इससे साफ पता चल रहा है कि उनका अपनी हरियाणवी भाषा से काफी लगाव है और वे चाहती हैं कि पूरे भारत में लोग हरियाणवी भाषा का सम्मान करें.