लेखक: शकीला एस हुसैन

उन दिनों मैं जिला गुजरांवाला के थाना सदर में तैनात था. मेरा थाना जीटी रोड के मोड़ पर था. सर्दी का मौसम था. मैं

जब थाने पहुंचा तो 2 लोग मेरे इंतजार में बैठे मिले. उन्होंने खबर दी कि नहर के किनारे एक लाश बरामद हुई है.

जिन दिनों अपर चिनाब नहर अपने किनारों तक भर कर बह रही होती है, उस वक्त उस की गहराई करीब 20 फीट होती है. मैं फौरन एएसआई नबी बख्श और एक हवलदार को ले कर मौकाएवारदात पर पहुंच गया. मेरी तजुर्बेकार निगाहों ने लाश को देखने के बाद अंदाजा लगा लिया कि मृतक को एक झटके में मौत के घाट उतारा गया है.

कातिल जो भी था, पहलवान या कबड्डी का अच्छा खिलाड़ी था, क्योंकि मकतूल को गरदन का मनका तोड़ कर मौत के घाट उतारा गया था. यह टैक्निक किसी आम आदमी के बस की बात नहीं है. मकतूल की उम्र 30 के आसपास थी. वह मजबूत जिस्म का स्मार्ट आदमी था, शानदार मूंछों वाला. उस के बदन पर गरम लिबास था, स्वेटर भी पहन रखा था.

पूरी तरह से तलाशी लेने के बाद मृतक के कपड़ों में ऐसी कोई चीज नहीं मिल सकी जो काम की होती. उस के जिस्म पर कोई जख्म भी नहीं था. अब तक वहां काफी लोग जमा हो चुके थे. मैं ने सभी से लाश के बारे में पूछा, लेकिन कोई भी उसे नहीं पहचान सका. एक बूढ़े आदमी ने गौर से देखने के बाद कहा, ‘‘सरकार, मैं इसे पहचनता हूं. मैं ने इसे देखा है. यह फरीदपुर के चौधरी सिकंदर अली के यहां काम करता था.’’

मैं चौधरी सिकंदर को जानता था. उस से 2-3 मुलाकातें हो चुकी थीं. अच्छा आदमी था. कुछ अरसे पहले उसे फालिज का अटैक हुआ था. तब से वह बिस्तर का हो कर रह गया था. मैं ने हवलदार को लाश के पास छोड़ा और खुद घोड़े पर सवार हो कर एएसआई के साथ फरीदपुर रवाना हो गया. मैं ने हवलदार को कह दिया था कि लाश को पोस्टमार्टम के लिए सरकारी अस्पताल भेजने का बंदोबस्त कर ले.

फरीदपुर वहां से करीब 8 मील दूर था. हम घोड़ों पर सवार थे. अभी हम ने कुछ ही रास्ता तय किया था कि सामने से 2-3 घुड़सवार आते दिखाई दिए. हम उन्हें देख कर रुक गए. मैं ने उन से पूछा, ‘‘क्या बात है, तुम लोग कहां जा रहे हो?’’

‘‘हम लोग आप के पास ही आ रहे थे. आप को हमारे साथ चलना पड़ेगा. बड़ा हादसा हो गया है.’’ एक नौजवान ने कहा.

‘‘कहां चलना पड़ेगा और क्यों?’’

‘‘फरीदपुर, सरकार. वहां के चौधरी का किसी ने कत्ल कर दिया है. हम यही खबर ले कर आए थे.’’

‘‘तुम चौधरी सिकंदर की बात कर रहे हो?’’

‘‘नहीं जनाब, उन्हें कौन कत्ल करेगा. हम उन के बेटे चौधरी रुस्तम की बात कर रहे हैं.’’ उसी नौजवान ने जिस का नाम राशिद था, जवाब दिया.

‘‘किस ने कत्ल किया है और कब?’’

‘‘कातिल के बारे में तो कुछ पता नहीं सरकार. घटना पिछली रात की है. छोटे चौधरी साहब की लाश उधर डेरे पर पड़ी हुई है.’’

सरस सलिल विशेष

फरीदपुर छोटा सा गांव था. 60-70 घरों की आबादी वाला. मैं ने राशिद से पूछा, ‘‘इस हादसे के बाद से फरीदपुर से कोई गायब है क्या?’’

