डिंपल ने दोस्ती का चारा फेंक कर मेहताजी को अपने हुस्न के जाल में ऐसा फांसा कि वह चाह कर भी उस से निकल न सके.
अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now