देश की सीमा पर कश्मीर में बढ़ती आतंकी घटनायें और देश के अंदर बढ़ती नक्सलवादी घटनाओं को लेकर अब विरोधी ही नहीं, भाजपा के समर्थक भी केन्द्र सरकार के गृह मंत्रालय और केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से नाराज नजर आ रहे हैं. छत्तीसगढ में नक्सली हमले में 25 जवानों के शहीद होने और कश्मीर में स्कूली बच्चों के पत्थरबाजी में शामिल होने के कारण केन्द्र सरकार के असफल होने की बात सामने आ रही है. अब भाजपा के समर्थक भी सोशल मीडिया पर ऐसे संदेश देने लगे हैं कि गृह मंत्रालय आतंकवाद और नक्सलवाद को संभालने में असफल हो गया है. दबी जुबान में सोशल मीडिया में यह बात भी सामने आ रही है कि अगर गृह मंत्रालय इस तरह की घटनायें रोक नहीं सकता तो उसमें व्यापक फेरबदल की जरूरत है.

असल में भाजपा के समर्थक केन्द्र सरकार के असफल होने की बात को मानना नहीं चाहते, ऐसे में वह गृह मंत्रालय को निशाने पर ले रहे हैं. केवल छत्तीसगढ़ में ही फरवरी 2014 में 2 बार इस तरह की घटनायें घटी. दोनों घटनाओं में 22 से अधिक पुलिसकर्मियों की हत्या की गई थी. मार्च 2017 में 12 जवान मारे गये और 24 अप्रैल की घटना में 25 जवान शहीद हो गये. हर हमले के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह हमले को चुनौती के रूप में देखते हैं. इसके बाद फिर हमला हो जाता है. कुछ इसी तरह से कश्मीर में भी हो रहा है. कश्मीर में बच्चों के स्कूल लबें समय तक बंद रहे. इसके बाद खुले तो एक सप्ताह में ही स्कूली बच्चे वापस पत्थरबाजी करने लगे. तब सरकार को स्कूल फिर बंद करने पड़ गये.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरस सलिल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • अनगिनत लव स्टोरीज
  • पुरुषों की हेल्थ और लाइफ स्टाइल से जुड़े नए टिप्स
  • सेक्सुअल लाइफ से जुड़ी हर प्रॉब्लम का सोल्यूशन
  • सरस सलिल मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • समाज और देश से जुड़ी हर नई खबर
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...