‘‘हां सरकार. आप को कैसे पता लगा? कल रात से कादिर गायब है. उस की ड्यूटी डेरे पर छोटे चौधरी के साथ होती थी, पर रात को वह ड्यूटी पर पहुंचा ही नहीं.’’

‘‘अब वह पहुंचेगा भी नहीं. वह मारा जा चुका है. तुम लोग मेरे साथ नहर पर चलो और लाश पहचान कर तसदीक कर दो.’’

वे लोग मेरे साथ घटनास्थल पर आए. उन्होंने तसदीक कर दी कि लाश कादिर की थी जोकि छोटे चौधरी का खास आदमी था. मैं ने उन्हें बताया, ‘‘लाश नहर में बहती हुई आई है. किसी ने गरदन का मनका तोड़ कर उसे कत्ल किया है.’’

लाश को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा कर मैं उन लोगों के साथ फरीदपुर रवाना हो गया. चौधरी सिकंदर तो फालिज की वजह से बिस्तर पर पड़े थे. उन का एकलौता बेटा रुस्तम ही कामकाज देखता था. पहले हम डेरे पर पहुंचे. वे तीनों आदमी मेरे साथ  थे.

डेरा नहर के किनारे खेत के बीचोबीच बना था. इस में फलों के कुछ पेड़ भी लगे थे. यहां नीची छत वाले 3 कमरे थे. सामने बड़ा बरामदा था. डेरे के आसपास भी कुछ लोग खड़े हुए थे. डेरे के एक तरफ कुछ मवेशी बंधे थे.

राशिद मुझे उस कमरे में ले गया, जिस कमरे में लाश थी. यह देख कर मुझे हैरत हुई कि कमरा आलीशान बैडरूम का मंजर पेश कर रहा था. दीवार की एक साइड में बड़ा पलंग बिछा था और उस पर चौधरी की लाश पड़ी थी. मैं ने रुस्तम की लाश की बारीकी से जांच की.

चौधरी की खोपड़ी पर पीछे से किसी भारी चीज से वार किया गया था, जिस से सिर बुरी तरह जख्मी हो गया था. बिस्तर और कपड़े खून में भीगे हुए थे. वार इतना करारा था कि पड़ते ही चौधरी मर गया. उस के बाद मैं ने कमरे का जायजा लिया. मेज पर कच्ची शराब की बोतल और शराब से भरा एक गिलास रखा था. बोतल भी खुली हुई थी. इस का मतलब मकतूल मरने से पहले शराब पी रहा था. यह कमरा शायद अय्याशी के लिए ही बनाया गया था.

पलंग के नजदीक फर्श पर मुझे लाल हरी चूडि़यों के टुकड़े दिखाई दिए. मैं ने ऐहतियात से टुकड़े जमा कर लिए. इस का मतलब था चौधरी के साथ कोई औरत मौजूद थी. चूडि़यों के टुकड़े इस बात की गवाही दे रहे थे कि औरत अपनी मरजी से नहीं आई थी. उसे जबरदस्ती चौधरी की अय्याशी के लिए लाया गया था.

मेरे जहन में एक खयाल आया कि कहीं उस औरत ने ही तो चौधरी को मौत के घाट नहीं उतारा. यह मुमकिन भी था. मैं ने राशिद और ममदू से पूछा, ‘‘रात को चौधरी रुस्तम के साथ डेरे पर कौन था?’’

‘‘हुजूर, यहां तो सिर्फ कादिर ही होता है. पिछली रात भी वहीं था.’’

मैं ने टूटी हुई चूडि़यों की तरफ इशारा करते हुए पूछा, ‘‘यह औरत कौन थी, जिस की जबरदस्ती में चूडि़यां टूटी हैं?’’

‘‘जनाब हमारी बात का यकीन करें. हमें इस बारे में कुछ भी नहीं मालूम. कादिर जानता है. पर अब तो वह मर चुका है.’’

उन की बात में सच्चाई थी. रुस्तम एक अय्याश आदमी था. वह शराब के नशे में था और किसी औरत के साथ उस ने जबरदस्ती की थी. राशिद ने बताया, ‘‘चौधरी रुस्तम अकसर डेरे पर ही रातें गुजारता था. सुबहसवेरे वह हवेली पहुंच जाता था. पर आज जब वह हवेली नहीं पहुंचा तो चौधरी सिकंदर ने हमें यहां भेजा. यहां चौधरी रुस्तम की लाश मिली. हम ने फौरन आप को खबर की.’’

