जालंधर देहात के थाना भोगपुर के अंतर्गत आने वाले गांव बढ़चूही में नाथ समुदाय के बाबा बालकनाथ का प्रसिद्ध डेरा है, जिस की बड़ी मान्यता है. जालंधर और उस के आसपास क्षेत्र के तो क्या, दूरदूर से लोग अपनी श्रद्धा के वशीभूत डेरे पर अपनी समस्याओं के समाधान के लिए आते रहते थे. दरअसल, सालों पहले महंत प्रीतम सिंह ने सरपंच और गांव वालों की मदद से इस डेरे की नींव रखी थी. बाद में देखतेदेखते इस डेरे की मान्यता दूरदूर तक फैल गई.

डेरे पर हर तरह की समस्याओं से ग्रस्त लोग समाधान के लिए आते थे. हां, निस्संतान औरतों का संतान प्राप्ति के लिए डेरे पर आनाजाना कुछ अधिक ही था. कहा जाता है कि संतान की चाह रखने वाली जरूरतमंद औरतों की मुराद यहां आ कर पूरी हो जाती थी. इस डेरे का संचालन करने वाले महंत प्रीतम सिंह के बारे में कहा जाता है कि कई साल पहले वह झारखंड से यहां आए थे.

महंत प्रीतम सिंह थाना तेरापाहा के अंतर्गत आने वाले गांव चंपवाला, जिला कुरी, झारखंड के मूल निवासी थे. लोगों का मानना था कि उन पर बाबा बालकनाथजी की कृपा थी. डेरे की सेवा का काम बाबा प्रीतम सिंह का भांजा राम करता था.

26 जून, 2016 की शाम को राम और उस का दोस्त चैंपियन शाम के समय डेरे की साफसफाई में लगे थे. उस वक्त बाबा अपने निजी कक्ष में ध्यान में बैठे थे. तभी 2 युवक डेरे का मुख्यद्वार खोल कर भीतर आए और बिना किसी से पूछे ऊपर बाबा के निजी कक्ष की ओर चले गए.

राम और उस के दोस्त चैंपियन ने उन्हें बाबाजी के कक्ष की ओर जाते देखा था, पर उन्होंने इस ओर बिलकुल ध्यान नहीं दिया था, क्योंकि डेराप्रेमी श्रद्धालु अकसर बाबा से मिलने आते रहते थे. दोनों युवकों को ऊपर गए अभी मुश्किल से 5 मिनट ही गुजरे थे कि गोली चलने की आवाज के साथ चीख भी सुनाई दी. राम और चैंपियन ने चौंक कर देखा, गोली चलने की आवाज और चीख बाबा के कक्ष की ओर से आई थी.

वे अवाक खड़े अभी सोच ही रहे थे कि क्या मामला है, तभी दोनों युवक अपने हाथ में पिस्तौल लिए बाबा के कक्ष से निकले और मुख्यद्वार की ओर भाग गए. यह सब इतनी जल्दी हुआ कि कुछ सोचनेसमझने का मौका ही नहीं मिला था.

राम और चैंपियन दौड़ कर बाबा के कक्ष की ओर लपके. दोनों ऊपर पहुंचे तो वहां का नजारा देख कर उन के पैरों तले से जमीन निकल गई. बाबाजी के सिर से खून का फव्वारा छूट रहा था और वह बैड पर औंधे पड़े थे.

डेरे में गोली चलने की आवाज कुछ गांव वालों ने भी सुनी थी, वे भी हकीकत जानने के लिए डेरे में दौड़े चले आए थे. राम और चैंपियन ने देखा तो बाबा की नब्ज चल रही थी. राम ने तुरंत गांव के प्रधान महिंदर सिंह को सूचना देने के साथ थाना भागपुर पुलिस को भी घटना के बारे में बता दिया. यह 26 जून, 2016 की घटना है.

सूचना मिलते ही जालंधर देहात के एसएसपी गुरप्रीत सिंह भुल्लर, डीएसपी और थाना भागपुर के प्रभारी एसआई प्रीतम सिंह अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए. बाबा को तुरंत वहां के नजदीकी निजी अस्पताल पहुंचाया गया.

इस काम से फारिग होने के बाद थानाप्रभारी प्रीतम सिंह ने गांव वालों और राम के बयान दर्ज किए. राम के बयान पर महंत प्रीतम सिंह की हत्या के मकसद से जानलेवा हमला करने का मुकदमा भादंसं की धारा 307 के तहत दर्ज कर के हमलावरों की तलाश शुरू कर दी गई.

उधर अस्पताल में डाक्टरों के तमाम प्रयासों के बाद भी बाबा को बचाया नहीं जा सका. उन की मौत के बाद थानाप्रभारी ने लाश को कब्जे में ले कर पंचनामा तैयार किया और लाश पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दी. बाबा प्रीतम सिंह की हत्या दिनदहाड़े सिर में गोली मारकर की गई थी और हत्यारे फरार हो गए थे.

