बींद राजा को घोड़ी पर सवार देखा तो मैं ने उसे लाख समझाया कि यह भूल मत कर, उतर जा घोड़ी से पर उस ने मेरी एक न सुनी. आज जब उस का मातिमी चेहरा देखा तो मुझे उस की हालत पर बहुत अफसोस हुआ.

'सरस सलिल' पर आप पढ़ सकते हैं 10 आर्टिकल बिलकुल फ्री , अनलिमिटेड पढ़ने के लिए Subscribe Now