ये भी पढ़ें- ट्रस्ट एक प्रयास

उसी वक्त एएसआई लोहे का रेंच और पाना उठा लाया. उस पर खून और कुछ बाल चिपके हुए थे. यही आलाएकत्ल था, जिस की मार ने चौधरी का काम तमाम कर दिया. यह रेंच पाना पलंग के नीचे से बरामद हुआ था.

उसे ऐहतियात से रखने के बाद मैं ने राशिद से कहा, ‘‘जल्दी ही चौधरी की लाश को अस्पताल ले जाने का बंदोबस्त करो.’’

इस डेरे पर 3 कमरे थे. दूसरे कमरे में कादिर का मुकाम था. तीसरा कमरा स्टोर की तरह काम में आता था. कहीं से कोई भी काम की चीज बरामद नहीं हुई. मैं चौधरी सिकंदर के पास पहुंच गया. वह अपाहिज था. फालिज ने उसे बिस्तर से लगा दिया था. जवान बेटे की मौत ने उसे हिला कर रख दिया था.

मैं ने उसे तसल्ली दी और वादा किया कि मैं बहुत जल्द कातिल को गिरफ्तार कर लूंगा. वह रोते हुए बोला, ‘‘रुस्तम मेरा एकलौता बेटा था. मेरी तो नस्ल ही खत्म हो गई. उस की शादी का अरमान भी दिल में रह गया. उस से छोटी तीनों बहनों की शादियां हो गईं. बस यही रह गया था. मेरी बीवी का भी इंतकाल हो गया है. अब मैं बिलकुल तनहा रह गया.’’

मैं ने उसे तसल्ली दे कर डेरे के हाल सुनाए और पूछा, ‘‘आप को किसी पर शक है क्या?’’

‘‘नहीं जनाब. मुझे कुछ अंदाजा नहीं है.’’

‘‘कादिर को गरदन का मनका तोड़ कर ठिकाने लगाया गया था और लाश नहर में बहा दी गई थी, जबकि रुस्तम को खोपड़ी पर वार कर के खत्म किया गया था. यह किसी ऐसे इंसान का काम है जो दोनों से नफरत करता था. क्या आप फरीदपुर की तमाम औरतों को हवेली में जमा कर सकते हैं, साथ ही अगर आप के गांव में कोई पहलवान हो या कबड्डी का खिलाड़ी हो तो उसे भी बुलवाइए.’’

‘‘मैं अभी इंतजाम करता हूं. हमारे गांव में एक ही पहलवान है सादिक, जो गांव की शान और हमारा मान है. बड़ा ही भला आदमी है.’’

थोड़ी देर में गांव की सभी औरतें हवेली में पहुंच गईं. मैं ने चौधरी को बताया, ‘‘मुझे उस औरत की तलाश है जो रात को चौधरी रुस्तम के साथ डेरे पर मौजूद थी. उस की चूडि़यां टूटी थीं. उस के हाथ पर खरोंच या जख्म जरूर होगा.’’

मैं ने चौधरी को चूड़ी के टुकड़े भी दिखाए. मेरी बात सुन कर चौधरी सारा मामला समझ गया. मैं ने हवेली में बुलाई जाने वाली तमाम औरतों की कलाइयां बारीकी से चैक कीं पर किसी की कलाई पर ऐसा कोई निशान नहीं मिला. मुझे बताया गया बस एक औरत इस परेड में शामिल नहीं है, क्योंकि उसे बुखार है.

मैं ने उस औरत से मिलना जरूरी समझा. उसे सब नूरी मौसी कहते थे. मैं उस के घर पहुंचा. नूरी कोई 50 साल की मामूली शक्ल की औरत थी. उसे देख कर मेरी उम्मीद खत्म हो गई पर उस से बात करना जरूरी समझा. मैं ने उसे सारी बात बताई. उस ने अपनी कलाई आगे की.