कुछ ही देर में बाबा की हत्या की खबर पूरे क्षेत्र में फैल गई. देखतेदेखते हजारों श्रद्धालु बाबा के डेरे और अस्पताल के पास जमा हो गए और आक्रोश में पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए हत्यारों को जल्दी गिरफ्तार करने की मांग करने लगे. बेकाबू होती भीड़ ने दिल्ली जम्मू नेशनल हाईवे को जाम कर दिया, साथ ही उन्होंने सरकारी वाहनों की तोड़फोड़ भी शुरू कर दी, जिस पर पुलिस ने बड़ी मुश्किल से काबू पाया.

शुरुआती जांच में थानाप्रभारी प्रीतम सिंह ने बाबा के कमरे का बारीकी से निरीक्षण किया. कमरे के बाहर और अंदर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए थे. उन कैमरों से प्रीतम सिंह को बड़ी उम्मीद थी कि कैमरों से हमलावरों का सुराग लग सकता है. पर जब मुआयना किया गया तो कैमरे वहां से गायब पाए गए.

हमलावर बाबा पर गोली चलाने के बाद सीसीटीवी कैमरे भी उखाड़ कर साथ ले गए थे. आगे की जांच में पता चला कि बाबा प्रीतम सिंह एक अच्छे इंसान थे, समाज और मानव कल्याण ही उन का मूल उद्देश्य था. ऐसे नेक इंसान को गोली मार कर हत्या करने का क्या मकसद हो सकता है, यह समझ से परे था.

प्रीतम सिंह ने गांव वालों से पूछताछ की और बाबा के भांजे राम और उस के दोस्त चैंपियन के बयान भी फिर से दर्ज किए पर कोई खास बात पता नहीं चल सकी. दिनरात की मशक्कत और मुखबिरों का सहारा लेने के बाद भी वह बाबा प्रीतम सिंह के हत्यारों तक नहीं पहुंच सके. इसी बीच उन का तबादला हो गया.

सरस सलिल विशेष

प्रीतम सिंह के तबादले के बाद नए थानाप्रभारी ने भी अपने कार्यकाल में बाबा के हत्यारों को ढूंढने का काफी प्रयास किया, पर वह भी सफल नहीं हो पाए. इस के बाद यह केस पूरे एक साल तक जिले के सीआईए स्टाफ और क्राइम ब्रांच के पास भटकता रहा. इतना अरसा गुजर जाने के बाद स्थानीय लोग भी इस घटना को भूलने लगे थे.

बाबा के श्रद्धालु भले ही बाबाजी की गोली मार कर हत्या कर देने की बात को भूलने लगे थे, पर जालंधर देहात के एसपी गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने बाबा प्रीतम सिंह के हत्यारों को कभी नजरअंदाज नहीं किया था. उन्होंने अपने कुछ खास पुलिस अफसरों को इस काम पर लगाया हुआ था.

बाबा प्रीतम सिंह की हत्या की वजह पता चल जाती तो हत्यारों तक पहुंचा जा सकता था. पुलिस के सामने सब से बड़ी चुनौती यह जानने की थी कि आखिर बाबा की हत्या किस मकसद से की गई थी. उन की किसी से ऐसी क्या दुश्मनी थी कि हत्यारों को उन की हत्या करनी पड़ी. निस्संदेह इस के पीछे कोई बहुत बड़ा कारण रहा होगा.

एसपी भुल्लर ने अपनी टीम को सब से पहले यही बात पता करने के लिए लगाया. जल्द ही उन्हें पता चला कि बाबा प्रीतम सिंह एक अय्याश आदमी था. निस्संतान औरतों को संतान देने का आशीर्वाद देने और उन का इलाज करने के बहाने वह उन का शारीरिक शोषण किया करता था.

यह बात पता चलने पर पुलिस ने जब इसी थ्यौरी पर जांच कार्य आगे बढ़ाया तो एक नाम निकल कर सामने आया, गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी निवासी कमराय, भुलत्थ. दरअसल, गोपी की कोई रिश्तेदार थी, जिस के साथ बाबा ने रिद्धिसिद्धि का आशीर्वाद देने का झांसा दे कर उस का शारीरिक शोषण किया था.

गोपी को जब बाबा की इन काली करतूतों का पता चला तो उस ने बाबा प्रीतम को सबक सिखाने और अपनी रिश्तेदार का बदला लेने के लिए उस की हत्या करने की योजना बनाई थी.

