अनूप की उम्र 17 साल थी. वह पास के ही एक स्कूल में 12वीं जमात में पढ़ता था. एक दिन जब वह स्कूल से घर आया तो देखा कि उस की मम्मी के साथ एक खूबसूरत औरत बैठी थी. वह औरत जवान थी और काफी पढ़ीलिखी भी लग रही थी.

मम्मी ने अनूप को बताया कि वह औरत साथ वाले घर में अपने पति के साथ रहने आई है. बातों ही बातों में जब पता चला कि माया नाम की वह खूबसूरत पड़ोसन इंगलिश में एमए है तो अनूप की मम्मी ने बिना देर किए माया के यहां अनूप का ट्यूशन लगवा दिया.

ये भी पढ़ें : रुपाली का घिनौना रुप

अनूप तो अपनी माया भाभी के पास पढ़ने के खयाल से ही झूमने लगा था. अगले हफ्ते से अनूप का ट्यूशन शुरू हुआ तो वह पढ़ने से ज्यादा माया भाभी पर नजरें टिका कर रखता था.

हैरत की बात तो यह थी कि माया भाभी उसे कभी इस बात के लिए टोकती नहीं थीं. वे कभी कौपी पकड़ाने के बहाने उस के हाथों को छूती थीं तो कभी उसे अपने करीब बिठाती थीं.

शुक्रवार का दिन था. अनूप रोज की तरह माया भाभी के पास पढ़ने गया, पर भाभी तो कुछ बीमार दिख रही थीं. उन्होंने अनूप को बैडरूम में आ कर पढ़ने के लिए कहा.

जब अनूप बैड पर बैठा पढ़ रहा था तो उस का ध्यान अपनी पढ़ाई पर कम और माया भाभी पर ज्यादा था.

माया भाभी अचानक कराहीं तो अनूप को लगा कि उन की तबीयत बिगड़ रही है. वह उन्हें पानी पिलाने लगा तो उन्होंने गिलास उस के हाथ से ले कर पानी अपनी गरदन पर उड़ेल लिया. उन्होंने अनूप को पानी पोंछने के लिए कहा तो अनूप उन की बात मान कर वैसा ही करने लगा.

पर माया भाभी की मंशा कुछ और ही थी. उन्होंने अनूप को अपनी तरफ खींचा और उसे चूम लिया.

पहले अनूप थोड़ा सकपकाया, मगर खुद को दूर करने के बजाय उस ने माया भाभी के वश में रहना ज्यादा अच्छा समझा. इस के बाद तो वे दोनों उसी बैड पर प्यार का ट्यूशन पढ़ने लगे.

ये भी पढ़ें : ससुर ही हो दुराचारी फिर कहां जाए बहू बेचारी

माया भाभी और अनूप के इन नाजायज संबंधों का सिलसिला तकरीबन 2-3 हफ्तों तक चला. न किसी को शक हुआ, न उन्होंने किसी की परवाह ही की.

लेकिन एक दिन जब माया भाभी के पति दिनेश औफिस से बिना बताए जल्दी घर लौटे और उन्होंने डोरबैल बजाने से बेहतर अपने पास रखी चाबी से दरवाजा खोला तो चौंक गए.

अनूप और अपनी पत्नी माया को बिस्तर पर देख दिनेश हैरान रह गए. उन्होंने दोनों को खूब गालियां दीं.

अनूप किसी तरह अपने कपड़े उठा कर वहां से भागा. वह घर पहुंचा और अपने कमरे का दरवाजा बंद कर के वहीं बैठा रहा.

सरस सलिल विशेष

कुछ देर बाद जब मम्मीपापा आए तो उन्होंने जबरदस्ती अनूप को कमरे से निकाला और खरीखोटी सुनाई. पापा ने तो उसे कई चांटे भी जड़ दिए.

जब माया और अनूप के नाजायज संबंधों की जानकारी दूसरे लोगों को लगी तो उन का मजाक बनाया जाने लगा. अनूप को खूंटे से बांधने की हिदायतें दी जाने लगीं. माया का तो घर से बाहर निकलना ही बंद हो गया था.

स्कूल में भी अनूप को कोई छिछोरा कहता तो कोई बेशर्म. इन तानों से अनूप की जिंदगी नरक बन गई थी.

एक दिन अनूप माया भाभी के घर जा पहुंचा. माया ने दरवाजा खोला तो अनूप ने उन के मुंह पर थप्पड़ जड़ दिया और जेब से ब्लेड निकाल कर उन की गरदन पर चलाने की कोशिश की.

जब माया चिल्लाईं तो आसपड़ोस के कुछ लोगों ने अनूप को रोका और उस की मां को वहां बुलाया.

माया तो बच गईं, पर अनूप को उन की जान लेने की कोशिश के जुर्म में बाल सुधारगृह भेज दिया गया.

इसी तरह अगस्त, 2015 की बात है. 23 साला प्रवीण को पुलिस ने 3 लोगों के खून के इलजाम में उस के घर से गिरफ्तार किया था.

ये भी पढ़ें : मिल ही गई गुनाहों की सजा

प्रवीण ने अपनी 37 साला पड़ोसन रीना और उस के 2 बच्चों की हत्या की थी. हत्या की वजह भी यही थी कि रीना इन्हीं बातों से तिलमिलाए प्रवीण को पिछले एक साल से जिस्मानी संबंध बनाने के लिए मजबूर कर रही थी. पर अब प्रवीण इस रिश्ते को खत्म करना चाहता था. रीना उसे ऐसा करने नहीं दे रही थी. इसी के चलते प्रवीण ने रीना और उस के 12 साल के बेटे आदिल और 5 साल की बेटी साहित्य की हत्या कर दी.

इस तरह के नाजायज संबंधों में अकसर लड़के की उम्र औरत से छोटी होती है, पर आने वाले खतरों के शिकार वे दोनों ही किसी न किसी तरह से होते हैं. किसी औरत की उम्र ज्यादा होने के चलते उस के लिए ऐसे संबंध केवल मनोरंजन का जरीया मात्र हो सकते हैं, इसलिए जवान होते लड़कों को इन के आने वाले खतरों के बारे में सचेत रहना बहुत जरूरी है.

Tags:
COMMENT