मैं ने जल्दी से कहा, ‘‘नहीं नूरी मौसी, तुम्हारी कलाई चैक करने की जरूरत नहीं है. अगर तुम मुझे यह बता सकती हो कि रात चौधरी के डेरे पर कौन औरत थी, जिस ने चौधरी की जान ली तो बड़ी मेहरबानी होगी. वैसे मुझे एक मर्द की भी तलाश है जिस ने कादिर को मौत के घाट उतारा है.’’

नूरी बहुत समझदार औरत थी. सारी बात समझ गई. कहने लगी, ‘‘सरकार, मेरा अंदाजा है चौधरी के साथ जो औरत डेरे पर थी, वह जरूर बाहर की होगी. फरीदपुर की नहीं हो सकती. क्योंकि यहां आप ने सभी को चैक कर लिया है.’’

‘‘तुम्हारे इस अंदाजे की कोई वजह है?’’

‘‘जी सरकार, मैं ने कल दिन में 2 अजनबी औरतों को कादिर से बात करते देखा था.’’

नूरी की बात सुन कर आशा की एक किरण जगी. मैं ने जल्दी से पूछा, ‘‘तुम ने उन औरतों को कहां देखा था?’’

सरस सलिल विशेष

‘‘डेरे के करीब, नहर के किनारे.’’ उस ने जवाब दिया.

‘‘ओह. क्या तुम बता सकती हो कि वे क्या बातें कर रहे थे?’’

‘‘नहीं जनाब, मैं जरा फासले पर थी. बात नहीं सुन सकी. पर यह पक्का है वे फरीदपुर की नहीं थीं.’’

‘‘नूरी, तुम ने बड़े काम की बात बताई. मैं तुम्हारा शुक्रगुजार हूं. बस एक काम और करो, उन के हुलिए और कद के बारे में तफसील से बताओ जिस से उन्हें ढूंढने में आसानी हो जाए. तुम ने उन की शक्लें तो गौर से देखी होंगी?’’

‘‘जी देखी थीं. साहब वे 2 औरतें थीं. उस में से एक जवान 19-20 की होगी. लंबा कद, गोरा रंग, बड़ीबड़ी आंखें बहुत खूबसूरत थी. उस ने फूलदार सलवार कुरते पर काली शौल ओढ़ रखी थी. उस के साथ वाली औरत अधेड़ थी. काफी मोटी, कद छोटा, रंग सांवला बिलकुल फुटबाल जैसे लगती थी. उस की नाक पर एक मस्सा था. उस ने भूरे रंग का जोड़ा और नीला स्वेटर पहन रखा था.’’

शुक्रिया कह कर मैं उस के घर से निकल आया. फरीदपुर में मेरा काम करीबकरीब खत्म हो गया था. पहलवान सादिक से आज मुलाकात मुमकिन न थी. क्योंकि वह बाहर गया हुआ था.

अगले दिन सुबह मैं ने सरकारी फोटोग्राफर और आर्टिस्ट को थाने बुलवाया और उन दोनों औरतों का हुलिया बता कर स्केच बनाने को कहा. स्केच तैयार होने पर मैं ने उस स्केच के 10-12 प्रिंट बनवाए. साथ ही बताने वालों को भी जता दिया कि ये दोनों औरतें अगर कहीं भी दिखाई दें तो मुझे फौरन खबर करें.

फिर उन तसवीरों के आने पर मैं ने उन्हें जरूरी जगहों पर तलाश करने के लिए सिपाहियों की ड्यूटी लगा दी. शाम को दोनों पोस्टमार्टम शुदा लाशें थाने पहुंच गईं. दोनों की मौत का वक्त 10 और 11 बजे के बीच का था.

रुस्तम की मौत खोपड़ी पर लगने वाली करारी चोट से हुई थी, जब वह शराब के नशे में धुत था. रेंच पाने पर उसी का खून और बाल थे और कादिर की गरदन का मनका एक खास टैक्निक से तोड़ा गया था और फिर उसे नहर में डाल दिया गया था. मैं ने लाशें कफनदफन के लिए चौधरी साहब के यहां भिजवा दीं.

अब मुझे उन दोनों औरतों की तलाश थी. फोटो बन कर आ गए थे. सिपाही उन की तलाश में भटक रहे थे. दूसरे दिन शाम को एक सिपाही खबर ले कर आया कि इन दोनों औरतों को रेलवे प्लेटफार्म पर देखा गया है.