इस योजना में गोपी ने अपने एक साथी ओंकार सिंह उर्फ कारा निवासी रहीमपुर, करतारपुर को रुपयों का लालच दे कर तैयार किया था. गोपी के कहने पर ही ओंकार सिंह ने अपने एक दोस्त राजविंदर सिंह उर्फ राजा निवासी रामगढ़, भुलत्थ को पैसों का लालच दे कर साथ मिला लिया था.

अब तक की जांच में पुलिस को बाबा की हत्या करने का कारण और हत्यारों का पता लग चुका था, पर लाख कोशिश करने के बाद भी पुलिस अभी तक यह पता लगाने में सफल नहीं हुई थी कि बाबा को गोली मार कर फरार होने के बाद ये तीनों लोग कहां भूमिगत हो गए थे.

बहरहाल, 10 सितंबर, 2017 को जालंधर देहात पुलिस को सूचना मिली कि भोगपुर के गांव बढ़चुई में करीब सवा साल पहले डेरा संचालक बाबा प्रीतम की हत्या करने वालों में से एक ओंकार सिंह उर्फ कारा विदेश जाने की फिराक में है. यह भी पता चला कि ओंकार सिंह जालंधर के एक ट्रैवल एजेंट के पास अपना पासपोर्ट और टिकट लेने के लिए आने वाला है.

एसपी द्वारा बनाई गई पुलिस टीम को जांच के दौरान ओंकार सिंह के खिलाफ पुख्ता सबूत और प्रमाण मिले थे. पुलिस ने ट्रैवेल एजेंट के औफिस के बाहर अपना जाल बिछा कर ओंकार सिंह उर्फ कारा को गिरफ्तार कर लिया. मौके पर ही उस के पास से मोटरसाइकिल व तेजधार के हथियार बरामद हुए.

गिरफ्तारी के बाद ओंकार सिंह को सीआईए स्टाफ ला कर पूछताछ की गई तो बिना किसी हीलहुज्जत के उस ने बाबा प्रीतम सिंह की हत्या करने का अपराध स्वीकार करते हुए खुलासा किया कि डेरा संचालक की हत्या उस ने अपने साथी राजविंदर सिंह उर्फ राजा के साथ मिल कर की थी.

उस ने यह भी बताया कि उन दोनों को बाबा की हत्या करने के लिए गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी ने 3 लाख रुपए की सुपारी दी थी. यह भी पता चला कि बाबा की हत्या करने की सुपारी देने वाला गोपी और बाबा की हत्या करने में ओंकार सिंह का साथ देने वाला राजविंदर सिंह उर्फ राजा दोनों ही विदेश जा चुके हैं.

उसी दिन ओंकार को अदालत में पेश कर के आगामी पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया गया. एसपी गुरप्रीत सिंह भुल्लर द्वारा उस से की गई विस्तृत पूछताछ में बाबा प्रीतम सिंह की हत्या की जो कहानी प्रकाश में आई, वह अंधविश्वास का मायाजाल फैला कर भोलेभाले लोगों की आस्था से खेलने वाले एक अय्याश बाबा की कहानी थी, जोकि हमारे सभ्य समाज के लिए एक भयानक कलंक के समान है.

देखा जाए तो बाबा प्रीतम सिंह शुरू से ही अय्याश किस्म का आदमी था. किसी कारण वश अपने किसी अपराध को छिपाने के लिए वह बिहार छोड़ कर फरार हो गया था और दिल्ली, यूपी के अलगअलग शहरों की खाक छानते हुए पंजाब पहुंचा था.

यहां पर कुछ समय किसी बाबा की सोहबत में रहने के बाद वह भी अपने आप को सिद्ध समझने लगा और बढ़चूही गांव के भोलेभाले लोगों को अपने विश्वास में ले कर उस ने गांव में ही डेरा बना लिया. उस डेरे का संचालक बन कर वह लोगों की आस्था और भावनाओं से खिलवाड़ करने लगा.

बाबा प्रीतम सिंह ने अपने बारे में प्रचारित कर रखा था कि उस के पास बाबा बालकनाथ की सिद्धी और कृपा है. अपने आशीर्वाद से वह बांझ औरतों को भी संतान सुख दे सकता है. उस की इन बातों से प्रभावित हो कर सैकड़ों निस्संतान स्त्रियां संतान प्राप्ति के लिए उस के डेरे पर आने लगीं, जिस में से अधिकांश के साथ बाबा ने आंतरिक संबंध बनाए थे.

अधिकांश गांववासियों का कहना था कि बाबा प्रीतम सिंह डेरे में महिलाओं के साथ गलत काम करता था. गोपी की कोई रिश्तेदार लड़की भी अपनी किसी समस्या के समाधान के लिए बाबा प्रीतम सिंह के मायाजाल में फंस गई थी, जिस का बाबा ने जी भर कर आर्थिक और शारीरिक शोषण किया था.

