इस देश के लोग अभी भी इतने अंधविश्वासी हैं कि वे अखबारों, टैलीविजन चैनलों व ज्योतिषियों के बताए हुए भविष्यफल पर यकीन कर के अपना काम करते हैं.