रेटिंग:ढाई स्टार

किसी कहानी या नाटक को सिनेमा के परदे पर उतरना आसान नही होता. दिग्गज फिल्मकार भी इस तरह की फिल्म बनाते समय असफल हो जाते हैं. ऐसे में एक पन्ने की कहानी ‘‘नमक स्वाद अनुसार’’ पर नवोदित फिल्मकार अभिनव ठाकुर से बहुत ज्यादा उम्मीद लगाना जायज नही है. फिर भी अभिनव ठाकुर कुछ कमियों के बावजूद फिल्म की विषय वस्तु को ‘सुहागरात’ तक सीमित रखते हुए कुछ मुद्दों को उकेरने के साथ ही कुछ संदेश देने की भी कोशिश की हैं.

फिल्म की कहानी समस्तीपुर मे रह रहे सत्यप्रकाश (प्रताप सौरभ सिंह) के भाई पवन (प्रदीप शर्मा ) से शुरू होती है, जो कि अपने दोस्त के मोबाइल पर फिल्म ‘‘कभी कभी’’ देख रहा है. इस फिल्म के एक दृश्य पर पवन अपने दोस्त से कहता है कि उसके भाई के साथ भी ऐसा कुछ हुआ था. फिर वह अपने दोस्त को अपने भाई सत्यप्रकाश की कहानी सुनाता है. सत्यप्रकाश की शादी उसके परिवार की सहमति से उसके फूफा (आलोकनाथ पाठक) दिल्ली में पढ़ी लिखी देविका (प्रीतिका चैहान) से कराते हैं. यह प्रेम विवाह है नहीं, इसलिए सत्यप्रकाश और देविका की मुलाकात सुहागरात की रात्रि में ही होती है. सुहागरात के लिए जाते समय उसके फूफा उसे कुछ पाठ पढ़ाकर व एक तेल देकर भेजते हैं. गांव की पृष्ठभूमि और छोटे शहर में पले बढ़े सत्यप्रकाश औरतों की बड़ी इज्जत करते हैं. सुहागरात की रात्रि में जब देविका को दूध के गिलास के साथ कुछ औरतें सत्यप्रकाश के कमरे में छोड़ जाती है, तो देविका सहमी सी घूंघट निकाल कर पलंग पर बैठ जाती है.

सत्यप्रकाश देविका से प्यार जताते  हुए सुहागरात मनाने की बजाय देविका से बडे़ प्यार से कहता है कि गर्मी बहुत है, आप चाहें तो अपना घूंघट हटा सकती हैं. पर देविका घूंघट नहीं हटाती वह तो चाहती है कि सत्यप्रकाश अपने हाथों से उसका घूंघट हटाए. पर सत्यप्रकाश तो देविका से बात करते हुए कहता है कि उसकी सोच यह है कि शादी हो जाने से देविका उसकी जागीर नही हो गयी. वह एक दूसरे को समझना चाहते हैं इसलिए बातचीत करने का प्रस्ताव रखकर अपनी बात कहना शुरू करता है. वह बात को आगे बढ़ाते हुए अपने कालेज के दिनो की प्रेम कहानियां सुनाता है कि उसके मेघा,रोजी सहित चार लड़कियों से संबंध रहे हैं. हर लड़की की सुंदरता आदि का विस्तार से वर्णन करता है. सत्यप्रकाश बताता है कि किस तरह उसने जब रोजी का हाथ पकड़ा था तो रोजी ने चांटा जड़ते हुए कह दिया था कि वह उस तरह की लड़की नहीं है.

एक लड़की से उसने प्यार किया और बात शादी तक पहुंची पर वह उसे ठुकरा कर चली गयी थी  जिससे उसके पुरूष मन को ठेस लगी थी. उसका ईगो हर्ट हुआ था. इसलिए जब मेघा से उसे प्यार हुआ तो उसने मेघा के संग शारीरिक संबंध बनाकर उसे अपनी जिंदगी से दूर कर दिया था जबकि मेघा तो उसके पैरों पर पड़कर गिड़गिड़ा रही थी. देविका,सत्यप्रकाश की बातें चुपचाप सुनती रहती है. फिर सत्यप्रकाश देविका से सवाल कर बैठता है कि वह तो दिल्ली में पढ़ी है जहां लड़के व लड़कियां एक साथ पढ़ते हैं. तो उसका भी कोई प्रेमी रहा होगा. काफी कुरेदने पर झुंझलाकर देविका कहती है कि ‘मेरा संबंध अपने ड्राइवर के साथ रहा है. तब वह सवाल कर बैठता है कि ड्राइवर के साथ उसका संबंध कितना था? उसने उसे कहां कहां छुआ था.. अंत में वह देविका को ‘टैक्सी’ कह देता है. तब देविका अपना घूंघट हटाने के साथ ही सारे जेवर उतार देती है और सोने का जतन करने लगती है. पर सत्यप्रकाश कहां चुप रहने वाला? तब देविका उठकर रात में ही सड़क पर चली जाती है और सुहागरात नही मनाती. पर सत्यप्रकाश व पवन उसे वापस ले आते हैं. मगर सुबह जब सभी शादी के जश्न के बाद थके हुए सो रहे थे थे तभी देविका अपना बैग उठाकर चली जाती है.