वह युवती बाबा के चंगुल में इतनी बुरी तरह फंसी थी कि अपने साथ हुए धोखे के बारे में किसी से खुल कर बात भी नहीं कर सकती थी, क्योंकि बाबा ऐसी युवतियों को बदनाम कर देने की बात कह कर ब्लैकमेल भी किया करता था. फलस्वरूप वह युवती भी खामोशी से बाबा के शोषण का शिकार होती रही. उस ने यह बात किसी को नहीं बताई कि संतान होने का आशीर्वाद देने के नाम पर बाबा युवा औरतों के साथ क्याक्या खेल खेलता है.

लेकिन एक दिन किसी तरह यह बात गोपी को पता चल गई. सच्चाई जान कर उस का खून खौल उठा. आस्था के नाम पर भोलेभाले लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने और उन का शोषण करने वाले बाबा प्रीतम सिंह को सबक सिखाने के लिए गोपी ने उस की हत्या करने की योजना बना ली. बाबा के काले कारनामे उस ने अपने दोस्त ओंकार को बताए तो रुपयों के बदले वह इस काम में उस की मदद करने को तैयार हो गया.

बाबा के डेरे पर हर समय लोगों का आनाजाना लगा रहता था, कोई न कोई सेवादार या कोई और 24 घंटे डेरे पर मौजूद रहता था. ऐसे में बाबा की हत्या करना किसी अकेले के वश की बात नहीं थी, सो ओंकार ने इस काम के लिए अपने दोस्त राजविंदर उर्फ राजा को पैसों का लालच दे कर अपनी योजना में शामिल कर लिया.

ओंकार और राजविंदर ने गोपी की बात मान ली और बाबा की हत्या का सौदा 3 लाख में कर लिया. ओंकार व राजविंदर 26 जून, 2016 को दोपहर बाद करीब साढ़े 4 बजे डेरे में गए और बाबा की गोली मार कर हत्या कर दी. उस समय भी बाबा अपने कक्ष में किसी युवती के साथ था.

बाबा की हत्या के बाद दोनों ने वहां लगे सीसीटीवी कैमरे उखाड़ लिए थे. बाबा की हत्या के बाद उन्होंने वहां से लाए सीसीटीवी कैमरे और डीवीआर गोपी को दे दिए थे. संभवत: गोपी ने सीसीटीवी चैक करने के बाद ओंकार व राजविंदर को 3 लाख रुपए दे दिए. दोनों ने मौके पर ही डेढ़-डेढ़ लाख रुपए बांट लिए थे. इसी दौरान गोपी ने सीसीटीवी कैमरे और डीवीआर जला कर बाबा की हत्या करने के सारे सबूत नष्ट कर दिए थे.

इस वारदात के बाद अगले ही दिन 27 जून, 2016 को ओंकार व राजविंदर दोनों गोपी से मिले. गोपी ने उन्हें सलाह दी कि वे दोनों विदेश भाग जाएं. वैसे भी गोपी और राजा विदेश जाने वाले थे, उन का पासपोर्ट और वीजा भी तैयार था.

राजा इसी साल अप्रैल-मई में जर्मनी चला गया था और गुरप्रीत उर्फ गोपी वारदात के कुछ महीने बाद दुबई चला गया. इस के बाद दोनों वापस नहीं आए थे. फिलहाल थाना भोगपुर, जालंधर पुलिस दोनों आरोपियों की एलओसी जारी कर गिरफ्तारी के लिए कानूनी औपचारिकताएं पूरी कर के उन्हें भारत लाने की कोशिश में है, ताकि उन पर बाबा प्रीतम सिंह की हत्या का मुकदमा चलाया जा सके.

बाबा प्रीतम सिंह की हत्या के अलावा भी ओंकार व राजविंदर के खिलाफ भुलत्थ व करतारपुर इलाके में लूट व हत्या के केस दर्ज हैं. पत्रकार वार्ता में एसएसपी गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने बताया कि ओंकार सिंह के खिलाफ सितंबर, 2008 में थाना करतारपुर में हत्या का केस दर्ज हुआ था.

ओंकार सिंह ने अपने साथियों के साथ मिल कर मलकीत सन्नी की हत्या कर के उस की लाश जमीन में दबा दी थी. इस केस में ओंकार को 20 साल की सजा हुई थी. 6 साल सजा काटने पर सन 2014 में वह जमानत पर आया था, जबकि राजविंदर भुलत्थ में पैट्रोल पंप की लूट तथा करतारपुर में फाइनैंसर पर फायरिंग कर लूट आदि की वारदातों में नामजद है.

ओंकार सिंह उर्फ कारा से पूछताछ करने और पूरी पुलिस काररवाई के बाद उसे अदालत पर पेश कर के जिला जेल भेज दिया गया.

-कथा पुलिस सूत्रों पर आधारित

Tags:
COMMENT