होटल से छलांग लगा कर चांदनी दरिंदों के चंगुल से तो बच गई लेकिन शायद जिंदगीभर के लिए हौस्पिटलाइज्ड हो गई. इस के लिए उस की सहेली वर्षा अपराधबोध महसूस कर रही थी. वर्षा की इंसानियत से प्रभावित हो कर डाक्टर मृणाल ने भी अपनी महानता का सुबूत पेश कर दिया.

अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now