सत्यप्रकाश उसके पैर पकड़कर उसे घर न छोड़ने के लिए कहता है. पर देविका पर इसका असर नहीं पड़ता. छह माह बाद पता चलता है कि देविका की शादी एक मैच्योर युवक देवेश(नयन रूपल) से होती है. सुहागरात के वक्त देवेश देश व समाज की प्रगति की बात करते हुए उसे उपहार देता है. उपहार लेकर जब देविका उसकी प्रशंसा करती है तब देवेश, देविका को ‘किस’ करना चाहता है पर देविका उसे रोक देती है. इस पर देवेश कहता है कि उसके साथ उसकी शादी हुई है और वह उसकी पत्नी है. तब देविका कहती है कि,‘शादी होने से वह उसकी जागीर नहीं हो गयी.’फिर देविका बिना सुहागरात मनाए ही बैग लेकर वहां से भी चली जाती है. दूसरे दिन समुद्र किनारे वह सिगरेट पीते हुए नजर आती है.

एक पन्ने की कहानी ‘‘नमक स्वाद अनुसार’’ पर बने नाटक ‘‘सुहागरात’’ को देखकर अभिनव ठाकुर ने हास्य फिल्म‘ ‘यह सुहाग रात इम्पौसिबल’’ बनाने का निर्णय लिया. उन्होंने इस फिल्म में कई मुद्दे उठाए हैं. मसलन-शादी एक इंसान नही बल्कि समाज तय करता है. शादी व्याह महज गुड्डे गुड़िया का खेल नहीं. गलत शादी नही करनी चाहिए. जब तक आप शादी के लिए मानसिक रूप से तैयार न हो शादी न करें. सुहागरात बातें करने के लिए नही होती. इसी तरह के मुद्दों के साथ फिल्मकार ने शादी को लेकर लोगों के मन में जो गलत धारणाएं है उन्हे खत्म कर उनकी सोच बदलने का प्रयास किया है. मगर कमजोर पटकथा के चलते वह इसमें सफल कम हुए हैं. यदि पटकथा पर थोड़ी मेहनत ज्यादा की जाती तो यह एक उम्दा फिल्म बन सकती थी. फिल्म में सुहागरात के समय सत्यप्रकाश ओर देविका के बीच की बातचीत को और अधिक रोचक बनाया जा सकता था.

इसके अलावा हास्य के नाम पर फूहड़ता ही परोसी गयी है. इतना ही नही फिल्म की कहानी की पृष्ठभूमि उत्तर भारत वह भी खास कर बिहार है, जबकि फिल्म को गुजरात में फिल्माया गया है तो निर्देशक व फिल्म के कला निर्देशक की गलती के चलते फिल्म के कुछ दृश्यों में गुजराती भाषा में लिखे हुए विज्ञापन व नाम पट नजर आते हैं. इस गलती की वजह फिल्म का बजट भी हो सकता है. फिल्म बहुत कम बजट में बनायी गयी है. इसके अलावा यदि फिल्म में कुछ नामचीन कलाकार होते तो फिल्मकार का मकसद पूरे होने में मदद मिल जाती.

जहां तक अभिनय का सवाल है तो फिल्म में सभी नवोदित कलाकार हैं. मगर सत्य प्रकाश के किरदार को जिस तरह से प्रताप सौरभ सिंह ने जीवंतता प्रदान की है उसे देखकर यह अहसास ही नहीं होता कि यह उनकी पहली फिल्म है. पवन के किरदार में प्रदीप शर्मा ने भी ठीक ठाक अभिनय किया है. मगर देविका के किरदार में प्रीतिका चैहाण काफी निराश करती हैं. उनके चेहरे पर कोई भाव ही नही आते. एकदम सपाट चेहरा… उन्हे यदि अभिनय के क्षेत्र मे आगे बढ़ना है तो काफी मेहनत करने की जरुरत है.

Tags:
COMMENT