मैं फौरन रेलवे स्टेशन रवाना हो गया. स्टेशन मास्टर ने बड़ी गर्मजोशी से मेरा स्वागत किया. मैं ने उन दोनों औरतों के बारे में पूछताछ शुरू कर दी. उस ने बताया, ‘‘वह लड़की गलती से इस स्टेशन पर उतर गई थी. वह बहुत परेशान थी. उसी दौरान यह मोटी औरत उसे मिल गई. दोनों काफी देर तक एक बेंच पर बैठ कर बातें करती रहीं. उस के बाद मोटी औरत उस का हाथ पकड़ कर स्टेशन से बाहर ले गई. हो सकता है, वे एकदूसरे को जानती हों पर पक्का नहीं है.’’

मैं ने पूछा, ‘‘आप ने कहा वह लड़की गलती से उतर गई थी. वह जा कहां रही थी?’’

‘‘जिस गाड़ी से वह उतरी थी, वह रावलपिंडी से लाहौर जा रही थी. मुझे यह नहीं पता वह कहां जा रही थी क्योंकि मेरी उस से कोई बातचीत नहीं हुई थी. फिर वह मोटी औरत के साथ बाहर चली गई थी.’’

स्टेशन मास्टर का शुक्रिया अदा कर के मैं बाहर आ गया. जिन दिनों की यह बात है उन दिनों स्टेशन के बाहर मुश्किल से 2-3 तांगे खड़े रहते थे. मैं एक तांगे की तरफ बढ़ा. कोचवान बूढ़ा आदमी था. मैं ने उस से कहा, ‘‘चाचा, यह फोटो देख कर बताओ. मुझे इन दोनों की तलाश है. ये दोनों औरतें 3-4 दिन पहले स्टेशन से निकल कर तांगें में बैठ कर कहीं गई थीं. क्या तुम बता सकते हो वे किस के तांगे में गई थीं?’’

चाचा ने जवाब दिया, ‘‘14 तारीख को ये दोनों औरतें गुलाम अब्बास के तांगे में बैठ कर छछेरीवाल गई थीं, क्योंकि गुलाम अब्बास का रूट स्टेशन से छछेरीवाल तक ही जाता है क्योंकि वह खुद वहीं रहता है.’’

मैं ने कहा, ‘‘चाचा, हमें छछेरीवाल ही जाना है और गुलाम अब्बास से मिलना है.’’

मैं अपने 2 सिपाहियों के साथ छछेरीवाल रवाना हो गया. वह हमें सीधे गुलाम अब्बास के घर ले गया. मैं पुलिस की वरदी में था. पहले तो वह घबरा गया. मैं ने दोनों फोटो दिखा कर उन औरतों के बारे में पूछा तो वह फौरन ही बोला, ‘‘जी सरकार, इन दोनों औरतों को 14 दिसंबर की दोपहर रेलवे स्टेशन से छछेरीवाल लाया था. इस में से मोटी औरत को मैं जानता हूं. इस का नाम गुलशन है. सब इसे गुलशन आंटी कहते हैं पर वह गोरी खूबसूरत लड़की मेरे लिए नई थी.’’

ये भी पढ़ें- विदाई

उस ने हमें गुलशन के घर का पता बता दिया. हम वहां पहुंचे. घर के बाहर एक गंजा बूढ़ा आदमी फल और सब्जी का ठेला लगाए बैठा था. उस ने जल्दी से हमें सलाम किया. मैं ने उस से गुलशन आंटी के बारे में पूछा. वह बोला, ‘‘गुलशन मेरी बीवी है.’’

मैं उस के साथ घर के अंदर गया. धीरे से उस ने पूछा, ‘‘हुजूर, कुछ गलती हो गई है क्या?’’

‘‘हां, एक केस में उस से पूछताछ करनी है.’’ वह बड़बड़ाया, ‘‘वह जरूर फिर कोई कमीनी हरकत कर के आई होगी.’’

‘‘क्या तुम्हारी बीवी हमेशा कोई लफड़े करती रहती है?’’

‘‘बस सरकार, वह ऐसी ही है मेरी कहां सुनती है.’’

उसी वक्त अंदर के कमरे से एक तेज आवाज आई, ‘‘तुम्हारा दिल दुकान पर नहीं लगता. घर में क्यों चले आते हो?’’

