ड्राइवर की नौकरी करते हुए अशोक ने अपना ड्राइविंग का शौक तो पूरा कर लिया. लेकिन कहीं न कहीं उस के मन में अधिक धन कमाने की लालसा छिपी थी.