल से मुक्त कराइए. इन लोगों ने मुझे कंगाल तो कर ही दिया है, अब मेरी जान लेने पर तुले हैं.’’

इंसपेक्टर एस.जे. वाघेला ने मेहताजी से एक प्रार्थनापत्र ले कर डिंपल पटेल और उस के साथियों, मौलिक कुमार पटेल, एनसीपी नेता नटवर उर्फ नटुभाई ठाकोर निवासी महादेव उर्फ दिनेश चौधरी, अंकित कुमार पटेल और सनी कुमार पटेल के खिलाफ सामाजिक बदनामी और झूठी शिकायत कर फंसा देने सहित सोचीसमझी साजिश रच कर साढ़े 58 लाख रुपए ठगने का मुकदमा दर्ज करा दिया. सभी आरोपी ऊंझा के रहने वाले थे.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • मनोहर कहानियां की दिलचस्प क्राइम स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री की चटपटी गॉसिप्स
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
Tags:
COMMENT