मैं ने कहा, ‘‘इसे बाहर बुलाओ.’’

उस ने उसे आवाज दी, ‘‘गुलशन बाहर आओ. तुम से मिलने कोई आया है.’’

घर का दरवाजा एक झटके से खोल कर जो औरत बाहर आई, वह गोलमटोल, 45 साल की औरत थी. उस के चेहरे पर चालाकी और कमीनापन झलक रहा था. हमें देखते ही उस ने दरवाजा बंद करना चाहा. मैं ने पांव अड़ा दिया और तेज लहजे में कहा, ‘‘गुलशन, सीधेसीधे हमारे सवालों के जवाब दो. नहीं तो मैं हथकड़ी डाल कर ले जाऊंगा.’’

मेरी धमकी का असर हुआ. वह हमें अंदर ले गई जहां 2 पलंग बिछे थे. हम उन पर बैठ गए.

‘‘गुलशन, 24 दिसंबर को जो लड़की तुम्हारे साथ तुम्हारे घर आई थी, वह कहां है?’’

‘‘कौन सी लड़की सरकार?’’

सिपाही ने फौरन ही फोटो निकाल कर उस के सामने रख दिया.

‘‘अच्छा! आप इस की बात कर रहे हैं. यह तो फरजाना है. मेरी रिश्ते की भांजी.’’ वह मजबूत लहजे में बोली, ‘‘वे लोग लालामूसा में रहते हैं. फरजाना मुझ से मिलने आई थी. मैं उसे लेने रेलवे स्टेशन गई थी.’’

मैं समझ गया, वह सरासर झूठ बोल रही है. मैं ने उस के आदमी से पूछा, ‘‘तुम कभी फरजाना से मिलने लालामूसा गए हो?’’

वह हड़बड़ा गया, ‘‘नहीं…हां…जी…नहीं…’’

अब मैं गुलशन की तरफ बढ़ा और डांट कर कहा, ‘‘देखो गुलशन, तुम सच बोल दो उसी में भलाई है. वरना मैं तुम से बहुत बुरी तरह पेश आऊंगा. जिस लड़की को तुम अपनी भांजी बता रही हो, उस से तुम स्टेशन पर पहली बार मिली थी. उस से तुम्हारा कोई रिश्ता नहीं है. अगर होता तो तुम हरगिज उसे कादिर के हवाले नहीं करती. तुम्हें अंदाजा भी नहीं है कि फरीदपुर में कैसी कयामत बरपी है. तुम जिस लड़की को बहलाफुसला कर अपने साथ लाई थीं, 2 रोज बाद उसे तुम ने कादिर के हवाले कर दिया.’’

‘‘मैं किसी कादिर को नहीं जानती.’’

‘‘बकवास बंद करो. तुम बहुत ढीठ और बेशर्म औरत हो. थाने जा कर तुम्हारी जुबान खुलेगी.’’

उसे भी तांगे में बैठा कर हम थाने आ गए. मैं ने एक हवलदार को बुला कर गुलशन को उस के हवाले करते हुए कहा, ‘‘यह आंटी गुलशन हैं. इन्होंने एक लड़की चौधरी रुस्तम के डेरे पर भिजवाई थी, पर अब गूंगी हो गई हैं. तुम्हें रात भर में इसे अच्छा करना है. तुम्हारे पास जुबान खुलवाने के जितने मंत्र हैं, सब आजमा लो.’’

वह गुलशन आंटी को ले कर चला गया. उसी वक्त सादिक पहलवान मुझ से मिलने पहुंचा. ऊंचा पूरा मजबूत काठी का आदमी था. चेहरे से ही शराफत टपकती थी. मैं ने उस से काफी पूछताछ की.

सब से बड़ी बात यह थी कि वारदात के एक दिन पहले ही वह कुश्ती के मैच में शामिल होने दूसरे शहर चला गया था, जिस के कई गवाह थे. चौधरी सिकंदर के मुताबिक वह सच्चा और खरा आदमी था और फरीदपुर की शान था. वह 3 मैच जीत कर आया था. मैं ने उसे जाने दिया. शाम हो चुकी थी. मैं भी अपने क्वार्टर पर चला गया.

अगली सुबह तैयार हो कर मैं थाने पहुंचा. हवलदार ने खुशखबरी सुनाई कि आंटी गुलशन बोलने लगी है. मैं ने हवलदार से पूछा, ‘‘तुम ने मारपीट तो नहीं की न?’’

‘‘नहीं साहब, सिर्फ पेशाब लाने वाली दवा पिला दी थी और उसे बाथरूम नहीं जाने दिया. मजबूर हो कर उस ने जुबान खोल दी.’’

आंटी गुलशन ने बताया कि वह शहरशहर घूमने वाली औरत है. जब कोई मजबूर, बेबस लावारिस लड़की नजर आती, उस से हमदर्दी जता कर उसे अपने साथ छछेरीवाल ले आती. कुछ दिन खिलापिला कर उसे फरेब में रखती, फिर किसी ग्राहक को बेच देती और अपने पैसे खड़े कर लेती.

कादिर जैसे कई लोगों से उस की जानपहचान थी, जिन्हें वह लड़कियां सप्लाई करती थी. यह लड़की, जिस का नाम जबीन था, उस ने कादिर के हवाले की थी. कादिर पहले भी रुस्तम के लिए गुलशन से कई लड़कियां ले चुका था. जबीन गुलशन को गुजरांवाला रेलवे स्टेशन पर मिली थी. वह पहली नजर में ही पहचान गई कि वह उस का शिकार है.

वह उस के करीब जा कर बैठ गई. 10 मिनट में ही प्यार जता कर उस की असल कहानी मालूम कर ली. जबीन का ताल्लुक वजीराबाद से था. उस का बाप मर चुका था. उस की मां ने दूसरी शादी कर ली थी. सौतेला बाप उस पर बुरी नजर रखता था. कई बार उसे परेशान भी करता था.

जब उस ने मां से शिकायत की तो मां ने उलटा उसे ही मुजरिम ठहराया. तंग आ कर जबीन घर से भाग निकली. जब वह ट्रेन से इस तरफ आ रही थी तो उसे महसूस हुआ कि एक आदमी उस का पीछा कर रहा है. घबरा कर वह अंजान स्टेशन पर उतर गई. वहीं उस की मुलाकात गुलशन से हुई.

सरस सलिल विशेष

गुलशन उसे अपनी मीठी बातों के जाल में फंसा कर अपने घर ले आई. 2 दिन उस की खूब खातिर की और फिर नौकरी दिलाने के बहाने कादिर के पास बेच कर आ गई. उस मासूम को इस छलकपट की खबर ही नहीं लगी.

मैं ने गुस्से से कहा, ‘‘तुम दुनिया की सब से कमीनी औरत हो. जिस इज्जत की हिफाजत के लिए जबीन ने अपना घर छोड़ा था, तुम ने झूठी मोहब्बत का फरेब दे कर उस की इज्जत को नीलाम कर दिया. मैं तुम्हें कठोर सजा दिलवाऊंगा.’’

वो मगरमच्छ के आंसू बहाने लगी, जिस का मुझ पर कोई असर नहीं हुआ.

‘‘तुम ने क्या कह कर उसे कादिर के हाथ बेचा था?’’

‘‘मैं ने कहा था यह मेरा भाई है. इस के 3-4 बच्चे हैं. इसे बच्चे संभालने के लिए एक औरत चाहिए. यह कह कर मैं ने उसे कादिर के हवाले कर दिया था. वह खुशीखुशी उस के साथ चली गई थी.’’

‘‘अब तुम्हारे पास बचाव का कोई रास्ता नहीं है. मैं तुम्हें मासूम लड़कियों की जिंदगी बरबाद करने के जुर्म में लंबे अरसे के लिए अंदर कर दूंगा.’’

दूसरे दिन मैं वजीराबाद रवाना हो गया. वहां मैं ने जबीन के सौतेले बाप और मां से मुलाकात की. उन लोगों को जबीन के बारे में कुछ पता नहीं था, न ही उन्हें उस की कोई फिक्र थी. उन लोगों ने उसे ढूंढने में भी कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई थी. पूछताछ कर के मैं वापस गुजरांवाला आ गया.

यहां भी मैं ने जबीन की काफी तलाश करवाई लेकिन कुछ पता नहीं चला. बाद में किसी ने मुझे बताया कि जिस दिन गुलशन ने जबीन को कादिर के हवाले किया था, उसी दिन से छछेरीवाल से जावेद नाम का एक नौजवान गायब है. वह कबड्डी का बहुत अच्छा खिलाड़ी था.

यह सुन कर मेरे दिमाग में बिजली सी चमकी. मेरी आंखों के सामने कादिर की गरदन टूटी लाश घूम गई. कादिर की गरदन का मनका जिस माहिर अंदाज में तोड़ा गया था, वह किसी पहलवान या कबड्डी के अच्छे खिलाड़ी का ही काम हो सकता था.

मैं ने छछेरीवाल में जावेद के जानने वाले लोगों से मिल कर अपने आर्टिस्ट से उस का स्केच बनवाया. उस के सहारे मैं ने जावेद की तलाश शुरू कर दी. 3 महीने गुजर गए.

मामला भी ठंडा पड़ गया. एक दिन अचानक मैं जावेद को ढूंढने में कामयाब हो गया. दरअसल, जावेद और जबीन ने शादी कर ली थी. एक दूरदराज इलाके में दोनों पुरसुकून जिंदगी गुजार रहे थे. जावेद का ताल्लुक छछेरीवाल से था. वह गुलशन के धंधे से अच्छी तरह से वाकिफ था. जब उस की नजर गुलशन के साथ आई जबीन पर पड़ी तो वह दिल हार बैठा. उस ने फैसला कर लिया कि वह इस मासूम लड़की की जिंदगी जरूर बचाएगा.

वह गुलशन की निगरानी करने लगा. जब गुलशन फरीदपुर से जबीन को कादिर के पास ले कर आई, जावेद उस का पीछा कर रहा था. पीछा करतेकरते ही वह रुस्तम के अड्डे पर पहुंच गया. वहीं छिप कर वह रुस्तम वाले बैडरूम में घुस गया और सही मौके का इंतजार करने लगा. रुस्तम को वहां किसी के होने का गुमान भी नहीं था. वह नशे में धुत था.

जब वह जबीन से जबरदस्ती करने लगा तो जावेद ने उसे सोचनेसमझने का मौका दिए बिना उस के सिर के पिछले हिस्से पर वजनी रेंच पाने से करारा वार किया, जिस से उस की मौत हो गई.

यह मंजर देख कर जबीन ने दरवाजे के बाहर दौड़ लगा दी. मारे डर के उसे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था.

बाहर कादिर मौजूद था. उस ने भी जबीन के पीछे दौड़ लगा दी. जावेद ने भी देर नहीं की. वह उन दोनों के पीछे दौड़ा. रेंच पाना वह रुस्तम के कमरे में पलंग के नीचे फेंक आया था. वे तीनों आगेपीछे दौड़ते हुए नजर के अंदर उतर गए.

जावेद जल्दी ही कादिर तक पहुंच गया और पलक झपकते ही एक झटके से उस ने कादिर की गरदन का मनका तोड़ डाला. पहले तो जबीन यह समझी कि यह वही आदमी है जो ट्रेन में उस का पीछा कर रहा था. पर जावेद ने उसे बताया कि उस ने उसे छछेरीवाल में देखा था और उस पर आशिक हो गया था.

यह सुन कर जबीन की जान में जान आई. जावेद के हाथों 2 कत्ल हो चुके थे. छछेरीवाल जाने का सवाल ही नहीं उठता था. उन दोनों ने मिल कर फैसला किया कि दोनों किसी दूरदराज इलाके में जा कर शादी कर के रहेंगे.

इन तमाम हालात में जबीन का कोई कुसूर नहीं था. वह तो खुद हालात और गमों की मारी हुई थी. गिरफ्तारी के वक्त वह उम्मीद से थी.

जावेद ने जो भी किया, जबीन की इज्जत बचाने के लिए किया था. उस ने 2 शैतानों का सफाया कर दिया था, जो इंसान के रूप में भेडि़ए थे. एक हिसाब से उन दोनों का मर जाना अच्छा था.

मेरी नजर में जावेद का कातिल होना हालात का तकाजा था. मैं ने जावेद के लिए क्या सजा चुनी, यह मैं आप को नहीं बताऊंगा. यह आप की जहानत के लिए एक चैलेंज है, खुद सोचें और फैसला करें.

Tags:
COMMENT